Breaking News
Home / राजस्थान / करौली / पांचना डैम कमांड एरिया विकास परिषद के तत्वावधान में ग्राम मोहचा में पांचना चौपाल का आयोजन हुआ।

पांचना डैम कमांड एरिया विकास परिषद के तत्वावधान में ग्राम मोहचा में पांचना चौपाल का आयोजन हुआ।

गंगापुर सिटी 9 सितंबर ,पांचना डैम कमांड एरिया विकास परिषद के तत्वावधान में ग्राम मोहचा में पांचना चौपाल का आयोजन हुआ। जीतेन्द्र पिलोदा ने बताया कि चौपाल की अध्यक्षता पृथ्वीराज मीना ने की।

     चौपाल के मुख्य वक्ता परिषद के महामंत्री महेन्द्र सिंह मीना ने उपस्थित पांचना मित्रों को सम्बोधित करते हुए का पांचना बांथ का पानी नहरों में खुलवाने के लिए सत्याग्रह करने का संकल्प लिया। पांचना मित्रों घर-घर जाकर हस्ताक्षर करवा रहे हैं।

  

      मीना ने कहा कि 1980 से लेकर 2020 तक चली उदारीकरण या वैश्वीकरण की प्रक्रिया का भारत पर क्या असर पड़ा?, इसका लेखा-जोखा होना चाहिये था| वह नही हुआ| सरकारी पूंजीवाद से ज्यादा निर्मम और घातक निजी पूंजीवादी अर्थव्यवस्था सिद्ध हुई| समाज का एक छोटा हिस्सा भौतिक उपभोग की दिशा मे सामाजिक एवं मानवीय मूल्यों की कीमत पर थोड़ा लाभान्वित हुआ|* राजसत्ता, अर्थसत्ता का अनुसरण करने लगी| सन् 2000 तक यह सब दृश्य साफ़-साफ़ नजर आने लगा| पूरा सत्ता प्रतिष्ठान समाज के कमजोर वर्ग की तरफदारी न कर आर्थिक ताकतों के पक्ष मे खड़ा दिखने लगा| | *मानो भय, भूख, भ्रष्टाचार के मुद्दे सरकारों न रह गये हों| राज्य की प्रासंगिकता इस बात में होती है कि वह उनका बचाव करे जो खुद का बचाव न कर सकते हों| पिछले 20 वर्षों मे सामाजिक एवं आर्थिक विषमता बढ़ी| फासला और बढ़ा|* 

         मीना ने कहा कि सन् 2003 में की एक अध्ययनकर्ता की उदारीकरण और वैश्वीकरण के समाज, राजनीति, अर्थव्यवस्था और संस्कृति पर पड़े प्रभावों की रिपोर्ट बताती है कि –

* ग्रामीण गरीबी नही घटी| पलायन, बेबसी, बेरोजगारी बढ़ी|* 

* शहरी गरीबी कुछ घटी, मगर एवज मे अपराध, गंदगी, और बेरोजगारी को साथ लाई| स्लमीकरण तेजी से छोटे शहरों तक जा पहुँचा|*

. अमीर-गरीब का फासला बढ़ा|* 

*. कमजोर वर्ग और विशेषकर महिलाएँ अधिक नुकसान मे रही|* 

*. सस्ते किस्म का उपभोगवाद, स्वैराचार समाज मे फैला| वैश्वीकरण की प्रवृति है केन्द्रीकरण, एकरूपीकरण, भूमंडलीकरण और बाजारीकरण|*

 प्रकृति, पर्यावरण का विध्वंस देश मे और दुनिया भर मे भरपूर हुआ|* 

           मीना ने कहा कि भारत में राष्ट्रीय चेतना और जीवनीशक्ति ने राजसत्ता और अर्थसत्ता की अनैतिक प्रवृतियों के खिलाफ मोर्चा बाँधा| भारतीय सभ्यतामूलक चेतना का प्रभाव धर्मसत्ता और समाजसत्ता पर अनुकूल पड़ा| राजसत्ता और अर्थसत्ता की रचना बाजारवाद की ओर बढती गई| 

      मीना ने कहा कि भारत वर्ष मोक्षभूमि है| शेष भोगभूमियाँ है| भारत वर्ष प्रस्थापना के नाते किसी व्यक्ति, संगठन या विचारधारा का नहीं अपितु भारत, राम का भारत है| रामराज्य, इसका सहज स्वभाव है|* रामराज्य जहाँ त्रिविध तपों से मुक्ति हो| उसका आधार है – सर्वात्मैक्य की अनुभूति| इसलिये भारत मे समाज की संरचना का आधार है धर्म, जो सत्य और शाश्वत का दूसरा नाम है| ऐसी धर्माधिष्ठित समाज रचना, धर्म नियंत्रित राज्य, धर्मानुकूल समाज और धर्मप्रवण व्यक्ति तदनुसार समाज संचालन होता है धर्मसत्ता से और उसके आधीन समाजसत्ता, उसके आधीन राज्यसत्ता एवं उसके आधीन अर्थसत्ता से|

*इन्हीं तत्वों और विधि-विधान के कारण एक रस समाज सर्वात्मैक्य की आदरयुक्त भावना से अपनी जड़ों से, स्मृति से जुड़ता है, झंकृत होता है| इसमे से ही सामान्यजन मे कुछ बड़ा कर गुजरने का संकल्प स्पंदित होता है| उसकी भौतिक और अभौतिक स्तर पर मूल्यों, आदर्शों से परिपूरित जीवनशैली का उदघोस बनता है, वसुधैव कुटुम्बकम्|* विश्व एक परिवार है, बाजार नहीं| 

        मीना ने कहा कि उस रामराज्य की ओर कदम रखा जाना भारतीय अभीप्सा का उदघोष है| उस संकल्पना के अनुसार अविचारित भूमंडलीकरण का उत्तर होगा विकेन्द्रीकरण, बाजारमुक्ति, विविधीकरण और स्थानिकीकरण| इस दिशा मे बढ़ने का मंत्र है “सब जन करहिं परस्पर प्रीति”| *इसका ही परिपाक है “सर्वे भवन्तु सुखिनः” और इसका फल है भारतीय परंपरा में उदघोषित शान्ति मंत्र|* 

इस तत्वज्ञान के अनुकूल है रामराज्य के अनुकूल, “मानव केन्द्रिक नही” “प्रकृति केन्द्रिक विकास” का पैराडाइम| मनुष्य अपने को एकमेव या सर्वोपरि न माने बल्कि जमीन, जल, जंगल, जानवर के अनुकूल जन और जीविका का रचना में उसे सार्थकता दिखे| 

   मीना ने कहा कि पांचना बांध का पानी नहरों में अवश्य आयेगा । यह हमारा संकल्प है।

     चौपाल में भीमसिंह मीना ने कहा कि भारत की आत्मा गांव है। खेती के लिए पानी जरूरी है । विजेन्द्र पटेल ने कहा कि परिषद के द्वारा चलाये जा रहे सत्याग्रह में हमारे गांव का बच्चा -बच्चा तैयार है। हमे पूर्ण विश्वास है कि नहरों में पानी अवश्य आयेगा। पृथ्वी राज मीना ने कहा कि 14 बर्षो से कमांड एरिया (माड क्षेत्र ) नहरों में पानी आने की बाट देख रहा है। परिषद ने गांव -गाव जाकर जनजागरण किया उससे किसानों में आशा का संचार हो रहा है। चौपाल को राजाराम मीना ,गोविंद कैमला ,श्रीराम मीना ,आदि ने सम्बोधित किया। चौपाल में लोकेश ,नवलसिंह, रामस्वरूप, गजानंद शर्मा, अशोक सैन,महेश मीना, रामदयाल मीना, मलूकाराम, राजपाल आदि गणमान्य उपस्थित थे।चौपाल का संचालन बृजलाल मीना ने किया।

Check Also

ACB की बड़ी कार्रवाई-सपोटरा

सपोटरा में ACB की बड़ी कार्रवाई तहसीलदार विष्णु भारद्वाज 8000 की रिश्वत लेते रंगे ट्रेप,पेट्रोल …