Breaking News
Home / राजस्थान / करौली / कोरोना के संक्रमण को रोकने हेतू किया जा रहा है होम आईसोलेशन

कोरोना के संक्रमण को रोकने हेतू किया जा रहा है होम आईसोलेशन

 कोरोना के संक्रमण को रोकने हेतू किया जा रहा है होम आईसोलेशन    

 ’होम कोरेन्टाइन का मतलब ये नहीं कि वे कोरोना प्रभावित हैं’

आमजन प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग का सहयोग करें, अफवाह न फैलाएं’

करौली। राज्य सरकार की ओर से दिए गए निर्देशों की पालना में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की ओर से विदेश से आए नागरिकों के घरों के आगे सूचना प्रदर्शित की जा रही है और उस घर को होम कोरेन्टाइन माना गया है। ताकि विदेश से आने के 14 दिन तक वह नागरिक घर में ही रहे और बाहर न जाए। 

सीएमएचओ डॉ. दिनेशचंद मीना ने बताया कि होम कोरेन्टाइन या आईसोलेशन का मतलब ये है कि इस घर में विदेश से आए ऐसे नागरिक ठहरे हैं जिन्हें अभी 14 दिन नहीं हुए। गाइडलाइन अनुसार उस व्यक्ति को विदेश से आने की तारीख से 14 दिन तक घर के एक कक्ष में ही रहना होगा और दूसरे सदस्यों से संपर्क नहीं करेगा। परिवार के अन्य सदस्य भी सावधानी बरतें एवं अनावश्यक बाहर न निकलें तथा अन्य लोगों को घर में न आने दें। घर के बाहर विभाग की ओर से सूचना इसलिए भी दर्शाई जा रही है ताकि नियमित भ्रमण करने वाली टीम एवं आमजन यह सुनिश्चित कर सकें कि यहां विदेश से आने वाला नागरिक कितने दिन से रूका है। उन्होंने बताया कि विदेश से आए हर नागरिक का हम सम्मान करते हैं एवं उनकी गरिमा का आमजन को भी ख्याल रखना चाहिए और किसी भी सूरत में अफवाह फैलाने से बचना चाहिए। सूचना लगाने का यह बिल्कुल मतलब नहीं है कि घर को सीज किया गया है या यहां कोई कोरोना प्रभावित है। यह आमजन के साथ ही उस परिवार को संक्रमण से बचाने के लिए एहतियातन कदम है जिसमें सभी का सहयोग अपेक्षित है। वहीं जो लोग इस संबंध में अफवाह फैला रहे हैं या होम कोरेन्टाइन की पालना नहीं कर रहे हैं उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

इस दौरान क्या करें

1.अपनी व्यक्तिगत स्वच्छता का ध्यान दें।

2.नियमित रूप से साबुन से हाथ साफ करें- खांसने या छींकने के बाद, खाना बनाने से पहले एवं परोसने से पहले, खाना खाने से पहले, शौचालय के इस्तेमाल के बाद।

3.खांसने या छींकते समय नाक और मुंह को टिश्यु से ढकें। इस्तेमाल किये टिश्यु को कुड़ेदान में फेंके। 

4.अगर जुकाम या फ्लू के लक्षण हो बुखार, खांसी, और सांस लेने में तकलीफ तो चिकित्सक से सम्पर्क करें ।

क्या ना करें

1.खांसी व बुखार से पीड़ित लोगों से सम्पर्क न करें। यदि खांसी व बुखार है तो किसी के सम्पर्क में न आयें।

2.सार्वजनिक स्थानों पर नहीं थूकंे। अगर खांसी व जुकाम हो तो यात्रा करने से बचें।

3.जंगली व पालतू पशु पक्षियों के असुरक्षित सम्पर्क से बचें। 

4.भीड़भाड़ वाले स्थानों पर जाने से यथासंभव बचें। 

5.कोरोना वायरस की जानकारी के लिये टोल फ्री नम्बर पर काॅल कर जानकारी लेने से नहीं झिझके।

6.अफवाहों से डरने की जरूरत नहीं लेकिन सतर्क रहे

About राजेन्द्र प्रसाद कुम्भकार

News reporter

Check Also

सामाजिक संगठनों ने राहगीरों एवं ग्रामीणों को कोरोना की सजगता के लिए किया जागरूक करौली

सामाजिक संगठनों ने राहगीरों एवं ग्रामीणों को कोरोना की सजगता के लिए किया जागरूक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *