Breaking News
[uam_ad id="34152"]
Home / खेल / पं दीनदयाल उपाध्याय राजकीय बालिका महाविद्यालय सेवापुरी के क्रीड़ांगन में अन्तर्कक्षा कबड्डी प्रतियोगिता का आयोजन – बनारस
पं दीनदयाल उपाध्याय राजकीय बालिका महाविद्यालय सेवापुरी के क्रीड़ांगन में अन्तर्कक्षा कबड्डी प्रतियोगिता का आयोजन – बनारस
पं दीनदयाल उपाध्याय राजकीय बालिका महाविद्यालय सेवापुरी के क्रीड़ांगन में अन्तर्कक्षा कबड्डी प्रतियोगिता का आयोजन – बनारस

पं दीनदयाल उपाध्याय राजकीय बालिका महाविद्यालय सेवापुरी के क्रीड़ांगन में अन्तर्कक्षा कबड्डी प्रतियोगिता का आयोजन – बनारस

11 दिसंबर2019 , स्थानीय भीषमपुर स्थित पं दीनदयाल उपाध्याय राजकीय बालिका महाविद्यालय सेवापुरी के क्रीड़ांगन में अन्तर्कक्षा कबड्डी प्रतियोगिता का आयोजन हुआ, जिसमें चार टीमों ने प्रतिभाग किया, जिसमे बी ए द्वितीय वर्ष की टीम ने प्रथम स्थान प्राप्त किया जबकि बी ए प्रथम वर्ष द्वितीय स्थान पर एवं बी ए तृतीय वर्ष ने तृतीय स्थान पर अपनी विजय पताका फहराया, लाइन रेफरी रिंकू पटेल और एकता श्रीवास्तव ने बखूबी दायित्व निर्वाह किया। मैन आफ द मैच का एवार्ड सुश्री इन्दूरानी, बी ए द्वितीय वर्ष को प्राप्त हुआ।

महाविद्यालय के क्रीड़ा प्रभारी डॉ सौरभ सिंह ने प्राचार्य डॉ यशोधरा शर्मा का सर्वप्रथम पुष्प गुच्छ प्रदान कर स्वागत किया एवं तत्पश्चात प्राचार्य मैडम ने खिलाड़ियों का परिचय प्राप्त करते हुए उनके स्वर्णिम भविष्य की कामना की, उन्हें जय पराजय की भावना से ऊपर उठकर आपसी सहयोग और सौहार्द्र अपनाने का संदेश दिया। टीम कोच प्रो घनश्याम कुशवाहा एवं डॉ कमलेश कुमार सिंह ने अपनी अपनी टीमों को कबड्डी की बारीकियों से अवगत कराया। टीम मैनेजर का दायित्व डॉ कमलेश कुमार वर्मा, डॉ रामकृष्ण गौतम और डॉ आशा ने निभाया। इस अवसर पर डॉ सत्यनारायण वर्मा, डॉ अर्चना गुप्ता , मिट्ठू राम उपस्थित रहे। धन्यवाद ज्ञापन डॉ सौरभ सिंह, क्रीडा प्रभारी ने मुख्य रेफरी का दायित्व निभाया और अतिथियों का धन्यवाद ज्ञापन किया।

Check Also

ओलिंपिक पॉवर बनने के लिए भारत को हर खेल में एक तेंडुलकर की जरूरत: अदिले सुमारिवाला

ओलिंपिक पॉवर बनने के लिए भारत को हर खेल में एक तेंडुलकर की जरूरत: अदिले सुमारिवाला

ओलिंपिक पॉवर बनने के लिए भारत को हर खेल में एक तेंडुलकर की जरूरत: अदिले …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *