Home / उत्तराखंड / चमोली / आजादी के 72 साल बाद भी रोड की व्यवस्था – चमोली

आजादी के 72 साल बाद भी रोड की व्यवस्था – चमोली

आजादी के 72 साल बाद भी रोड की व्यवस्था नही

चमोली जिले में स्थित जोशीमठ बड़ागांव जहां आजादी के 72 साल बाद भी रोड की व्यवस्था ना हो पाई है बड़ागांव एक बहुत बड़ा क्षेत्र है बड़ागांव कहने को तो बहुत बड़ा गांव है लेकिन उसमें काफी छोटे-छोटे गांव सम्मिलित है उसमें से एक गांव ऐसा भी है जहां के लोग अभी भी परेशान है उस गांव में अभी भी रोड की व्यवस्था नहीं है वहां की स्थानीय लोगों का कहना है कि अगर कोई व्यक्ति या कोई महिला या बच्चा बीमार हो जाता है तो उसे पालकी में बिठा कर के हॉस्पिटल तक ले जाना पड़ता है सबसे ज्यादा परेशानी उन महिलाओं के लिए है जिनका डिलीवरी का समय होता है वैसे मैं वहां की महिलाओं को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है यह गांव रोड से 3:30 किलोमीटर नदी के पास है पैदल मार्ग है काफी चढ़ाई चलनी पड़ती है काफी दिक्कतों का सामना करते हैं यहां के क्षेत्रीय निवासी यहां के लोगों का कहना है कि अगर ज्यादा बारिश पड़ती है या ज्यादा बर्फबारी होती है गांव के ऊपर बड़े-बड़े चट्टान है और उस गांव में बड़े-बड़े पत्थर गिरते हैं लोग बारिश के समय में इकट्ठा होकर के कुछ समय के लिए गांव छोड़ देते हैं कई परिस्थिति का सामना करते हैं यह ग्राम वासी यहां के लोग अधिकांश खेती पर निर्भर है इस गांव के लोग सारे बेरोजगार हैं यह गांव भी बड़ा गांव के अंतर्गत आता है यहां पर जानवरों का खतरा भी हमेशा रहता है सबसे ज्यादा खतरा तो यहां के छोटे बच्चों को है जो विद्यालय के लिए रोज आते हैं काफी मुश्किलों का सामना करते हैं यहां के लोग जोशीमठ चमोली से नवीन भंडारी की रिपोर्ट

Support us

कोई भी मीडिया हो उन्हें कभी फंड की चिंता नहीं करनी पड़ती क्यूंकि लोकतंत्र को बचाने के नाम पर उन्हें विभिन्न स्रोतों से पैसा मिलता है। लेकिन हमें सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके समर्थन की आवश्यकता है। आपसे जितना हो सके हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Donate with

Check Also

हंस फाउंडेशन दे रहा है जोशीमठ के सभी गांव में अपनी सेवा

हंस फाउंडेशन हेल्प एज संस्था आज से अपनी पूर्ण सेवा जोशीमठ के सभी गांव में …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *