Breaking News
[uam_ad id="34152"]
Home / राजस्थान / झालावाड़ / जिम्मेदारों ने कर ली आंखें बंद, दिन दहाड़े आहू नदी खोद रहे रेत माफिया

जिम्मेदारों ने कर ली आंखें बंद, दिन दहाड़े आहू नदी खोद रहे रेत माफिया

झालावाड़

सुनेल. बरसात के बाद अब नदियों में पानी कम होने लगा है। पानी कम होते ही बजरी माफिया सक्रिय हो गए हैं और नदियों को खोदना शुरू कर दिया है। वहीं जिम्मेदारी अधिकारियों ने तो जैसे आंखें बंद कर रखी है उनका तो बस एक ही जवाब रहता है कि कार्रवाई करेंगे, लेकिन कहां कार्रवाई हो रही है यह किसी से छुपा नहीं है। अवैध खनन से हालात ऐसे हो गए हैं कि इन नदियों के अस्तित्व को ही खतरा है।

सुनेल कस्बे सहित क्षेत्र में आहू नदी और छोटी-मोटी नदियों में बजरी माफियाओं द्वारा हजारों टन बजरी खनन दिन दहाड़े किया जा रहा है। हालात यह है कि बजरी माफिया ने ग्राम पंचायत कनवाड़ी के रूपपुरा और बोरखेड़ी गंाव के बीच आहू नदी में से भारी मात्रा में रेत निकाली जा रही है। नदी के अंदर बजरी के बड़े-बड़े स्टॉक कर रखे है। इसमें से हजारों टन बजरी को अवैध रूप से निकाल कर बेचा जा रहा है। नदी की हालत यह कर रखी है कि जगह जगह बजरी माफियाओं ने अपने क्षेत्र को बना रखा है यहां पर दिन-रात मशाीनों से नदी को खोखला कर रेत को निकाला जा रहा है। प्रशासन की तरफ से कोई कार्रवाई नहीं होने की वजह से बजरी माफियाओं के द्वारा बजरी निकालते समय आपस में झगड़े भी हो जाते हैं। क्षेत्र के आकोदिया गंाव में स्थित आहू नदी में भी कई खनन माफियाओं के द्वारा रेत के बड़े-बड़े ढेर लगा रखें है। हजारों टन रोजाना मशीनों से दिन-रात रेत को निकाला जा रहा है। खनन विभाग के द्वारा कोरी औपचारिक कार्रवाई कर इतिश्री कर ली जाती है। वहीं खनन विभाग की टीम को देखकर खनन माफिया इधर-उधर भाग जाते हैं, इसके साथ ही खनन विभाग की टीम के जाते ही वापस धड़ल्ले से अवैध खनन फिर से शुरू हो जाता है।…

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *