Home / झारखंड / जमीन विवाद में युवक की हत्या से आक्रोशित ग्रामीण उतरे सड़कों पर-सरायकेला

जमीन विवाद में युवक की हत्या से आक्रोशित ग्रामीण उतरे सड़कों पर-सरायकेला

जमीन विवाद में युवक की हत्या से आक्रोशित ग्रामीण सड़क पर उतरे , हत्यारों की गिरफ्तारी की मांग पर अड़े , जिला प्रशासन के आश्वासन के बाद शांत हुए उग्र ग्रामीण

सरायकेला-खरसावां जिले के वीरबांस गांव में पिछले दिनों भूमि विवाद में बुद्धेश्वर महतो की हत्या के बाद गला रेतने की घटना से आक्रोश व्याप्त है। मंगवार को हजारों ग्रामीण सड़क पर उतर आये और पुलिस से उनकी धक्‍का-मुक्‍की भी की ।स्थानीय लाेग हत्‍या के आरोपियों को ग्रामीणों के हवाले करने की मांग कर रहे थे.

मंगलवार सुबह गांव में लोगों ने जमकर विरोध किया था। ग्रामीण सरायकेला-कांड्रा मुख्‍य सड़क किनारे खड़े हो गए थे और शव का अंतिम संस्कार नहीं करने पर अड़े थे।उनका कहना था कि पुलिस एक अन्य आरोपित अनवर की गिरफ्तारी सुनिश्चित करें, इसके बाद ही मृतक का अंतिम संस्कार किया जाएगा। इधर बढ़ रहे तनाव के मद्देनजर जिला प्रशासन ने ड्रोन से इलाके की निगरानी की । पूरा गांव पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया गया । चारों तरफ पुलिस ही पुलिस थी। सरायकेला के एसडीपीओ राकेश रंजन के नेतृत्व में जगह-जगह पुलिस निगरानी कर रही है । इधर बढ़ते तनाव के मद्देनजर एसडीओ बशारत कयूम भी घटनास्थल पर पहुंच और सुरक्षा का जायजा लिया । एसडीओ बशारत कयूम ने अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी सरायकेला से हालात के बारे में पूछताछ की । कुछ देर बाद ग्रामीण बेकाबू हो गए और पुलिस से उनकी धक्‍का-मुक्‍की भी हुई । जिले के आठ थाना की पुलिस घटनास्थल पर रही मौजूद।

सड़क जाम कर रहे लोगों से एसडीपीओ राकेश रंजन आग्रह किया कि यह हत्या का मामला है और इसे राजनीतिक रंग न दें। उन्‍होंने भरोसा दिलाया क‍ि आरोपियो को जल्द से जल्द पकड़ कर सलाखों के पीछे भेजेंगे और उसे कड़ी से कड़ी सजा दिलाएंगे। इस दौरान घटना स्थल पर जिले के आठ थाना की पुलिस मौजूद रही ।

जाहरेथान की जमीन पर कब्‍जे के विरोध में हुई हत्‍या।

वीरबांस के जाहेरथान की जमीन पर अवैध रूप से कब्जा करने का विरोध करने पर युवक बुद्धेश्वर कुम्भकार की रविवार रात हत्‍या कर दी गई थी। रात दस बजे शिवरात्रि मेला देख कर घर लौट रहे बुद्धेश्वर पर पहले अंधाधुंध गोलियां चलाईं गई इसके बाद खेत में ले जाकर धारदार हथियार से गला रेत दिया गया था।

 

 

Support us

कोई भी मीडिया हो उन्हें कभी फंड की चिंता नहीं करनी पड़ती क्यूंकि लोकतंत्र को बचाने के नाम पर उन्हें विभिन्न स्रोतों से पैसा मिलता है। लेकिन हमें सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके समर्थन की आवश्यकता है। आपसे जितना हो सके हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Donate with

Check Also

25 नवंबर से बिना कोरोना रिपोर्ट के एंट्री नहीं

25 नवंबर से बिना कोरोना रिपोर्ट के एंट्री नहीं  महाराष्ट्र महाराष्ट्र जाने के लिए RT-PCR …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *