Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / आरोपियों के खिलाफ एमपी-एमएलए कोर्ट से चल रहा था वारंट – सुलतानपुर

आरोपियों के खिलाफ एमपी-एमएलए कोर्ट से चल रहा था वारंट – सुलतानपुर

विधायक सहित अन्य आरोपी घंटो रहे कोर्ट कस्टडी में,सशर्त रिहा

सभी आरोपियों के खिलाफ एमपी-एमएलए कोर्ट से चल रहा था वारंट

अदालत ने अगली पेशी पर विवेचक सहित अन्य गवाहो को किया तलब

सुलतानपुर, गैंगस्टर,मारपीट एवं आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन समेत अन्य आरोपों से जुड़े तीन मामलों में वारंट पर चल रहे सपा विधायक राकेश प्रताप सिंह समेत 11 आरोपियों ने एमपी-एमएलए कोर्ट में हाजिर होकर रिकाल अर्जी दी। जिस पर सुनवाई के पश्चात स्पेशल जज ने उन्हें सशर्त राहत दी है। इस दौरान विधायक व अन्य आरोपी घंटो कोर्ट कस्टडी में खड़े रहे। मामला गौरीगंज व मुंशीगंज थाना क्षेत्र से जुड़ा हुआ है। गौरीगंज थाने से जुड़े आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन समेत अन्य आरोपों से जुड़े केस में तत्कालीन थानाध्यक्ष बृजेंद्र नाथ शुक्ला ने 25 अक्टूबर 2008 को राकेश प्रताप सिंह समेत अन्य के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। इसी थाने से जुड़े दूसरे मामले में 31 दिसम्बर 2010 को तत्कालीन थानाध्यक्ष अनंत प्रसाद ने राकेश प्रताप सिंह सहित चार के विरुद्ध गैंगस्टर एक्ट के अंतर्गत मुकदमा दर्ज कराया था। तीसरे मामले में मुंशीगंज थाना क्षेत्र की घटना बताते हुए अभियोगी राजेश तिवारी ने राकेश प्रताप सिंह सहित दो लोगों के विरुद्ध मारपीट का मामला दिखाते हुए एनसीआर दर्ज कराया था। इन सभी मामलो का विचारण स्पेशल जज एमपी-एमएलए की अदालत में चल रहा है। सभी आरोपियों के विरुद्ध इन मामलो में जमानतीय वारंट चल रहा था। मंगलवार को विधायक राकेश प्रताप सिंह सहआरोपी राकेश कुमार मिश्र,उदयभान,दीपक सिंह,दिनेश कुमार,वीरेंद्र श्रीवास्तव,काशी सिंह,रिंकू पांडेय,उमेश सिंह,अखिलेश सिंह,पूरन सिंह ने कोर्ट में हाजिर होकर अपने विरुद्ध जारी वारंट को निरस्त कराने की मांग को लेकर अर्जी दी। बचाव पक्ष के अधिवक्ता रुद्र प्रताप सिंह मदन ने इलाहाबाद से मामला सुलतानपुर जिले में ट्रांसफर होने के बाद तिथि की जानकारी न होने के चलते पेशी पर हाजिर न हो पाने का तर्क रखा,वहीं अभियोजन पक्ष से पैरवी कर रहे शासकीय अधिवक्ता राघवेंद्र विक्त्रम सिंह ने अर्जी पर विरोध जताते हुए उचित आदेश की मांग की। उभय पक्षों को सुनने के पश्चात स्पेशल जज एमपी-एमएलए ने विधायक सहित अन्य आरोपियों को सशर्त रिहा किये जाने का आदेश दिया। वहीं अदालत ने आगामी दो जनवरी के लिए मामले से जुड़े वादी,चिकित्सक एवं विवेचक को साक्ष्य के लिए तलब किया है।

About Deepak Dubey

www.ggcportal.com

Check Also

सीएम योगी आदित्यनाथ के पिता का निधन, 89 साल की उम्र में ली आखिरी सांस

सीएम योगी आदित्यनाथ के पिता का निधन, 89 साल की उम्र में ली आखिरी सांस …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *