Home / देश / कोर्ट ने किया सवाल दूसरी जयंतियां मनाने में जब ऐतराज़ नहीं तो फिर टीपू की जयंती पर क्यों |

कोर्ट ने किया सवाल दूसरी जयंतियां मनाने में जब ऐतराज़ नहीं तो फिर टीपू की जयंती पर क्यों |

 

कर्नाटक

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा को कर्नाटक हाई कोर्ट ने आड़े हाथों लिया है। कोर्ट ने टीपू जयंती सरकारी खर्चे पर न मनाने के उनके फैसले पर पुनर्विचार करने का आदेश देते हुए हिदायत दी है कि फैसले ऐसे नहीं लिए जाने चाहिए कि वे एकतरफा लगें।

कर्नाटक के मुख्य न्यायाधीश जस्टिस अभय श्रीनिवास ओका और न्यायाधीश एसआर कृष्ण कुमार की खंडपीठ ने येदियुरप्पा सरकार को निर्देश दिए हैं कि वह टीपू जयंती सरकारी खर्चे पर मनाने के अपने फैसले पर पुनर्विचार करे और जो लोग निजी तौर पर मनाएं उन पर किसी तरह की रोक न लगाई जाए।

मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद येदियुरप्पा ने 30 जुलाई को टीपू जयंती सरकारी तौर पर मनाने पर रोक लगा दी। कर्नाटक हाई कोर्ट ने कहा कि मंत्रिमंडल के इस पर आपना फैसला नहीं लिया। यानी बगैर किसी सलाह- मशविरा के एक दिन में यह निर्णय लिया गया। फैसला ऐसा नहीं होना चाहिए कि वह एकतरफा लगे। कोर्ट ने कहा कि आप जनवरी के तीसरे हफ्ते तक बताएं कि दूसरी जयंतियों को मनाने में जब कोई ऐतराज़ नहीं है तो फिर टीपू सुल्तान की जयंती पर क्यों? कोर्ट ने सरकारी वकील के इस पक्ष को भी खारिज कर दिया कि नीतिगत फैसले में कोर्ट हस्तक्षेप नहीं कर सकता।

Support us

कोई भी मीडिया हो उन्हें कभी फंड की चिंता नहीं करनी पड़ती क्यूंकि लोकतंत्र को बचाने के नाम पर उन्हें विभिन्न स्रोतों से पैसा मिलता है। लेकिन हमें सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके समर्थन की आवश्यकता है। आपसे जितना हो सके हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Donate with

Check Also

25 नवंबर से बिना कोरोना रिपोर्ट के एंट्री नहीं

25 नवंबर से बिना कोरोना रिपोर्ट के एंट्री नहीं  महाराष्ट्र महाराष्ट्र जाने के लिए RT-PCR …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *