Breaking News
Home / देश / चाइनीज स्मार्टफोन्स पर लगा ‘ग्रहण’

चाइनीज स्मार्टफोन्स पर लगा ‘ग्रहण’

चाइनीज स्मार्टफोन्स पर लगा ‘ग्रहण’, खरीदने के लिए करना होगा इंतजार

ऋतंकर मुखर्जी, नई दिल्ली

अगर आप किसी चाइनीज ब्रैंड का स्मार्टफोन खरीदना चाहते हैं तो हो सकता है कि आपको थोड़ा इंतजार करना पड़े। दरअसल, भारत ने चीन से आने वाले हर कंसाइनमेंट को चेक करने का फैसला किया है और इसका असर चीन से आने वाले स्मार्टफोन्स पर भी पड़ेगा। ऐसे में चीन से आने वाले स्मार्टफोन्स, टैबलेट्स, कंप्यूटर्स और टेलिविजन पर की सप्लाई डिले हो सकती है। इंडस्ट्री सप्लाई चेन पर ऐसे वक्त पर असर पड़ा है, जब डिवाइसेज की डिमांड सप्लाई से ज्यादा है।

स्मार्टफोन इंडस्ट्री से जुड़े लोगों ने बताया है कि चीन से आने वाली सप्लाई में देरी होने का असर कई ब्रैंड्स पर पड़ेगा। इनमें शाओमी, ओप्पो, वीवो, वनप्लस, रियलमी, लेनोवो और कुछ ऑनलाइन फोकस्ड ब्रैंड्स शामिल हैं। फिलहाल. इनमें से ज्यादातर के कंसाइनमेंट्स कस्टम्स के पास फंसे हुए हैं। ऐसे ज्यादातर ब्रैंड्स का बड़ा शेयर चाइना से आता रहा है और यही वजह है अब कस्टमर्स को उनका फेवरिट डिवाइस खरीदने के लिए इंतजार करना पड़ रहा है।

देर से मिल रहा क्लियरेंस

सामने आया है कि कस्टम से ऐसे कंसाइनमेंट्स को अब पहले के मुकाबले क्लियरेंस बहुत देरी से मिल रहा है। पहले ऐसे कंसाइनमेंट्स को फास्ट ट्रैक किया जाता था और ज्यादा वक्त नहीं लगता था। अब सभी को पूरी तरह चेकिंग होने के बाद ही आगे भेजा जा रहा है। इसके अलावा एक बड़ी चाइनीज कंपनी के एग्जक्यूटिव ने कहा है कि भारत में होने वाली मैन्युफैक्चरिंग भी इसकी वजह से प्रभावित हुआ है। चीन से आने वाले स्मार्टफोन कंपोनेंट्स ना मिलने से पहले की तरह प्रोडक्शन नहीं हो पा रहा है।

चीन सबसे बड़ा सोर्सिंग बेस

बताते चलें, चीन भारत की इलेक्ट्रॉनिक इंडस्ट्री का सबसे बड़ा सोर्सिंग बेस है। उदाहरण के लिए मोबाइल फोन्स और टेलिविजन्स के 65 से 70 प्रतिशत कंपोनेंट्स और पार्ट्स चीन से आते हैं। इसी तरह वॉशिंग मशीन्स के 25 प्रतिशत कंपोनेंट्स चीन से आते हैं। भारत में आने वाले 40 प्रतिशत लाइट्स चीन से आते हैं और इसी तरह एयर कंडीशनर्स के करीब 75 प्रतिशत हिस्सों का भारत पड़ोसी देश से आयात करता है। इसके अलावा लैपटॉप और फोन्स जैसे फिनिश्ड प्रॉडक्ट्स भी चीन से आते हैं।

Check Also

पत्रकार के समस्यायों के निस्तारण के लिए आज एक साथ भारत के प्रमुख ट्रेड यूनियन

देश की तीनों प्रमुख संगठन पत्रकारों की उठाएगी आवाज़, बीएमएस ने दिया समर्थन लखनऊ :- …