Home / उत्तर प्रदेश / कानपुर / कानपुर : वायु और ध्वनि प्रदूषण ने छीना जानवरों का भी चैन, घुट रहा दम

कानपुर : वायु और ध्वनि प्रदूषण ने छीना जानवरों का भी चैन, घुट रहा दम

कानपुर।

 उत्तर प्रदेश में इन दिनों प्रदूषण ने कहर बरपा रखा है। इससे इंसान तो पहले ही परेशान थे, अब जानवरों के लिए भी काफी मुश्किल हो रही है। ताजा उदाहरण कानपुर के प्राणी उद्यान का है, जहां वायु प्रदूषण का असर वन्य जीवों पर भरपूर पड़ रहा है। कानपुर की आबोहवा इतनी खराब हो गई है कि इससे जानवरों का दम घुट रहा है। प्रदूषण के बढ़ते प्रकोप से जानवरों के अंदर धूल के कण जम रहे हैं।

कानपुर के जानवरों को सबसे ज्यादा दिक्कत वायु प्रदूषण और ध्वनि प्रदूषण से हो रही है। आम इंसान तो धूल से बचने के लिए मास्क लगा लेता है लेकिन जानवर तो मास्क भी नहीं लगा सकते हैं। जितने भी जानवर इन दिनों मर रहे हैं सबके फेफड़ों में धूल के कण और कार्बन की मात्रा काफी पाई जा रही है, इसी वजह से इनकी मौत हो रही है।

कानपुर के प्राणी उद्यान में तैनात पशु चिकित्साधिकारी आरके सिंह ने आईएएनएस को बताया कि प्रदूषण का असर कभी डायरेक्ट नहीं होता है। यह जैसे मनुष्य के शरीर में असर करता है, ठीक उसी प्रकार जानवरों के शरीर में धीरे-धीरे करता है। लेकिन हाल-फिलहाल प्रदूषण के कारण हमारे यहां कोई मौत नहीं हुई है। पिछले माह हमारे यहां एक बाघ अपनी आयु पूरी करके मरा था। उसके पोस्टमार्टम में उसके फेफड़े में धूल के अलावा अन्य कई बाहरी तत्व चिपके मिले थे।

इससे पहले जो मरे थे उनके भी शरीर में प्रदूषण का असर था। उन्होंने बताया कि बढ़ते ध्वनि प्रदूषण के कारण पर्वतीय भालू और गैंडे के जोड़े प्रजनन से दूर हो गए हैं। यह प्रजनन के लिए शांति पसंद करते हैं। लेकिन ध्वनि ज्यादा होने के कारण यह लोग अपने साथी से दूर हो गए हैं। शांति में इनके शरीर में अलग हार्मोन्स रिलीज होते हैं, जो प्रजनन में सहायक होते हैं, लेकिन शोर के कारण इनका रिसाव रुक जाता है।

चिडिय़ाघर के सहायक निदेशक एके सिंह ने कहा, इन दिनों कानपुर में वायु और ध्वनि प्रदूषण के कारण यहां की आबोहवा खराब हो गई है। इसका असर सीधा जानवरों पर पड़ रहा है। वे चिड़चिड़े हो रहे हैं या फिर सुस्त हो जा रहे हैं। यही नहीं यहां पर रातभर काम चलता है जिसके कारण होने वाले शोर से जानवर परेशान हो रहे हैं और यही नहीं काम के दौरान जलने वाली बड़ी बड़ी लाइट भी जानवरों को बहुत परेशान कर रही हैं।

रोडवेज का बसअड्डा और सिग्नेचर की बिल्डिंग बनने के कारण ध्वनि ज्यादा हो रही है, जो जानवरों के लिए नुकसानदायक है। यहां जो फ्लैट बन रहे हैं, उनसे रोग और प्रदूषण बढ़ेगा और जानवरों और मनुष्यों में परेशानी होगी। उन्होंने बताया कि केंद्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) ने काम रोका, लेकिन कुछ शर्तों के साथ काम दोबारा शुरू हो गया। इस बीच पिछले कुछ साल से सर्दियों के मौसम में होने वाले वायु और ध्वनि प्रदूषण लोगों को परेशान कर रहे हैं।

Support us

कोई भी मीडिया हो उन्हें कभी फंड की चिंता नहीं करनी पड़ती क्यूंकि लोकतंत्र को बचाने के नाम पर उन्हें विभिन्न स्रोतों से पैसा मिलता है। लेकिन हमें सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके समर्थन की आवश्यकता है। आपसे जितना हो सके हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Donate with

Check Also

आईजी मोहित अग्रवाल और कमिश्नर डॉक्टर सुधीर बोबडे ने हॉट स्पॉट क्षेत्रों का किया निरीक्षण-_कानपुर

आईजी मोहित अग्रवाल और कमिश्नर डॉक्टर सुधीर बोबडे ने हॉट स्पॉट क्षेत्रों का किया निरीक्षण। …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *