Breaking News
Home / अपराध / किरायेदारों का अब चरित्र सत्यापन अनिवार्य-अलवर

किरायेदारों का अब चरित्र सत्यापन अनिवार्य-अलवर

     किरायेदारों का अब चरित्र सत्यापन अनिवार्य, पालन नहीं करने वालों के विरुद्ध होगी कानूनी कार्यवाही.

       अलवर-नवनियुक्त पुलिस अधीक्षक तेजस्विनी गौतम ने कहा कि अलवर जिले में अब किरायेदारों व अन्य लोगों के लिए चरित्र सत्यापन आवश्यक है। उन्होंने कहा कि अलवर आवासीय रूप से काफी विस्तृत हो गया है। अपराधी इसका लाभ उठाकर यहां पनाह ले सकते हैं। यह आतंरिक सुरक्षा व्यवस्था के विपरीत है। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि मानव जीवन व लोक सुरक्षा की व्यवस्था के लिए किरायेदारों के छदम नाम पर असामाजिक तत्वों के छिपने एवं उनके आपराधिक मंसूबों पर नियंत्रण आवश्यक है।

क्षेत्र में निवासरत भू एवं भवन स्वामियों को किरायेदारों के बारे में आवश्यक सूचना प्राप्त करना जरूरी है। राजस्थान पुलिस अधिनियम 2007 की धारा 45 के अंतर्गत प्रदत्त शक्तियों के अनुसर में आदेशित करते हुए कहा कि अलवर जिले में निवासित भू व भवन के समस्त स्वामी व किरायेदार एवं अधिभोगी सम्बंधित थाना प्रभारी को सूचना दिये बिना परिसर को किराये या उप किराये पर नहीं दे सकेंगे। ऐसे व्यक्ति जो किराये पर भवन परिसर देना चाहते हैं या दिया हुआ है वे सभी मकान मालिक सम्बंधित थाना प्रभारी को निर्धारित प्रपत्र मे सूचना देगें। सूचना नहीं देने वाले मकान मालिक के खिलाफ कार्यवाही की जायेगी।

Support us

कोई भी मीडिया हो उन्हें कभी फंड की चिंता नहीं करनी पड़ती क्यूंकि लोकतंत्र को बचाने के नाम पर उन्हें विभिन्न स्रोतों से पैसा मिलता है। लेकिन हमें सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके समर्थन की आवश्यकता है। आपसे जितना हो सके हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Donate with

Check Also

मालपुरा में दो पक्षों में खूनी संघर्ष टोंक

टोंक स्थित मालपुरा में गाय बांधने को लेकर दो पक्षों में संघर्ष हो गया। झगड़ा …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *