Breaking News
Home / राजस्थान / चूरू / गर्भवती महिला की मौत पर बवाल जारी, अभी तक शव का नहीं हुआ अंतिम संस्कार

गर्भवती महिला की मौत पर बवाल जारी, अभी तक शव का नहीं हुआ अंतिम संस्कार

चूरू: गर्भवती महिला की मौत पर बवाल जारी, अभी तक शव का नहीं हुआ अंतिम संस्कार

चूरू: जिले के रामपुरा में शनिवार को साढे आठ महीने की गर्भवती महिला रचना की गलत इंजेक्शन लगाने से मौत के बाद हालात तनावपूर्ण है. मौत होने के बाद ग्रामीण आक्रोशित हो गए और शव को लेकर अस्पताल के सामने धरने पर बैठे गए. अभी तक मृतका के शव का अंतिम संस्कार नहीं हो पाया है. शव रामपुरा गांव के अस्पताल की मोर्चरी के डी फ्रीज में रखा हुआ है. प्रसूता की मौत के मामले में उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ ने फर्स्ट इंडिया से खास बातचीत करते हुए कहा कि इस मामले में लापरवाही बरती गई है. 

शांतिपूर्ण था आन्दोलन,बेवजह हुआ टकराव:

इसके साथ ही उन्होंने स्थानीय विधायक और प्रशासन पर निशाना भी साधते हुए कहा कि आंदोलन शांतिपूर्ण था, टकराव बेवजह टकराव हुआ है. उपनेता प्रतिपक्ष ने सरकार और जिले के आलाधिकारियों पर निशाना साधा. 

हमारी संवेदना मृतका के परिजनों के साथ: 

दूसरी ओर प्रसूता की मौत के मामले में कलेक्टर प्रदीप गवांडे, SP परिस देशमुख ने फर्स्ट इंडिया से बात करते हुए कहा कि हमारी संवेदना मृतकों के साथ है. हमने वाजिब मांगें मान ली है. लोकतंत्र में मर्यादाओं का पालन करना जरूरी है. शव की भी मर्यादा होती है इसलिए हमारी अपील है कि शव का समय पर अंतिम संस्कार हो. IG प्रफुल्ल कुमार भी लगातार मॉनिटरिंग कर रहे हैं. 

मामले को राजनीतिक रंग देने का किया जा रहा प्रयास: 

इससे पहले आज मिली जानकारी की अनुसार यहां राजगढ विधायक कृष्णा पूनियां के पहुंचने के बाद हालात बिगड गये और वहां पुलिस पर पथराव शुरू हो गया. विधायक कृष्णा पूनियां का कहना है कि मामले को राजनीतिक रंग देने का प्रयास करते हुए उन पर पूर्व विधायक मनोज न्यांगली के सर्मथकों ने पथराव किया. पत्थरबाजी के दौरान पुलिस की गाड़ी में तोड़ -फोड की गयी, पुलिस ने बल प्रयोग करते हुए आंसु गैस के गोले दागे और भीड को तीतर बीतर किया. पत्थराव में राजगढ सीआई सहित दो पुलिसकर्मी व एक ग्रामीण महिला घायल हो गये. बाद में मामला शान्त होने के बाद विधानसभा उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड धरनास्थल पर पहुंचे और परिजनों के साथ धरने पर बैठ गये. इसके बाद जिला कलक्टर प्रदीप के गांवडे और उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड के साथ परिजनों की वार्ता हुई लेकिन वह विफल रही. 

शनिवार से चल रहा है धरना:

मिली जानकारी के अनुसार शुक्रवार को महिला की मौत के बाद से शनिवार की सुबह करीब 8:30 बजे से परिजनों ने अपनी नाराजगी जताना शुरू की. इसके बाद परिजनों ने ग्रामीणों के साथ आरोपी डॉक्टर को सस्पेंड करने, पूरे स्टाफ को हटाने, 108 एंबुलेंस की व्यवस्था करने, मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम करवाने और पीड़ित परिवार को मुआवजा देने की मांग को लेकर धरना शुरू किया था.

Support us

कोई भी मीडिया हो उन्हें कभी फंड की चिंता नहीं करनी पड़ती क्यूंकि लोकतंत्र को बचाने के नाम पर उन्हें विभिन्न स्रोतों से पैसा मिलता है। लेकिन हमें सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके समर्थन की आवश्यकता है। आपसे जितना हो सके हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Donate with

Check Also

पंचायत समिति सभागार में कोरोना योद्धाओं का सम्मान-चूरू

विवेक राठौड़ सरदारशहर पंचायत समिति सभागार में कोरोना योद्धाओं का सम्मान, विकास अधिकारी ने प्रमाण …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *