Home / राजस्थान / सवाई माधोपुर / दो दिनों में ही बीएसएनएल के 22 हजार कर्मचारियों ने किया ‘रिटायरमेंट’ के लिए आवदेन |

दो दिनों में ही बीएसएनएल के 22 हजार कर्मचारियों ने किया ‘रिटायरमेंट’ के लिए आवदेन |

दो दिनों में ही बीएसएनएल के 22 हजार कर्मचारियों ने किया ‘रिटायरमेंट’ के लिए आवदेन |

सार्वजनिक क्षेत्र की दूरसंचार कंपनी भारत संचार निगम लि. (बीएसएनएल) के कर्मचारियों ने स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति योजना (वीआरआस) को हाथों हाथ लिया है। योजना घोषित होने के केवल दो दिन में ही 22,000 कर्मचारियों ने वीआरएस के लिये आवेदन कर दिया है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी।

बीएसएनएल के कर्मचारियों की संख्या करीब 1.50 लाख है। इसमें से करीब एक लाख कर्मचारी वीआरएस के दायरे में आते हैं। बीएसएनएल की वीआरएस योजना पांच नवंबर को पेश की गई और यह तीन दिसंबर तक खुली रहेगी। दूरसंचार कंपनी के एक अधिकारी ने कहा कि वीआरएस योजना अपनाने वाले कर्मचारियों की संख्या 22,000 को पार कर गयी है। बीएसएनएल को उम्मीद है कि करीब 77,000 कर्मचारी इस योजना का लाभ उठाएंगे।

अधिकारी ने कहा कि आवेदन करने वाले कुल 13,000 कर्मचारी समूह-ग श्रेणी के हैं। हालांकि, हर श्रेणी के कर्मचारियों से अच्छी प्रतिक्रिया है। बीएसएनएल को उम्मीद है कि 70,000 से 80,000 कर्मचारी वीआरएस योजना को अपनाएंगे और इससे वेतन मद में करीब 7,000 करोड़ रुपये की बचत होगी।

सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी की स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति योजना-2019 के अनुसार 50 साल की आयु पूरी कर चुके या उससे अधिक उम्र के बीएसएनएल के सभी नियमित और स्थायी कर्मचारी वीआरएस के लिये आवेदन देने के पात्र हैं। इसमें वे कर्मचारी भी शामिल हैं जो बीएसएनएल के बाहर दूसरे संगठन में प्रतिनियुक्ति आधार पर काम कर रहे हैं।

Support us

कोई भी मीडिया हो उन्हें कभी फंड की चिंता नहीं करनी पड़ती क्यूंकि लोकतंत्र को बचाने के नाम पर उन्हें विभिन्न स्रोतों से पैसा मिलता है। लेकिन हमें सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके समर्थन की आवश्यकता है। आपसे जितना हो सके हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Donate with

Check Also

महात्मा ज्योति राव फूले की पुण्यतिथि मनाई

महात्मा ज्योति राव फूले की पुण्यतिथि मनाई है  गंगापुर सिटी  सूरसागर गंगापुर सिटी स्थित माली …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *