Home / राजस्थान / बिजली उपभोक्ताओं की शिकायतों का संवेदनशीलता से निराकरण हो -मुख्यमंत्री

बिजली उपभोक्ताओं की शिकायतों का संवेदनशीलता से निराकरण हो -मुख्यमंत्री

ऊर्जा विभाग की समीक्षा बैठक

बिजली उपभोक्ताओं की शिकायतों का संवेदनशीलता से निराकरण हो

-मुख्यमंत्री

जयपुर, 19 अगस्त। मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने प्रदेश में बिजली उपभोक्ताओं की शिकायतों का संवेदनशीलता के साथ त्वरित निराकरण करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि शहरों के साथ ही गांव-ढाणी तक उपभोक्ताओं को बिना ट्रिपिंग के निर्बाध विद्युत आपूर्ति करना सुनिश्चित करें।

श्री गहलोत बुधवार सायं को मुख्यमंत्री निवास पर ऊर्जा विभाग की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि बिजली बिलों को लेकर उपभोक्ताओं के परिवादों का जल्द से जल्द समाधान किया जाए। जिला एवं उपखंड स्तर पर अभियंता आमजन की शिकायतों को गंभीरता से लें। इस काम में किसी तरह की कोताही न हो। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि रिहायशी भवनों तथा अन्य निजी इमारतों से गुजर रही बिजली लाइनों को हटाने के लिए रूपरेखा तैयार की जाए। उन्हाेंने निर्देश दिए कि सुरक्षा की दृष्टि से सरकारी स्कूलों से गुजर रही विद्युत लाइनों को हटाने के लिए अभियान चलाएं और इन्हें निशुल्क शिफ्ट किया जाए। उन्होंने कहा कि बारिश के इस मौसम में आमजन को विद्युत जनित खतरों से बचाने के लिए एहतियात बरती जाए। विद्युत तंत्र की मेंटिनेंस का काम समय पर हो। 

श्री गहलोत ने कहा कि विद्युत छीजत को न्यूनतम स्तर पर लाने के लिए तीनों वितरण कंपनियां प्रभावी निगरानी सुनिश्चित करें। जिन फीडरों पर अधिक छीजत पाई जाए उस फीडर पर संबंधित अधिकारियों की जवाबदेही तय की जाए। उन्होंने कहा कि छीजत कम होगी तो उपभोक्ताओं को गुणवत्तापूर्ण विद्युत उपलब्ध कराने में और आसानी होगी। 

बैठक में ऊर्जा विभाग के प्रमुख सचिव श्री अजिताभ शर्मा ने प्रस्तुतीकरण में बताया कि प्रदेश मंंे मांग के अनुरूप बिजली की पर्याप्त उपलब्धता है। वर्तमान में शहरी एवं औद्योगिक क्षेत्रों में 24 घंटे तथा ग्रामीण क्षेत्रों में 22 से 23 घंटे बिजली आपूर्ति की जा रही है। उन्होंने बताया कि दिसम्बर 2018 से मार्च 2020 तक प्रदेश में एक लाख 39 हजार कृषि कनेक्शन जारी किए जा चुके हैं। 

इस अवसर पर ऊर्जा मंत्री श्री बीडी कल्ला, मुख्य सचिव श्री राजीव स्वरूप, अति. मुख्य सचिव वित्त श्री निरंजन आर्य, प्रसारण निगम के सीएमडी श्री दिनेश कुमार, विद्युत उत्पादन निगम के सीएमडी श्री पी. रमेश, जयपुर डिस्कॉम के एमडी श्री एके गुप्ता, जोधपुर डिस्कॉम के एमडी श्री अविनाश सिंघवी, अक्षय ऊर्जा निगम के एमडी श्री अनिल गुप्ता भी उपस्थित थे। अजमेर डिस्कॉम के एमडी श्री वीएस भाटी वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए जुड़े।

Support us

कोई भी मीडिया हो उन्हें कभी फंड की चिंता नहीं करनी पड़ती क्यूंकि लोकतंत्र को बचाने के नाम पर उन्हें विभिन्न स्रोतों से पैसा मिलता है। लेकिन हमें सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके समर्थन की आवश्यकता है। आपसे जितना हो सके हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Donate with

Check Also

मनरेगा में 15 लाख से अधिक परिवारों को 100 दिन का रोजगार अवश्य दिलवायें – मुख्य सचिव

मनरेगा में 15 लाख से अधिक परिवारों को 100 दिन का रोजगार अवश्य दिलवायें …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *