Home / राजस्थान / करौली / दिहाड़ी मजदूरों ने क्षेत्र के जनप्रतिनिधि से लगाई घरवापसी की गुहार-करौली

दिहाड़ी मजदूरों ने क्षेत्र के जनप्रतिनिधि से लगाई घरवापसी की गुहार-करौली

दिहाड़ी मजदूरों ने क्षेत्र के जनप्रतिनिधि से लगाई घरवापसी की गुहार

 

करौली

 

एक तरफ जहां सम्पूर्ण भारत में कोरोना वायरस का कहर के चलते संपूर्ण भारत लॉक डाउन है लेकिन सरकारी सिस्टम के द्वारा साफ़ तौर पर कहा जाता रहा कि घरों में रहें। बाहर न निकलें। पुलिस सख़्ती बरतने को मजबूर हो जाएगी और यह सख़्ती उनके लिए जनता की जान बचाने के लिए होगी।

 

वहीं लॉक डाउन के तहत राजस्थान के दिहाड़ी मजदूरों की जुबानी सुनने वाला कोई भी नजर नहीं आ रहा है इस संकट की भयंकर घड़ी में अपने क्षेत्र के अपने मत द्वारा चुने गए जनप्रतिनिधियों की याद में गुहार लगाते नजर आ रहे हैं और उनके मन में आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है कि उन्होंने जो मत देकर उन्हें अनुग्रहित किया है तो संकट की इस घड़ी में उन्हें भी कुछ मदद पहुंचा कर अपने परिवार के साथ मिलाने में मदद करेंगे ऐसी ही कहानी करौली जिले के संपूर्ण उपखंड मुख्यालयों हिन्डौन सिटी,नादौती, करौली, टोडाभीम, सपोटरा, मासलपुर,मंडरायल से मेहनत मजदूरी करने के लिए किसी ना किसी के सहारे अन्य प्रदेशों में मजदूरी के लिए गए आज उन्हें मूलभूत सुविधाओं के साथ-साथ भोजन पानी एवं रहन आवास के लिए भी मोहताज होना पड़ रहा है

 

सोशल डिस्टेंसिंग यानी सामाजिक पारस्परिक दूरियां ही हमें कोरोना के आक्रमण से बचा सकती हैं। यह बात हर स्तर पर प्रसारित और प्रचारित की जा रही है वही दिहाड़ी मजदूरों को ऐसा मासिक परस्पर दूरियां मौत के ग्रास में धकेलती नजर आ रही हैं और बार बार ..आ मौत! गले लग जा का नारा लगा रहे हैं।

 

 

 

ग्राम पंचायत भांकरी सहित क्षेत्र के कई सदस्य रोजी रोटी कमाने गए केरला के एर्नाकुलम जिले व अन्य राज्यों में लॉक डाउन में फंसे हुए हैं उन्होंने बताया कि हम लोग यहां टाइल्स मार्बल का काम करते हैं जो 19 मार्च से बिल्कुल काम बंद पड़ा है और खाने-पीने की दिक्कत खड़ी हो रही है क्षेत्र के मंत्री महोदय से अवगत करा कर उन्हें वापस बुलाने की अपील की है क्षेत्र के वहीद खान हारुण खान इंसाफ खान यासीन खान मकसूद खान इरफान खान आमीन लुकमान निसार खान एवं जहीर खान एवं महिला हसीना बानो यास्मीन बानो छोटी बच्ची मंतशा ने दूरभाष उनके भाई तैयब खान बताया कि यहां पर मजदूरी नहीं मिल रही है खाने पीने की मुसीबतें खड़ी हो गई और रेलमार्ग ठप होने के कारण उनका आना मुश्किल हो रहा है

 

Support us

कोई भी मीडिया हो उन्हें कभी फंड की चिंता नहीं करनी पड़ती क्यूंकि लोकतंत्र को बचाने के नाम पर उन्हें विभिन्न स्रोतों से पैसा मिलता है। लेकिन हमें सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके समर्थन की आवश्यकता है। आपसे जितना हो सके हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Donate with

Check Also

बाजारों में भीड़, कैसे हारेगा कोरोना

देवउठनी एकादशी के कारण इस समय बाजारों में जबरदस्त भीड़ उमड़ रही है। लोग बाजारों …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *