Breaking News
Home / राजस्थान / भीलवाड़ा / जिला प्रशासन की मध्यस्थता से उद्योगपतियों एवं श्रमिक संगठनों में बनी सहमति-भीलवाड़ा

जिला प्रशासन की मध्यस्थता से उद्योगपतियों एवं श्रमिक संगठनों में बनी सहमति-भीलवाड़ा

जिला प्रशासन की मध्यस्थता से उद्योगपतियों एवं श्रमिक संगठनों में बनी सहमति
भीलवाड़ा में शीघ्र ही प्रारंभ होंगे उद्योग, गतिरोध हुआ दूर, मजदूरों को मिलेगी तयशुदा राशि
भीलवाड़ा-(मूलचन्द पेसवानी)
भीलवाड़ा में कोरोना वायरस महामारी के कारण जिले में लागू लोकडाउन के कारण बंद उद्योग धंधों को पुनः प्रारंभ करने के केंद्र एवं राज्य सरकार के निर्देश के बावजूद भीलवाड़ा में अब तक प्रारंभ नहीं हो पाए उद्योग धंधे अब शीघ्र ही प्रारंभ होंगे। बुधवार को जिला कलेक्टर राजेन्द्र भट्ट की पहल पर औद्योगिक संगठनों के प्रतिनिधियो, श्रमसंघों के प्रतिनिधियों एवं ठेकेदारों की बैठक में सर्वसम्मति से निर्णय लेकर उद्योग धंधों को प्रारंभ करने का निर्णय लिया गया ।
बैठक में श्रमिकों को तयशुदा राशि का भुगतान करने का निश्चय भी हुआ। जिला कलेक्टर राजेन्द्र भट्ट ने कहा कि केंद्र एवं राज्य सरकार द्वारा उद्योग धंधों को प्रारंभ करने के निर्देश तथा भीलवाड़ा में कर्फ्यू समाप्ति के बाद जिला प्रशासन द्वारा स्वीकृति प्रदान करने के बावजूद कुछ बातों पर औद्योगिक संगठनों एवं श्रम संगठनों के बीच असहमति एवं गतिरोध के कारण उद्योग प्रारंभ नहीं हो पाए थे। जिला कलेक्टर राजेंद्र भट्ट ने स्थिति की गंभीरता को देखते हुए औद्योगिक संगठनों के प्रतिनिधियों श्रम संगठनों के प्रतिनिधियों तथा श्रमिक ठेकेदारों को एक मंच पर बिठाकर कलेक्ट्रेट सभागार में बुधवार सायं बैठक आयोजित की। पहले दोनों पक्षों से प्रशासनिक अधिकारियों ने अलग- अलग वार्ता की तत्पश्चात् उन्हें साथ बैठाकर सभी बिन्दुओं पर विस्तृत चर्चा की गई। सौहार्दपूर्ण माहौल में आयोजित बैठक में तय किया गया कि उन श्रमिकों को जिन्होंने मार्च माह में 20 दिन पूरा काम किया होगा उन्हें 29 दिन का पूरा भुगतान किया जाएगा तथा जिन्होंने 20 दिन से कम काम किया होगा उन्हें 26 दिन का वेतन भुगतान किया जाएगा। इसी तरह अप्रैल एवं मई माह में अब तक के लिए श्रमिकों को निर्वाह भत्ता के रुप में 4000 रुपए का भुगतान किया जाएगा जिसमें 2 हजार 600 रुपए अप्रैल माह के लिए तथा एक हजार चार सोै रुपए मई माह के लिए भुगतान किया जाएगा।
उद्योग धंधों को शीघ्र ही प्रारंभ किया जाएगा। उद्योग प्रारंभ होने के पश्चात उत्पादन के आधार पर श्रमिकों को भुगतान किया जाएगा। यदि उद्योग एक पारी, दो पारी अथवा तीन पारी में जैसे भी संचालित होते हैं उस आधार पर श्रमिक ठेकेदारों को भुगतान होगा। जिला कलेक्टर राजेंद्र भट्ट ने बैठक में कहा कि सभी लोगों ने आपसी सहमति से ही निर्णय किए हैं तथा भीलवाड़ा में शीघ्र ही सभी उद्योग प्रारंभ होकर गति प्राप्त कर सकेंगे।
भीलवाडा टेक्सटाईल ट्रेड फेडरेशन के अध्यक्ष दामोदर अग्रवाल, पूर्व अध्यक्ष श्याम चाण्डक, मेवाड़ चेंबर आॅफ कामर्स एंड इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष वीके बागरोदिया, सिंथेटिक वीविंग मिल्स एसोसिएशन के अध्यक्ष संजय पेडीवाल, भीलवाडा टेक्सटाईल ट्रेड फेडरेशन के वरिष्ठ उपाध्यक्ष अतुल शर्मा एवं टेक्सटाईल श्रमिक संघ के अध्यक्ष पन्नालाल चैधरी सहित अन्य औद्योगिक व श्रमिक प्रतिनिधियों ने वार्ता में भाग लिया। टेक्सटाइल लेबर एसोसिएशन के अध्यक्ष पन्नालाल चैधरी ने कहा कि आज की बैठक में लिए गए निर्णय से वे सहमत हैं । उद्योग प्रारंभ होने से श्रमिकों को पुनः रोजगार मिल सकेगा। लोकडाउन पीरियड का पैसा उन्हें मिलने से उनकी आर्थिक स्थिति डगमगाने से रोकने में मदद मिलेगी। श्रमिक संगठन अब यहां से पलायन नहीं करेंगे तथा अपने जमे जमाए रोजगार से परिवार को आर्थिक संबल प्रदान कर सकेंगे। उन्होंने जिला कलेक्टर सहित सभी का आभार भी व्यक्त किया।

About मूलचन्द पेसवानी

Check Also

कोरोना पाॅजिटिव वृद्वा की मौत, मासूम सहित दो पाॅजिटीव आये भीलवाड़ा

भीलवाड़ा में मंगलवार को हुआ अमंगल कोरोना पाॅजिटिव वृद्वा की मौत, मासूम सहित दो पाॅजिटीव …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *