Breaking News
Home / देश / प्रधानमंत्री हो या मुख्यमंत्री अदालत का फैसला मानने के लिए सभी बाध्य : सुप्रीम कोर्ट |

प्रधानमंत्री हो या मुख्यमंत्री अदालत का फैसला मानने के लिए सभी बाध्य : सुप्रीम कोर्ट |

प्रधानमंत्री हो या मुख्यमंत्री अदालत का फैसला मानने के लिए सभी बाध्य : सुप्रीम कोर्ट |

सुप्रीम कोर्ट ने केरल के सबरीमाला मंदिर में 10 से 50 उम्र की महिलाओं के प्रवेश की अनुमति देने के पांच सदस्यीय संविधान पीठ के फैसले के बाद बड़े पैमाने पर हुए विरोध प्रदर्शन पर कड़ा एतराज जताया है। कोर्ट ने कहा है कि जब कोर्ट कोई फैसला सुनाता है तो उसे मानना सभी के लिए बाध्यकारी होता है, चाहे वह प्रधानमंत्री हो या मुख्यमंत्री।

जस्टिस रोहिंग्टन एफ नरीमन और जस्टिस डीवाई चंदचूड़ ने बहुमत द्वारा इस मामले को सात सदस्यीय पीठ के पास भेजने से इत्तफाक न रखते हुए कहा है कि जो भी हमारे फैसले में सहयोग देने का काम नहीं करता है, वह अपने संकट की स्थिति में ऐसा करता है। जहां तक केंद व राज्य के मंत्रियों और सांसद व विधायकों का सवाल है अगर वे ऐसा करते हैं तो वे भारत के संविधान की मर्यादा कायम रखने, संरक्षण और रक्षा करने की संवैधानिक शपथ का उल्लंघन करेंगे।

About Gangapur City Portal

hi i am gangapur city portal admin

Check Also

इश्क में रिस्क जीना तेरी गली में मरना तेरी गली में-मध्य प्रदेश

सागर इश्क में रिस्क जीना तेरी गली में मरना तेरी गली में जी हां मामला …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *