Breaking News
Home / राजस्थान / टोंक / अतिक्रमियों के सामने संभागीय आयुक्त एवं जिला कलेक्टर के आदेष हुऐ हवा टोंक

अतिक्रमियों के सामने संभागीय आयुक्त एवं जिला कलेक्टर के आदेष हुऐ हवा टोंक

निवाई तहसील क्षेत्र के गांव में सरकारी भूमि पर अतिक्रमण के मामले में संभागीय आयुक्त अजमेर एवं जिला कलेक्टर टोंक के आदेश भी हवा होते दिखाई दे रहे हैं।

ग्राम मण्डालियां के प्रभूलाल गुर्जर, रामचन्द्र, बन्नालाल, प्रेमप्रकाष सहित एक दर्जन ग्रामीणों ने जिला कलेक्टर एवं उपखण्ड अधिकारी को अलग अलग पत्र लिखकर बताया कि ग्राम में खसरा न. 571/1 में होकर सडक के सहारे खसरा नम्बर 571/2 व 554 के पूर्वी और स्थित मेड के सहारे सहारे दक्षिण की और खसरा न. 553 के पष्चिमी कौने में से होते हुए अन्य किसान अपने अपने खेतों पर आते जाते रहे हैं। लेकिन ग्राम के ही प्रभावषाली एवं दबंग अतिक्रमियों द्वारा आम रास्ते पर अतिक्रमण कर रास्ते को बंद कर दिया गया। ग्रामीणों ने अतिक्रमी से आम रास्ते के लिए जगह देने का आग्रह किया तो वो लड़ाई झगड़े पर उतारू हो गये।

ग्रामीणों ने बताया कि यह आम रास्ता गौचर भूमि मंे है जो पूर्व में बीसलपुर विस्थापितों के लिए आरक्षित भूमि हैं। ग्रामीणों की शिकायत पर 28 जुलाई को अजमेर संभागीय आयुक्त डा. अजय आरूषि मलिक ने तहसीलदार एवं उपखण्ड़ प्रषासन को सरकारी भूमि पर कोई भी प्रभावषाली अतिक्रमी हो तो उसे बल पूवर्क हटाने के निर्देश दिये थे। जिला कलेक्टर गौरव अग्रवाल ने भी बैठकों में सभी तहसीलदारों एवं उखण्ड अधिकारियों को बार बार सरकारी भूमि से अतिक्रमियों को बेदखल करने के निर्देष दिये। लेकिन उपखण्ड स्तर पर प्रषासन की बेरूखी के कारण आज तक भी आम रास्त अतिक्रमियों से मुक्त नहीं हो पाया है।

Check Also

टोंक जेल में चौथ वसुली को लेकर की शिकायत टोंक

जिला कारागृह टोंक में बंद बंदियों के परिजनों ने जिला कलेक्टर एवं जिला पुलिस अधीक्षक …