Home / उत्तर प्रदेश / खनन माफियाओं पर मेहरबान है खनन अधिकारी व पुलिस-उत्तर प्रदेश

खनन माफियाओं पर मेहरबान है खनन अधिकारी व पुलिस-उत्तर प्रदेश

साहब ! यहां दाल में काला नही पूरी दाल ही काली है

 खनन माफियाओं पर मेहरबान है खनन अधिकारी व पुलिस

  अमर श्रीवास्तव की रिपोर्ट

साहब का सारथी निभा रहा अहम भूमिका

बहराइच : सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अवैध खनन करने वाले खनन माफियाओं पर शिकंजा कसने के निर्देश भले ही दे रहे है, लेकिन जिले में अवैध खनन रोकने वाले जिम्मेदार अधिकारियों की कार्यशैली मुख्यमंत्री के मंसूबों पर पानी फेर रहे है। शुक्रवार को अवैध बालू खनन कर जा रहे खनन माफिया को खनन सहायक ने पुलिसबल के साथ पकड़ा। लेकिन जिम्मेदारों को फीलगुड का अहसास कराकर खनन माफिया बालू लदी ट्राली छोड़कर ट्रैक्टर लेकर फरार हो गया। पूरा मामला चर्चा का विषय बन गया है।

   देहात कोतवाली क्षेत्र के भटपुरवा में अवैध खनन की सूचना पर खनन सहायक गिरिराज सिंह देहात कोतवाली पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे। सूत्रों की मानें तो खनन सहायक ने पुलिसबल के साथ घेराबंदी कर खनन माफिया को अवैध खनन कर लाई गई बालू लदी ट्रैक्टर ट्राली समेत पकड़ लिया। सूत्रों की मानें तो मौके पर देहात कोतवाली क्षेत्र के रहने वाले खनन माफिया ननके यादव को भी पकड़ लिया गया। लेकिन निजी हित साधकर जिम्मेदारों केवल बालू लदी ट्रॉली को सीज कर दिया। इस मामले में खनन सहायक गिरिराज सिंह व खनन अधिकारी राज रंजन कुमार का कहना है कि खनन माफिया मौके से ट्राली छोड़कर ट्रेक्टर समेत फरार हो गया। लेकिन लोगों की समझ से यह बात परे है कि आखिर पकड़ा गया खनन माफिया एेसा कौन मंत्र जानता था कि पकड़े जाने के बाद केवल ट्रेक्टर लेकर भागा और बालू लदी ट्राली वही खड़ी रह गई। मौके से भाग रहे खनन माफिया को मौके पर मौजूद पुलिसबल क्यों नही पकड़ पाया यह भी एक बड़ा सवाल है। खनन सहायक के साथ मौजूद पुलिस बल क्या पूरी तरह निष्क्रिय था या फिर उन्हें निष्क्रिय किया गया ये बात भी चर्चा का विषय बन गया है। सूत्रों का तो यहाँ तक कहना है कि खनन अधिकारी का चालक ऐसे मामलों में अहम रोल निभाता है जिससे केवल ट्रॉली पकड़ी जाती है, और खनन माफिया घर भाग जाता है। फिलहाल जब पूरे कुएं में ही भांग पड़ी हो तो आप भी सहज अंदाजा लगा सकते है कि अवैध खनन पर शिकंजा कैसे लगेगा। शायद इसी लिए लोग कहते है कि हुजूर यह दाल में काला नही पूरी दाल ही काली है।

Support us

कोई भी मीडिया हो उन्हें कभी फंड की चिंता नहीं करनी पड़ती क्यूंकि लोकतंत्र को बचाने के नाम पर उन्हें विभिन्न स्रोतों से पैसा मिलता है। लेकिन हमें सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके समर्थन की आवश्यकता है। आपसे जितना हो सके हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Donate with

Check Also

नाबालिग ने सोशल मीडिया पर योगी आदित्यनाथ की आपत्तिजनक तस्वीर की पोस्ट, मामला दर्ज

बलिया, 14 अक्टूबर । सोशल मीडिया पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की आपत्तिजनक तस्वीर डालने एवं …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *