Breaking News
Home / राजस्थान / सवाई माधोपुर / निर्माण श्रमिकों के लिए चैराहों पर होगी छाया-पानी की व्यवस्था गंगापुर सिटी

निर्माण श्रमिकों के लिए चैराहों पर होगी छाया-पानी की व्यवस्था गंगापुर सिटी

गंगापुर सिटीभवन एवं अन्य संनिर्माण श्रमिकों की समस्याओं को लेकर गत गुरुवार 3 सितम्बर को श्रममंत्री टीकाराम जूली के साथ हिन्द मजदूर सभा राजस्थान प्रदेश के महामंत्री मुकेश गालव की जयपुर में बैठक हुई।

हिन्द मजदूर सभा के प्रदेश सचिव नरेंद्र जैन ने बताया कि महामंत्री मुकेश गालव ने श्रममंत्री के समक्ष भवन एवं अन्य संनिर्माण में कार्यरत श्रमिकों की ज्वलंत समस्याओं की ओर ध्यान आकर्षित किया कि राजस्थान में हजारों भवन निर्माण श्रमिक मेहनत व ईमानदारी से राजस्थान के विकास में निरन्तर कार्य करते आ रहे है। हिन्द मजदूर सभा से संलग्न आजाद हिन्द बिल्डिंग वर्कर्स यूनियन हमेशा श्रमिक हितों के कार्य करती है। तथा समय समय पर श्रमिकों के हितों के लिये उनकी समस्याओं के मुद्दे उठाती आ रही है। जिसमें राजस्थान के समस्त जिलों के लेबर चैराहो पर टिनशेड व पीने के पानी की व्यवस्था करना है।

इस पर गालव ने श्रममंत्री का ध्यान आकर्षित किया कि राजस्थान के समस्त जिलों के मुख्य मुख्य लेबर चैराहों पर मजदूर सुबह सुबह रोजगार की तलाश में आते है। कई घंटों तक धुप, बरसात में लेबर चैराहो पर खड़े रहते है। चैराहो पर ना तो टिनशेड की व्यवस्था है और ना ही पीने के पानी की कोई व्यवस्था है। इस पर श्रममंत्री ने यूनियन की मांग को जायज मानते हुये राजस्थान के समस्त जिला कलेक्टर को श्रममंत्रालय से 1-1 लाख रू. का बजट स्वीकृत करते हुये कहा कि लेबर चैराहो पर छाया-पानी की व्यवस्था शीघ्र करवा दी जायेगी।

यूनियन की अन्य मांगों में पंजीकृत निर्माण श्रमिकों के बच्चों को मिलने वाली छात्रवृति योजना कक्षा 6 पास करने के बाद मिलती है इस योजना को कक्षा 1 से प्रारम्भ करने,श्रम विभाग द्वारा देय टूलकिट योजना जो सभी पंजीकृत श्रमिको को उनके कार्य करने के औजार खरीदने हेतु श्रम विभाग द्वारा दी जाने वाली सहायता राशि निर्माण श्रमिक के पंजीयन के 1 महीने के बाद ही दी जाने, कोरोना महामारी के दौरान राजस्थान सरकार द्वारा कई पंजीकृत श्रमिकों को सहायता राशि उनके खाते में नहीं मिलना, श्रम विभाग द्वारा श्रमिकों की अविवाहित पुत्रियों को दी जाने वाली शुभशक्ति योजना का लाभ वर्ष 2017 से ही प्राप्त नही हो रहा है, इस योजना का शीघ्र लाभ श्रमिकों को दिलवाने, सभी पंजीकृत निर्माण श्रमिकों को बीपीएल की श्रेणी में शामिल करना, बजरी की समस्या, महिला श्रमिक को सिलाई मशीन व पुरूष श्रमिकों को सहायतार्थ साईकिल देना जैसी मांगों को भी श्रममंत्री के समक्ष रखा। श्रममंत्री ने यूनियन की सभी समस्याओं का शीघ्र निराकरण करने का आश्वासन दिया।

इस अवसर पर आजाद हिंदी बिल्डिंग वर्कर्स यूनियन की स्थानीय शाखा के अध्यक्ष अमीर हसन एवं महामंत्री बाबूद्दीन ने निर्णय पर खुशी जाहिर करते हुए कहा कि निर्माण श्रमिकों की समस्याओं पर सकारात्मक बातचीत हुई है। इससे निश्चित रूप से निर्माण श्रमिकों की समस्याओं का जमीनी स्तर पर समाधान होगा।

Check Also

सवाई माधोपुर -नगर परिषद गंगापुर सिटी में गंदगी और कचरा बना लोगों की मुसीबत

सवाई माधोपुर- उपखंड गंगापुर सिटी में नगर परिषद इन दिनों पूर्णतः निष्क्रिय और लापरवाह नजर …