Home / राजस्थान / करौली / आस्था धाम में एनजीटी के प्रति ग्रामीणों में भारी रोष |

आस्था धाम में एनजीटी के प्रति ग्रामीणों में भारी रोष |

आस्था धाम में एनजीटी  के प्रति ग्रामीणों में भारी रोष पुलिस उप अधीक्षक को ज्ञापन सौंप कार्यवाही नहीं होने पर आंदोलन की 

करौली जिले के प्रसिद्ध आस्था धाम कैलादेवी में N,G,T, की आड़ में वन विभाग द्वारा स्टेंट समय से खसरा नंबर 2879,व2865, में वसी हुईं आवादी को राठौरी ताकत दिखाकर लौगो को परेशान किया जा रहा है,क्यौ heकि यह वेशकिमतीजमीन है,जिसे वनविभाग n,G,t, की आड़ में रेवनयू तहशील की जमीन को हड़पना चाह रहा है, जबकि उक्त जमीन पर हुऐं निर्माणों पर हमेशा तहशील पटवारी द्वारा हीं नोटिस दिया जाता रहा है, जबकि वन बिभाग द्वारा कभी भी किसी निर्माण कार्य को नहीं रोका गया वर्ना इतनी आबादी कैसे बसजाती क्यौकि खसरा नंबर 2879, में 88,वीघा पक्की जमीन में से रेवन्यू विभाग ने 65 वीघा जमीन वन बिभाग को दी थी, और वन बिभाग ने अपनी सीमा में कच्चा परकोटा बना लिया था,जो आज मौजूद है , तथा वन बिभाग की सीमा को आज भी दर्शाता आ रहा है। और वाकी बचीं हुईं 23 वीघा पक्की जमीन में से 10 वीघा जमीन खातेदारी की है, और 13,वीघा पक्की जमीन सवाईचक है जिसमें बहुत पहले से आबादी बसी हुई है एवं प्रशासन व आम जनता को भी अवगत होना चाहिए कि इसी खसरा नंबर में रियायत कालीन से गधों का मेला भरता है ,जो आज भी प्रति बर्ष भादो के माह में भर रहा है, तथा अखिल भारतीय कुम्हार महासभा के समाज की धर्मशाला भी इसी खसरा नंबर में रियायत कालीन से बनी हुई है, तथा सैकड़ों घरों की आबादी व धर्मशालाएं इसी खसरा नंबर 2879, में मौजूद हैं एवं इसी खसरा नंबर में आदीकाल से मॉं काली का मन्दिर व मॉं कैला के चरण स्थित हैं ॥ एवं आदि काल से हिन्दुओं की कुल देवी कैला मैया का मन्दिर स्थित है जहां पर रोज हजारों भक्त मैया के दर्शनो को आते है , तथा मैया की सेवा पूजा करने के लिए पंडित,गुसाई कर्मचारियों व यात्रियों को ठहरने के लिए मठ,क्वाटर, धर्मशाला,और आवादी, आदि काल से मौजूद हैं, जो वन विभाग अपना क्षेत्र, बताकर अपनी मनमानी कर रहा है,वन विभाग का गठन तो आजाद देश के बाद लगभग 1970, के दशक में हुआ है,जबकि वन विभाग के गठन के समय भारत सरकार का ये भी कानून पारित हुआ कि आबादी व दर्शनार्थियों से वन विभाग की सीमा 3, किलोमीटर दूर हो जिससे किसी प्राणी को कोइ नुकसान नहीं हो, जबकि यह क्षेत्र तो खुंखार जंगली जानवरों से भरा पड़ा है,तवभी वन विभाग आबादी व मंदिर की तरफ़ बढ़ता आ रहा है, तथा अपनी सीमा को पार कर नाजायज लौगो को परेशान कर रहा है, अतःरेवनयू विभाग के प्रशाशन से आम जनता का निवेदन है ,कि वन विभाग को अपनी लक्ष्मण रेखा दिखा दो, वर्ना कैलादेवी की जनता अब जाग चुकी है। इस दौरान ग्राम पंचायत व थाना प्रभारी व उपाधीक्षक महोदय को ज्ञापन देते हुए इस दौरान बीजेपी कैलादेवी मंडल अध्यक्ष राजेश पाल ने बताया कि हमारी सुनवाई जल्द से जल्द नहीं कि तो मजबूरन कैलादेवी ग्रामीणों को आदौलन करने पर मजबूर होना पढेगा इस कि जिम्मेदार जिला प्रशासन कि होगी इस मौके पर मौजूद लोग राजेश पाल केदार किरोड़ी भक्त राजू मीना डालचंद राजू जंगम आदि मौजूद थे |

Support us

कोई भी मीडिया हो उन्हें कभी फंड की चिंता नहीं करनी पड़ती क्यूंकि लोकतंत्र को बचाने के नाम पर उन्हें विभिन्न स्रोतों से पैसा मिलता है। लेकिन हमें सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके समर्थन की आवश्यकता है। आपसे जितना हो सके हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Donate with

Check Also

बाजारों में भीड़, कैसे हारेगा कोरोना

देवउठनी एकादशी के कारण इस समय बाजारों में जबरदस्त भीड़ उमड़ रही है। लोग बाजारों …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *