Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / मथुरा / अहोई अष्टमी मैला में आखिर नही रही प्रशाशन की देखरेख |

अहोई अष्टमी मैला में आखिर नही रही प्रशाशन की देखरेख |

अहोई अष्टमी मैला में आखिर नही रही प्रशाशन की देखरेख

आखिर नहीं रही इस बार अहोई अष्टमी पर प्रशासन की देखरेख श्रद्धालु भक्त पानी में उतरने से कतराते नजर आए और उनकी आस्था को ठेस पहुंचा निसंतान संतान प्राप्ति के लिए कहा जाने वाला अहोई अष्टमी मेला यहां दूर दराज से आये लाखो श्रद्धालुओ ने पुत्र रत्न प्राप्ति के लिये आज 20 तारिक की रात्रि 12 बजे करीब की पूजा अर्चना वही लाखों भक्त डुबकी लगाये बिना ही आचमन लेते नजर आए और अपनी मनौती मांगी।।

एकर

      गिरिराज धाम गोवर्धन का पौराणिक राधारानी कुण्ड संतान प्राप्ति के लिये एक मात्र आस्था का केन्द्र है. मान्यता है कि इस पवित्र कुण्ड में राधारानी कृष्ण कुण्ड में कार्तिक मास की अष्टमी अद्धरात्रि को निसन्तान दम्पति राधारानी की विधिबिधान पूजा अर्चना कर कुण्ड में स्नान करेगा उसे पुत्र रत्न की प्राप्ति होती है. अहोई अष्टमी मेला में 20 तारिक की रात्रि लाखों श्रद्धालु भक्तों ने डुबकी लगाये बिना विधिवत पूजा-अर्चना कर जोड़े से स्नान के बिना आचमन लिया वही अपनी मनोकामना की मनौती मांगी आस्था का केन्द्र राधारानी कुण्ड प्रशासन की अनदेखी से उपेक्षा का शिकार है. कुण्ड के पानी में बहुतायत मात्रा में काई के अलावा कई जहरीले कीटाणु अभी तक पनप रहे है. कुण्ड का पानी आचमन के योग्य नहीं है कि जिसमें आस्थावान लाखों श्रद्धालु भक्त संतान प्राप्ति के लिये किस प्रकार स्नान भी नही किया. ये प्रशासन की कार्यशैली पर बड़ा सवाल है. कुण्ड के दूशित एवं जहरीले पानी को देख श्रद्धालु भक्तों की आस्था पर चोट पहुँची. सब कुछ जानते हुए भी प्रशासनिक अधिकारियों एवं प्रदूषण नियंत्रण विभाग ने इस पर कोई ध्यान देना उचित नहीं समझा है. राधारानी के कंगन से प्राकट्य राधारानी कुण्ड पर मान्यता के अनुसार संतान प्राप्ति की कामना लेकर कार्तिक मास की अष्टमी तथा अहोई अष्टमी अर्द्ध रात्रि स्नान पर्व लेने के लिये देश बिदेश से लाखों की संख्या में श्रद्धालु भक्त राधाकुण्ड आये है. 21 तारिक अष्टमी की रात्रि को राधारानी कुण्ड में लाखों श्रद्धालु भक्त स्नान पर्व लेंगे. लेकिन प्रशासन की तरफ से कोई इंतजामात धरातल पर नही कराये है. कुण्ड को जाने वाले मुख्य परिक्रमा मार्ग पर अतिक्रमण जमा हुआ है. भीड़ का दवाव बढने पर श्रद्धालु भक्त नालियों में गिरकर चोटिल होगे. कुण्ड के पानी में काई तैर रही है तथा घाट भी काई से लतपथ नजर आ रहे है। अगोई अष्टमी मेला की अव्यवस्थाऐं प्रशासन की नाकामी वयां कर रही है। अहोई अष्टमी स्नान के समय कुण्ड के घाटों पर लाखों की संख्या में श्रद्धालु भक्तों का सैलाव उमड़ा और श्रद्धालु भक्तों की आस्था को ठेस पहुंचा। ऐसे में कुण्ड के पानी तथा घाटों पर जमी काई से कोई भी बड़ा हादसा होने में कल के दिन में अब टाइम नही है यहां लाखों भक्त एक साथ रात्रि 12:00 बजते ही कुंड में जोड़े से डुबकी लगाते हैं वही लाखों भक्तों की आस्था को ठेस पहुंचते हुए भक्त छींटे मारते नजर आए और पानी से दूर हटते नजर आए यह तो प्रशासन के मौन होने का कारण क्या है आखिर क्यों नहीं कि प्रशासन ने कोई व्यवस्था लाखों श्रद्धालुओं के लिए

About Ravi Verma

Check Also

गिरिराज जी परिक्रमा करने आए श्रद्धालु जहर खुरानी का शिकार |

गोवर्धन गिरिराज महाराज की परिक्रमा करने आए चंडीगढ़ निवासी 4 श्रद्धालुओं को जहर खुरानी गिरोह …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *