Home / राजस्थान / दौसा / दिल्ली-मुम्बई एक्सप्रेस हाईवे एन एच 148 एन के निर्माण से किसानों में रोष

दिल्ली-मुम्बई एक्सप्रेस हाईवे एन एच 148 एन के निर्माण से किसानों में रोष

दिल्ली-मुम्बई एक्सप्रेस हाईवे एन एच 148 एन के निर्माण से किसानों में रोष

लालसोट 18 अक्टूबर। एनएचएआई एवं निर्माण कम्पनी द्वारा दिल्ली मुम्बई एक्सप्रेस हाईवे एनएच 148 एन का निर्माण कार्य शुरू करने से किसानों में रोष व्याप्त है। 25 अक्टूबर तक सरकार द्वारा किसानों की मांग नहीं मानने पर किसानों ने काली दिवाली मनाने की बात कही है।

प्रदेश किसान संघर्ष समिति संयोजक हिम्मत सिंह गुर्जर ने बताया नांगल राजावतान मीन भगवान मंदिर पर आगामी आन्दोलन की रणनिति के लिऐ बैठक आयोजित हुई। किसानों को चार गुना मुआवजा दिये बैगर हाईवे का निर्माण कार्य शुरू करने पर जिले का किसान आक्रोशित हैं। किसान मुख्यमंत्री से मुआवजे की गुहार लगा चुके है लेकिन अभी तक कोई समाधान नहीं हुआ है।

उन्होने बताया कि पिछले दिनों जयपुर में राजस्थान, मध्यप्रदेश व गुजरात के किसान प्रतिनिधियों ने बैठक कर ’किसान संयुक्त मोर्चे’ का गठन कर केन्द्र व राज्य सरकार को स्पष्ट चेतावनी दे दी है कि किसान चार गुना मुआवजा लिऐ बैगर एक इंच जमीन नहीं देगा। जब तक हमारी माँग नहीं मानी जाती तब तक हमारा आन्दोलन जारी रहेगा।

हिम्मत सिंह गुर्जर ने कहा कि अब की बार बड़ा किसान आन्दोलन किया जायेगा। बैठक में मोहर पाल मीना हनुमान सिंह राजपूत जगदीश मीना नेता लक्ष्मण सिंह मैम्बर अमर सिंह, बन्ना राम बंध रामधन हवलदार, ईश्वर मीना, जगदीश राड़ा, अमरचन्द बैरवा, आत्माराम मीना बज्रमोहन शर्मा राधानोहन शर्मा रामगोपाल मीना रामअवतार मीना खेमपुरी बंजरग लाल बैरवा लक्ष्मीनारायण मीना नाथूँ लाल ध्वना नरसी श्रीराम गोपाल जीतू छोटूलाल डीलर जगदीश बन्ना सिताराम कालूराम माली छाजुलाल जागिंड आदि लोग उपस्थित थे।

Support us

कोई भी मीडिया हो उन्हें कभी फंड की चिंता नहीं करनी पड़ती क्यूंकि लोकतंत्र को बचाने के नाम पर उन्हें विभिन्न स्रोतों से पैसा मिलता है। लेकिन हमें सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके समर्थन की आवश्यकता है। आपसे जितना हो सके हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Donate with

Check Also

रेलवे ट्रैक बाधित करने वालों पर रेलवे प्रशासन व आरपीएफ करेगी केस दर्ज

गुर्जर आरक्षण आंदोलन के चलते आज रेलवे प्रशासन व आरपीएफ ने बड़ा फैसला लिया है। …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *