Home / उत्तराखंड / चमोली / नेशनल विंटर गेम्स,उत्तराखण्ड को मिला आज पहला स्वर्ण-चमोली

नेशनल विंटर गेम्स,उत्तराखण्ड को मिला आज पहला स्वर्ण-चमोली

नवीन भंडारी जोशीमठ औली नेशनल विंटर गेम्स,,,, से खास रिपोर्ट,, 

औली नेशनल विंटर गेम्स,उत्तराखण्ड को मिला आज पहला स्वर्ण, दूसरे दिन तक हिमाचल प्रदेश 13मेडलों के साथ पदक तालिका में सबसे ऊपर उत्तराखण्ड 6पदकों के साथ चौथे स्थान पर

औली में नेशनल स्कीइंग एंड स्नोबोर्ड चैम्पियनशिप के दूसरे दिन रविवार को नार्डिक क्रासकंट्री स्प्रिंट, स्लालम और स्नोबार्ड स्कीइंग प्रतियोगिताएं संपन्न हुई। महिला वर्ग की एक हजार मीटर नार्डिक क्राॅसकंट्री स्प्रिंट रेस में आईटीबीपी का दबदबा रहा और तीनों पदक आईटीबीपी ने अपने नाम किए। आईटीबीपी की बबीता नेगी ने स्वर्ण, भावना खोलिया ने रजत तथा पार्वती खंापा ने कास्य पदक पर कब्जा किया। वही पुरूष वर्ग की 1500 मीटर नार्डिक क्राॅसकंट्री रेस में एसएससीबी (आर्मी) ने तीनों पदक अपने नाम किए। इनमें जगदीश सिंह ने स्वर्ण, मनबहादुर गुरूंग ने रजत और रमीज अहमद ने कास्य पदक हासिल किया।

महिला अंडर 16 की जायंट स्लालम में जम्बू कश्मीर की वर्धा ने स्वर्ण, हिमांचल की पलक ठाकुर ने रजत और उत्तराखण्ड की भारती भुजवान ने कास्य पर हासिल किया। इसी प्रतियोगिता के पुरूष वर्ग में जम्बू कश्मीर के फैजान लोन ने स्वर्ण, हिमांचल के राहुल ठाकुर ने रजत और महाराष्ट्र के अजहर फयाज ने कास्य पदक हासिल किया। 

महिला वर्ग की अंडर-14 जायंट सलालम स्कीइंग प्रतियोगिता में हिमांचल की स्वेता ठाकुर ने स्र्वण, उत्तराखण्ड की महक कवान ने रजत और यूपी की मेघना ठाकुर ने कास्य पदक पर कब्जा किया। इसी प्रतियोगिता के पुरूष वर्ग में उत्तराखण्ड के प्रियांशु कवाण ने स्वर्ण पदक हासिल करने में कामयाब रहे। जबकि हिमांचल के सोहिल ठाकुर ने रजत और जम्बू कश्मीर के रूमन अल मदीना ने कास्य पदक प्राप्त किया।

महिला सीनियर वर्ग के स्लालम स्कीइंग में हिमांचल का दबदबा रहा। इस स्कीइंग प्रतियोगिता के तीनों पदक हिमांचल ने अपने नाम किए। हिमांचल की संध्या ने स्वर्ण, आंचल ने रजत तथा वर्षा ठाकुर ने कास्य पदक हासिल किया। जबकि पुरूष सीनियर वर्ग के स्लालम स्कीइंग में जम्बू कश्मीर के आरिफ मोहम्मद खान ने स्वर्ण पदक, हिमांचल के रजत ठाकुर ने रजत और एसएससीबी(आर्मी) के देवेन्द्र गुंरूग ने कास्य पदक हासिल किया। वही आज की अंतिम स्पर्धा स्नो बोर्ड स्लालम् में भी सेना का दबदबा कायम रहा,

Support us

कोई भी मीडिया हो उन्हें कभी फंड की चिंता नहीं करनी पड़ती क्यूंकि लोकतंत्र को बचाने के नाम पर उन्हें विभिन्न स्रोतों से पैसा मिलता है। लेकिन हमें सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके समर्थन की आवश्यकता है। आपसे जितना हो सके हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Donate with

Check Also

हंस फाउंडेशन दे रहा है जोशीमठ के सभी गांव में अपनी सेवा

हंस फाउंडेशन हेल्प एज संस्था आज से अपनी पूर्ण सेवा जोशीमठ के सभी गांव में …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *