Breaking News
Home / राजस्थान / कोरोना से होने वाली मृत्युदर को शून्य पर लाने के प्रयास किए जाएंगे -चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री

कोरोना से होने वाली मृत्युदर को शून्य पर लाने के प्रयास किए जाएंगे -चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री

कोरोना से होने वाली मृत्युदर को शून्य पर लाने के प्रयास किए जाएंगे

-चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री

जयपुर, 8 अगस्त। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने बताया कि प्रदेश में कोरोना की मृत्युदर में तेजी से गिरावट आ रही है। जहां प्रदेश में एक समय 2.34 प्रतिशत मृत्युदर थी वहीं अब यह 1.5 फीसद तक आ चुकी है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कोरोना से होने वाली मृत्युदर को शून्य पर लाने के प्रयास किए जा रहे है। 

डॉ. शर्मा ने कहा कि प्रदेश में व्यापक स्तर पर जांचें की जा रही हैं, यही वजह है कि पॉजिटिव की संख्या में भी बढ़ोतरी देखी जा रही है। जितना जल्दी हम पॉजिटव की पहचान कर सकेंगे उतनी ही जल्द कोरोना के प्रसार को नियंत्रित कर सकेंगे। उन्होंने कहा कि विभाग ने प्रतिदिन 45 हजार से ज्यादा जांचें करने की क्षमता विकसित कर ली है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कोरोना पॉजिटिव से नेगेटिव होने का अनुपात भी अन्य प्रदेशों की तुलना में खासा बेहतर है। प्रदेश में 80 प्रतिशत तक मरीज पॉजिटिव से नेगेटिव हुए हैं। वर्तमान में 70 से 80 प्रतिशत मरीज समुचित उपचार के जरिए दुरुस्त होकर घर पहुंच रहे हैं।

डॉ. शर्मा ने कहा कि प्रदेश सरकार कोरोना की रोकथाम के लिए पूरी तरह सजग और सतर्क है। सरकार द्वारा प्रदेश भर में कोरोना जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है, जिससे लोगों में मास्क लगाने, भीड़ या समूह में ना जाने, बार-बार साबुन से हाथ धोने जैसी आदत के प्रति जागरूकता आई है। शहरों के अलावा अब गांवों में भी लोग सजगता दिखाने लगे हैं।

आरटीपीसीआर है खरा टेस्ट

चिकित्सा मंत्री ने कहा कि अब तक आरटीपीसीआर टेस्ट ही खरा साबित हुआ है। आईसीएमआर द्वारा सुझाए एंटीजन टेस्ट पॉजिटिव को नेगेटिव और नेगेटिव को पॉजिटिव बता रहा है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार केंद्र सरकार से एंटीजन किट की लगातार मांग कर ही है, लेकिन केंद्र सरकार द्वारा उपलब्ध नहीं कराए गए। उन्हें डर है कि कहीं एंटीजन टेस्ट का भी हाल रैपिड टेस्टिंग किट जैसा ना हो, जिसे राजस्थान द्वारा खारिज किए जाने पर पूरे देश में प्रतिबंध लगाना पड़ा था। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा विदेशी कंपनियों से कोरोना जांच की सुविधा लेना जान जोखिम में डालना जैसा है।

जरूरतमंदों को लगाए जा रहे हैं निःशुल्क जीवनरक्षक इंजेक्शन

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि प्रदेश में 40 हजार की लागत के जीवनरक्षक इंजेक्शन (टोसिलीजूमेब व रेमडीसीविर) भी आमजन को मेडिकल कॉलेज, जिला अस्पताल के जरिए निःशुल्क उपलब्ध कराए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि जिन मरीजों को भी ये इंजेक्शन लगाए हैं, उनका परिणाण भी सुखद रहा है। उन्होंने कहा कि मरीजों के इलाज के लिए बजट की कोई कमी नहीं है। 

अजमेर में भी जल्द शुरू होगी प्लाज्मा थेरेपी

डॉ. शर्मा ने बताया कि प्रदेश में अब तक 100 से ज्यादा मरीजों को प्लाज्मा थेरेपी दी जा चुकी है। इसका शत-प्रतिशत परिणाम रहा है। जयपुर, जोधपुर, कोटा के बाद उदयपुर और बीकानेर में भी प्लाज्मा थेरेपी के जरिए लोगों को जीवनदान दिया जा रहा है। अजमेर में भी शीघ्र ही प्लाज्मा थेरेपी से इलाज मिलने लगेगा। उन्होंने बताया कि जयपुर के बाद हाल ही कोटा में भी प्लाज्मा बैंक की शुरुआत कर दी गई है। जल्द ही सभी पुरानी मेडिकल कॉलेजों में भी प्लाज्मा बैंक खोले जाएंगे, ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों को राहत मिल सके। उन्होंने कोरोना को हरा चुके लोगों से प्लाज्मा दान देकर लोगों को नया जीवन देने की भी अपील की।  

जागरूकता से ही हारेगा कोरोना

डॉ. शर्मा ने कहा कि कोई नहीं जानता कि कोरोना कब खत्म होगा, कब इसकी दवा या इंजेक्शन आएगा। उन्होंने कहा कि कोरोना को सतर्कता, सजगता और जागरूकता से ही हराया जा सकता है। राज्य सरकार पिछले एक महीने से प्रदेश भर में जागरूकता अभियान चला रही है। आमजन कोरोना प्रोटोकॉल जैसे बिना मास्क घर से नहीं निकलना, भीड़-भाड़ या समूह में नहीं जाना और बार-बार साबुन से हाथ धोने को अपना लेंगे तो कोरोना प्रदेश या देश में ज्यादा दिनों तक नहीं टिक पाएगा।

Support us

कोई भी मीडिया हो उन्हें कभी फंड की चिंता नहीं करनी पड़ती क्यूंकि लोकतंत्र को बचाने के नाम पर उन्हें विभिन्न स्रोतों से पैसा मिलता है। लेकिन हमें सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके समर्थन की आवश्यकता है। आपसे जितना हो सके हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Donate with

Check Also

मनरेगा में 15 लाख से अधिक परिवारों को 100 दिन का रोजगार अवश्य दिलवायें – मुख्य सचिव

मनरेगा में 15 लाख से अधिक परिवारों को 100 दिन का रोजगार अवश्य दिलवायें …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *