Home / उत्तराखंड / चमोली / बी०के० टी० सी० उद्योगपति मुकेश अम्बानी के सौजन्य से कर्नाटक में बनायेगी चंदन वाटिका।

बी०के० टी० सी० उद्योगपति मुकेश अम्बानी के सौजन्य से कर्नाटक में बनायेगी चंदन वाटिका।

बी०के० टी० सी० उद्योगपति मुकेश अम्बानी के सौजन्य से कर्नाटक में बनायेगी चंदन वाटिका।

नवीन भंडारी, चमोली, 

कर्नाटक राज्य के शिकारीपुर में बदरीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति और भारत के प्रसिद्ध उद्योगपति मुकेश अंबानी के सौजन्य से बदरीनाथ धाम में भगवान बद्री विशाल को लगाए जाने वाला चंदन का लेप की आवश्यकता हेतु कर्नाटक राज्य के शिकारीपुर में चंदन वाटिका बनाई गई है। इस वन में वर्तमान समय में 2400 चंदन के पेड़ों का रोपण 4 एकड़ भूमि कर किया गया है। इन वनों में जिनकी उम्र 2 साल 4 साल 5 साल 6 साल और सबसे अधिक उम्र वाला 9 साल का पौधा लगाया गया है ।

बदरीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति के अध्यक्ष मोहन प्रसाद थपलियाल ने बताया कि 9 साल का पौधा अगले 6 साल में हमें चंदन उपलब्ध करा देगा। जिस से बद्रीनाथ धाम में चंदन की कोई कमी नहीं होगी। उन्होंने कहा कि हम बड़े ही सौभाग्यशाली हैं और वह लोग भी बड़े सौभाग्यशाली हैं जिनकी भूमि पर यह चंदन वाटिका तैयार की जा रही है। उनके समस्त परिवार के सदस्यों के नाम चारोधाम में विराजमान भगवान केदारनाथ और बद्रीनाथ धाम के देवताओं से जुड़े हुए हैं ।

उन्होंने कहा कि भविष्य में हमें चंदन की कोई कमी नहीं होगी और भगवान बद्री विशाल को भरपूर मात्रा में चंदन का लेप लगाया जाएगा। इन दिनों बदरीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति के अध्यक्ष मोहन प्रसाद थपलियाल कर्नाटक राज्य के दौरे पर हैं और वहीं पर चंदन के पौधों का रोपण कर रहे हैं। उनके साथ मंदिर समिति मुख्य कार्याधिकारी बी.डी.सिंह एवं अधिशासी अभियंता अनिल ध्यानी भी कर्नाटक गये हैं।

Support us

कोई भी मीडिया हो उन्हें कभी फंड की चिंता नहीं करनी पड़ती क्यूंकि लोकतंत्र को बचाने के नाम पर उन्हें विभिन्न स्रोतों से पैसा मिलता है। लेकिन हमें सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके समर्थन की आवश्यकता है। आपसे जितना हो सके हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Donate with

Check Also

हंस फाउंडेशन दे रहा है जोशीमठ के सभी गांव में अपनी सेवा

हंस फाउंडेशन हेल्प एज संस्था आज से अपनी पूर्ण सेवा जोशीमठ के सभी गांव में …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *