Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / न्यायालय अपर जिला मजिस्ट्रेट, श्रावस्ती।आदेश अन्तर्गत धारा-144 दण्ड प्रक्रिया संहिता-उत्तर प्रदेश

न्यायालय अपर जिला मजिस्ट्रेट, श्रावस्ती।आदेश अन्तर्गत धारा-144 दण्ड प्रक्रिया संहिता-उत्तर प्रदेश

न्यायालय अपर जिला मजिस्ट्रेट, श्रावस्ती।आदेश अन्तर्गत धारा-144 दण्ड प्रक्रिया संहिता।   

 श्रावस्ती।17 फरवरी,2020/सू0वि0/ केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वाराआयोजित 10वीं एवं 12वीं की परीक्षा दिनंाक 15.02.2020 से 30.03.2020 तक तथा यू0पी0 बोर्ड कीपरीक्षाएं दिनांक 18-02-2020 से 06-03-2020 तक संचालित होंगी।जनपद साम्प्रदायिक दृष्टिकोण से अत्यन्त संवेदनशील है। उक्त परीक्षाओं को नकलविहीनएवं शांतिपूर्ण वातावरण में सम्पन्न कराये जाने के दृष्टिगत सभी परीक्षा केन्द्रोंपर मैं योगानन्द पाण्डेय, अपर जिला मजिस्ट्रेट, श्रावस्ती, दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 कीधारा-144 के अन्तर्गत प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए निम्नानुसारनिषेधाज्ञा पारित करता हूॅंः-1- पांच या पांच व्यक्तियों से अधिक का समूहपरीक्षा केन्द्र के 100 मी0 की परिधि के भीतर एकत्र नहीं होगा। परन्तु यह प्रतिबन्धपरीक्षार्थियों पर लागू नहीं होगा।2- जनपद में कोई भी व्यक्ति अथवा व्यक्तियों कासमूह परीक्षा केन्द्रों के 100मी0 परिधि के भीतर अपने साथ लाठी/डण्डा या किसीप्रकार का आग्नेयास्त्र अथवा घातक अस्त्र-शस्त्र, विस्फोटक पदार्थ, प्रतिबन्धित चाकूया अन्य कोई प्रहारक वस्तु आदि लेकर संचरण नहीं करेगा। यह प्रतिबन्ध वृद्धों,विकलांगों अथवा असहाय/बीमार व्यक्तियों द्वारा अपने सहारे के लिए प्रयोग की जा रहीलाठी/डण्डे पर लागू नहीं होगा, तथा डयूटी पर तैनात पुलिस अधिकारी/कर्मचारी भी इसप्रतिबन्ध से मुक्त रहेंगे।3- कोई भी व्यक्ति अथवा व्यक्तियों का समूह किसीस्थान पर कोई विस्फोटक सामग्री लेकर नहीं आयेगा और न ही जनपद की सीमा मेंप्रवेश करेगा।4- कोई भी व्यक्ति अथवा व्यक्तियों का समूह जनपदसीमान्तर्गत अफवाह नहीं फैलायेगा और न ही ऐसा कोई पर्चा/हैण्डबिल वितरित करेगाजिससे उत्तेजना पैदा हो।5- कोई भी व्यक्ति अथवा व्यक्तियों का समूह किसीऐसे स्थान पर किसी ध्वनिविस्तारण यंत्रों से ऐसा प्रचार-प्रसार नही करेगा जिससेजातिगत/साम्प्रदायिक तनाव पैदा होता हो या पैदा होने की सम्भावना हो।6- कोई भी व्यक्ति अथवा व्यक्तियों का समूह ऐसेलिखित या मौखिक वक्तव्य या संदेश प्रचारित/प्रसारित नहीं करेगा जिससे साम्प्रदायिकतनाव/वैमनस्य पैदा होता हो या पैदा होने की सम्भावना हो।7- किसी भी व्यक्ति अथवा व्यक्तियों द्वारा ध्वनिविस्तारक यंत्र यथा-लाउडस्पीकर एवं डी0जे0 का प्रयोग किये जाने हेतु निषिद्ध कियाजाता है।8- कोई भी व्यक्ति अथवा व्यक्तियों का समूह बिनासम्बन्धित उप जिला मजिस्ट्रेट के पूर्वानुमति प्राप्त किये किसी भी सार्वजनिक स्थान परबैठक/पंचायत/रैली व नाटक मंचन आदि का आयोजन नहीं करेगा।9- कोई भी व्यक्ति अथवा व्यक्तियों का समूहतेजाब/पेय पदार्थों की बोतले जिन्हें हिलाकर तोड़ने से अथवा किसी व्यक्ति पर फेंकनेसे चोट लग सकती हो, को निर्दिष्ट स्थान/दुकान के अतिरिक्त न तो इकट्ठा करेगा औरन करायेगा।10- कोई भी व्यक्ति अथवा व्यक्तियों का समूह जनपदसीमान्तर्गत बिना सक्षम प्राधिकारी के पूर्वानुमति के जुलूस/धरना प्रर्दशन आदि काआयोजन नही करेगा, इसके लिए सम्बन्धित उप जिला मजिस्ट्रेट से कम से कम 48 घंटे पूर्वअनुमति प्राप्त करना अनिवार्य होगा।11- यदि किसी शस्त्र लाइसेंसी व्यक्ति को जीवन भय है,और वह अपने को असुरक्षित महसूस करता है तो अपने लाइसेंसी शस्त्र को अपने साथलेकर चलने के आशय से अनुमति पत्र प्राप्त करने हेतु सक्षम प्राधिकारी को प्रार्थनापत्रप्रस्तुत करते हुए तदनुसार अनुमति प्राप्त कर लें।12- कोई भी व्यक्ति बस अड्डों, सरकारीभवनों/कार्यालयों, अथवा अन्य किसी सार्वजनिक सम्पत्ति को न तो क्षति पहुंचायेगाऔर न बस अथवा यातायात अथवा संचार के अन्य संसाधनों को प्रभावित करेगा।13- कोई भी व्यक्ति अथवा व्यक्तियों का समूह ध्वनिविस्तारण यंत्र, लाउडस्पीकर, साउण्ड बाक्स, डी0जे0 अथवा जनता को सम्बोधित करने वालीअन्य प्रणाली का प्रयोग प्रातः 6 बजे से रात्रि 10बजे तक सक्षम मजिस्ट्रेट की बिनापूर्वानुमति प्राप्त किये किसी भी सार्वजनिक स्थान या अन्य किसी भी स्थान पर नहींकरेगा एवं रात्रि 10 बजे से प्रातः 6 बजे तक मा0 सर्वाेच्च न्यायालय द्वारा ध्वनिविस्तारकयंत्रों का प्रयोग पूर्णतया प्रतिबन्धित होने के कारण नहीं करेगा और ऐसे यंत्रोंकी आवास का स्तर ध्वनि प्रदूषण (रेगुलेशन एण्ड कंट्रोल)रूल्स, 2000 में उल्लिखितनिर्धारित मानक से अधिक नहीं होगा।14- परीक्षा केन्द्र परिसर एवं उसके 100मी0 परिधि मेंकेाई भी ऐसी सामग्री चस्पा नहीं करेगा या केाई पम्पलेट वितरित नही करेगा जिससेपरीक्षा की पवित्रता प्रभावित हो।15- परीक्षा केन्द्र व उसके 100मी0 परिधि में सेल्यूलरफोन/मोबाइल/पेजर फोन अथवा अन्य कोई इलेक्ट्रानिक वस्तु ले जाने की अनुमति नहींहोगी।16- कोई भी व्यक्ति अथवा व्यक्तियों का समूहपरीक्षा के लिए तैनात किसी भी कर्मी के कार्य में व्यवधान पैदा नहीं करेगा।17- कोई भी व्यक्ति अथवा व्यक्तियों का समूह किसीभी परीक्षार्थी को परीक्षा से रोकने की नियत से कोई ऐसा कृत्य नही करेगा जिससेवह परीक्षा से वंचित रहे या वंचित रहने की सम्भावना हो।18- कोई भी व्यक्ति अथवा व्यक्तियों का समूहपरीक्षा विषयक किसी भी कार्यवाही तथा व्यवस्था मंे किसी भी प्रकार सेबाधा/व्यवधान उत्पन्न नही करेगा।19- परीक्षा हेतु निर्धारित तिथि पर परीक्षा के दिनपरीक्षा स्थल व उसके निर्धारित परिसर के 100मी0 परिधि के अन्दर कोई भी व्यक्तिकोई कैम्प/पाण्डाल नही लगायेगे। निर्धारित तिथि पर सम्बन्धित परीक्षा स्थल परकर्मियों के पहुचने की अवधि तथा परीक्षा के उपरान्त उनके वापस लौटने की अवधि तकपरीक्षा स्थल व उसके निर्धारित 100मी0 परिधि के अन्दर केाई भी व्यक्ति नशे की हालतमें प्रवेश नहीं करेगा और मादक पदार्थ नहीं ले जायेगा।20- निर्धारित तिथि पर सम्बन्धित परीक्षा स्थल परकर्मियों/परीक्षार्थियांें के पहुंचने तथा परीक्षा उपरान्त वापस लौटने तक परीक्षास्थल व उसके 100मी0 परिधि मे कोई भी व्यक्ति शस्त्र या विस्फोटक सामग्री लेकरप्रवेश नहीं करेगा व इस अवधि में उपरोक्त परिसर के सीमान्तर्गत किसी ऐसे ध्वनिविस्तारक यंत्र यथा माइक, रेडियो, ट्रांजिस्टर व लाउडस्पीकर का प्रयोग नहीं करेगा जिससेकि परीक्षा कार्य में व्यवधान पैदा होता हो या पैदा होने की सम्भावना हो।21- परीक्षा स्थल पर कर्मियों/परीक्षार्थियों केपहुंचने तथा परीक्षा उपरान्त वापस लौटने तक परीक्षा स्थल व निर्धारित 100मी0 परिधिके अन्दर कोई ज्वलनशील पदार्थ यथा कैरोसिन, आयल आदि नहीं ले जायेगा जब तक किपरीक्षा कार्य के लिए आवश्यक समझे जाने पर केन्द्र व्यवस्थापक द्वारा अनुमति न दे दीजाय।22- अनुचित मुद्रण अथवा प्रकाशन द्वारापरीक्षार्थियों को गुमराह करने वाले व्यक्तियों तथा अफवाहें आदि पर कड़ी निगाहरखी जाय तथा आवश्यकता पड़ने पर उनके विरूद्ध नियमानुसार कार्यवाही की जाय।23- परीक्षा प्रारम्भ होने के दौरान केन्द्रों केआस-पास 200मी0 की परिधि में समस्त फोटो कापियर मशीन का संचालन पूर्णतयाप्रतिबन्धित रहेगा। उपरोक्त आदेश जनपद श्रावस्ती की सीमा मेंरहने वाले तथा प्रवेश करने वाले व्यक्तियों पर आदेश पारित होने के दिनांक15.02.2020 से 30.03.2020 तक प्रभावी रहेगा। उपयुक्त आदेश तुरन्त प्रभावी कियाजाना आवश्यक है तथा सभी पक्षों का सुना जाना सम्भव नहीं है। अतएव उक्त आदेशएकपक्षीय रूप से पारित किये जाते हैं। अपरिहार्य परिस्थितियों में उपरोक्त अथवाउपरोक्त में से किसी एक प्रतिबन्ध से जनपद में तैनात सक्षम मजिस्ट्रेट द्वारा शिथिलताप्रदान की जा सकती है। उक्त आदेश या आदेश के किसी अंश का उल्लंघन भा0द0वि0 कीधारा-188 के अन्तर्गत दण्डनीय होगा। उक्त आदेश आज दिनांक 15.02.2020 को मेरेहस्ताक्षर एवं न्यायालय की मुद्रा के अधीन निर्गत किया गया। (योगानन्द पाण्डेय )अपरजिला मजिस्ट्रेट,

ब्यूरोरिपोर्ट उत्तर प्रदेश

About G News Portal

Check Also

पत्रकारों को आर्थिक मदद प्रदान करे

पत्रकारों को आर्थिक मदद प्रदान करे रीवाँ-चित्रकूट   जनता दल सेक्युलर के प्रदेश अध्यक्ष शिव …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *