Home / अपराध / किरायेदारों का अब चरित्र सत्यापन अनिवार्य-अलवर

किरायेदारों का अब चरित्र सत्यापन अनिवार्य-अलवर

     किरायेदारों का अब चरित्र सत्यापन अनिवार्य, पालन नहीं करने वालों के विरुद्ध होगी कानूनी कार्यवाही.

       अलवर-नवनियुक्त पुलिस अधीक्षक तेजस्विनी गौतम ने कहा कि अलवर जिले में अब किरायेदारों व अन्य लोगों के लिए चरित्र सत्यापन आवश्यक है। उन्होंने कहा कि अलवर आवासीय रूप से काफी विस्तृत हो गया है। अपराधी इसका लाभ उठाकर यहां पनाह ले सकते हैं। यह आतंरिक सुरक्षा व्यवस्था के विपरीत है। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि मानव जीवन व लोक सुरक्षा की व्यवस्था के लिए किरायेदारों के छदम नाम पर असामाजिक तत्वों के छिपने एवं उनके आपराधिक मंसूबों पर नियंत्रण आवश्यक है।

क्षेत्र में निवासरत भू एवं भवन स्वामियों को किरायेदारों के बारे में आवश्यक सूचना प्राप्त करना जरूरी है। राजस्थान पुलिस अधिनियम 2007 की धारा 45 के अंतर्गत प्रदत्त शक्तियों के अनुसर में आदेशित करते हुए कहा कि अलवर जिले में निवासित भू व भवन के समस्त स्वामी व किरायेदार एवं अधिभोगी सम्बंधित थाना प्रभारी को सूचना दिये बिना परिसर को किराये या उप किराये पर नहीं दे सकेंगे। ऐसे व्यक्ति जो किराये पर भवन परिसर देना चाहते हैं या दिया हुआ है वे सभी मकान मालिक सम्बंधित थाना प्रभारी को निर्धारित प्रपत्र मे सूचना देगें। सूचना नहीं देने वाले मकान मालिक के खिलाफ कार्यवाही की जायेगी।

Check Also

देवर ने भाभी से बनाए अवैध सम्बन्ध, कोरोना रिपोर्ट से हुआ खुलासा – अलवर

देवर ने भाभी से बनाए अवैध सम्बन्ध, फिर कोरोना रिपोर्ट आ गई पॉजिटिव, पति ने …