Home / उत्तराखंड / उत्तराखंड देवभूमि स्टोरी-उत्तराखंड

उत्तराखंड देवभूमि स्टोरी-उत्तराखंड

उत्तराखंड को देवभूमि भी कहते हैं यह सच है कि आज भी उत्तराखंड में कई ऐसे तीर्थ स्थल है जिन्हें शक्तिपीठ के नाम से भी जाना जाता है माना जाता है कि आज भी भक्तों को भगवान के दर्शन हो ही जाते हैं उत्तराखंड देवभूमि के नाम से भी जाना जाता है उत्तराखंड में चार धाम स्थित है आज भी लोगों की आस्था जिंदा है वैसे तो कहीं मंदिर है उत्तराखंड में जिनकी अलग-अलग मान्यता है उनमें से एक माता का मंदिर ऐसा भी है जहां भक्तों की कतार लगी होती है भक्तों का कहना है कि हम इस मंदिर में जो भी मांगते हैं हमारी मुराद हमेशा पूर्ण हुई है यह मंदिर जोशीमठ से 7 किलोमीटर आगे यानी कि भारत तिब्बत सीमा मोटर मार्ग पर बड़ागांव नाम का एक ऐसा क्षेत्र है जहां पर अनेकों देवी देवताओं के मंदिर स्थापित है यह माता का मंदिर आस्था का केंद्र है नवरात्रा में इस मंदिर में भक्तों की लंबी कतार देखने को मिलती है यह मंदिर रोड से 2 किलोमीटर पैदल मार्ग पर है अलग-अलग मान्यता है इस मंदिर की यहां के स्थानीय लोगों का कहना है कि पहले एक मूर्ति ऐसी जो गांव वालों को आवाज देती थी काफी सुंदर मंदिर सुंदर पहाड़ियों के बीच बसा हुआ मां भगवती का मंदिर जो भक्तों को आकर्षित करती है यह मंदिर 12 महीने खुला होता है कहीं मान्यता है इस मंदिर की मान्यता है कि इस मंदिर में आज तक कोई भी महात्मा या पुजारी एक रात भी नहीं रुक सकता है आज भी इस मंदिर में पूजा करने के लिए गांव का एक पूजा करने वाला रखा जाता है और वह पुजारी पूजा करने के बाद सीधे अपने घर की तरफ रुख कर लेता है माना जाता है कि आज तक वहां पर कोई नहीं रुक पाया जोशीमठ से नवीन भंडार की रिपोर्ट

Support us

कोई भी मीडिया हो उन्हें कभी फंड की चिंता नहीं करनी पड़ती क्यूंकि लोकतंत्र को बचाने के नाम पर उन्हें विभिन्न स्रोतों से पैसा मिलता है। लेकिन हमें सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके समर्थन की आवश्यकता है। आपसे जितना हो सके हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Donate with

Check Also

जोशीमठ उत्तराखंड सरकार द्वारा चार धाम यात्रा शुरू किए जाने की घोषणा-मुख्यमंत्री

 चार धाम यात्रा जोशीमठ उत्तराखंड सरकार द्वारा चार धाम यात्रा शुरू किए जाने की …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *