Home / राजस्थान / भरतपुर / बिजली की बड़ी दरों के खिलाफ भाजपाइयों ने राज्यपाल के नाम एसडीएम वनवारी लाल को सौंपा ज्ञापन-भरतपुर

बिजली की बड़ी दरों के खिलाफ भाजपाइयों ने राज्यपाल के नाम एसडीएम वनवारी लाल को सौंपा ज्ञापन-भरतपुर

कामां भरतपुर

बिजली की बड़ी दरों के खिलाफ भाजपाइयों ने राज्यपाल के नाम एसडीएम वनवारी लाल को सौंपा ज्ञापन।

बीजेपी ने तहसील कार्यालय पर किया प्रदर्शन।

भरतपुर जिले के कामा कस्बे में आज भाजपा कार्यकर्ताओं ने तहसील कार्यालय पर पहुंचकर किया विरोध प्रदर्शन जमकर नारेबाजी करते हुऐ एसडीएम को दिया ज्ञापन । ज्ञापन देते हुए बताया कि राज्य सरकार ने आम जनता के साथ धोखा किया है और बिजली की बढ़ी दरों को वापस कम किया जाए। नहीं तो आम जनता आंदोलन करेगी जिसकी जिम्मेदारी राज्य सरकार की होगी।

 भाजपा कार्यकर्ता निहाल सिंह मीणा ने बताया कि राजस्थान सरकार द्वारा बढ़ाई गई बिजली दरों को वापस लेना चाहिए यह जनता के साथ छलावा है । राजस्थान की वर्तमान कांग्रेस सरकार द्वारा बिजली दरों को बढ़ाकर आम जन के साथ धोखा किया है। उन्होंने अपने घोषणापत्र में वादा किया था कि बिजली की दरें बढ़ाई नहीं जाएंगी ।

राजस्थान में कुल एक करोड बीस लाख परिवार बिजली का उपयोग करते हैं इनमें से 68 फीसदी परिवार किसान परिवार है। सरकार की बिजली की दरें नहीं बढ़ाने की घोषणा उस समय कपोल साबित होती गई जब राजस्थान नियामक आयोग की सिफारिश पर एक फरवरी 2020 से राज्य में 15 से 25% विद्युत दरों को बढ़ाने के आदेश जारी कर दिए ।

प्रति यूनिट 95 पैसे उपभोक्ताओं के बढ़ाने के साथ ही ₹115 फिक्स रिचार्ज प्रतिमा बढ़ाकर अब तक की सबसे अधिक विद्युत दरों को बढ़ाकर आम उपभोक्ताओं की जेब पर एक हजार आठ सौ करोड़ का डाका डाला जा रहा है।

 जो गांव या ढाणी में दो या तीन कमरों में रहता है उसकी विद्युत खपत 150 से 200 यूनिट प्रतिमाह हो जाती है उस गरीब किसान को ₹6 40 पैसे की जगह अब 7रुपये 35 पैसे फिक्स चार्ज ₹220 प्रति माह ₹275 प्रतिमा पड़ेगा। यह वादा खिलाफा है ।

हाल ही में विद्युत कंपनी ने एक करोड बीस लाख घरेलू उपभोक्ताओं पर एडीशनल सिक्योरिटी के नाम पर एक हजार 200 करोड़ भार डाला है।

 जिसके अंतर्गत 42लाख 25हजार उपभोक्ताओं को नोटिस भी जारी किए जा चुके हैं ।

इस अतिरिक्त एडीशनल सिक्योरिटी चार्ज के नाम कारण आम उपभोक्ताओं पर ₹600 से लेकर ₹800 तक का अतिरिक्त भार आ गया है।

 इस मौके पर भाजपा शहर मंडल अध्यक्ष प्रदीप गोयल, पूर्व शहर अध्यक्ष निहाल मीणा, शाकिर अली, अली हुसैन ,विजय वकील ,रवि तिवारी ,कुमार विक्रम सिंह सर्वेश सैनी बलजीत कलावटा रामजी लाल शर्मा पूर्व अध्यक्ष अन्य लोग मौजूद रहे।

Support us

कोई भी मीडिया हो उन्हें कभी फंड की चिंता नहीं करनी पड़ती क्यूंकि लोकतंत्र को बचाने के नाम पर उन्हें विभिन्न स्रोतों से पैसा मिलता है। लेकिन हमें सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके समर्थन की आवश्यकता है। आपसे जितना हो सके हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Donate with

Check Also

रेलवे ट्रैक बाधित करने वालों पर रेलवे प्रशासन व आरपीएफ करेगी केस दर्ज

गुर्जर आरक्षण आंदोलन के चलते आज रेलवे प्रशासन व आरपीएफ ने बड़ा फैसला लिया है। …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *