Home / राजस्थान / राजसमंद / ऐतिहासिक धरोहरों का सहेज कर रखना हमारा नैतिक दायित्व-दिया कुमारी-राजसमन्द
ऐतिहासिक धरोहरों का सहेज कर रखना हमारा नैतिक दायित्व-दिया कुमारी-राजसमन्द
ऐतिहासिक धरोहरों का सहेज कर रखना हमारा नैतिक दायित्व-दिया कुमारी-राजसमन्द

ऐतिहासिक धरोहरों का सहेज कर रखना हमारा नैतिक दायित्व-दिया कुमारी-राजसमन्द

ऐतिहासिक धरोहरों का सहेज कर रखना हमारा नैतिक दायित्व-दिया कुमारी

राजसमन्द 20 जनवरी। सांसद दीयाकुमारी ने कहा कि ऐतिहासिक धरोहरों को सहेज कर रखना हमारा नैतिक दायित्व है। इन धरोहरों के माध्यम से नई पीढ़ी को देशभक्ति और राष्ट्र निर्माण का पाठ पढ़ाया जा सकता है।

राजस्थान सरकार के पर्यटन मंत्री विश्वेंद्र सिंह से मुलाकात करते हुए सांसद दीयाकुमारी ने कहा कि हल्दीघाटी, कुम्भलगढ़ और मीरा बाई के मेडता का इतिहास में खास महत्व है। इनके विकास और विस्तार के लिए केंद्र सरकार की योजनाओं से अवगत करते पर्यटन मंत्री को विशेष रूप से आग्रह किया कि इन ऐतिहासिक स्थलों के विकास के लिए केंद्र और राज्य सरकार के सामूहिक प्रयास की आवश्यकता है।

संसदीय क्षेत्र मीडिया संयोजक मधुप्रकाश लड्ढा ने बताया की रविवार को सवाई माधोपुर स्थापना दिवस के दौरान सांसद दीयाकुमारी ने राज्य के पर्यटन मंत्री विश्वेंद्र सिंह को कुम्भलगढ़ दुर्ग पर लाइट एवं साउंड शो को सुव्यवस्थित संचालित करवाने, कृष्णा सर्किट के अन्तर्गत नाथद्वारा एवं राजसमंद में वर्ष 2016-17 में स्वीकृत कार्यो को करवाने, मेड़ता में मीरा संग्रहालय में लाइट एंड साउंड शो सहित पुरातत्व संपत्ति के रखरखाव हेतु राशि स्वीकृत किये जाने, ऐतिहासिक हल्दीघाटी क्षेत्र व दिवेर को उसकी ख्याति अनुरूप सुविधा युक्त बनाये जाने के साथ ही प्रताप सर्किट योजना बनाये जाने के संबंध में विस्तार से चर्चा की। बातचीत के दौरान पर्यटन मंत्री विश्वेन्द्र सिंह ने जल्दी ही उचित समाधान निकाले जाने की बात कही।

Check Also

कांग्रेस पर लगाया हल्दीघाटी के अपमान का आरोप राजसमंद

राजसमन्द सांसद दीयाकुमारी ने कहा कि कांग्रेस सरकार के झोलाछाप इतिहासकारों ने महाराणा उदयसिंह, महाराणा …