Home / राजस्थान / भीलवाड़ा / बेरोजगार आयुर्वेद नर्सेज ने जिला कलेक्टर को सोंपा ज्ञापन

बेरोजगार आयुर्वेद नर्सेज ने जिला कलेक्टर को सोंपा ज्ञापन

आयुष नर्सेज महासंघ के प्रदेश व्यापी आह्वान पर….

बेरोजगार आयुर्वेद नर्सेज ने मुख्यमंत्री के नाम जिला कलेक्टर को दिया ज्ञापन

( नर्सेज के प्रस्तावित 550 पदों पर वित्तीय स्वीकृति जारी कर नियुक्ति देने का है मामला )

( जुलाई में वित्त स्वीकृति जारी नहीं होने पर प्रदेश अध्यक्ष ने किया, विधानसभा पर प्रदर्शन का ऐलान )

भीलवाड़ा 6 जुलाई 2020 :-

*आयुर्वेद विभाग अजमेर द्वारा प्रस्तावित आयुर्वेद नर्सेज के 550 पदों पर जुलाई माह में ही वित्तीय स्वीकृति जारी कर भर्ती की विज्ञप्ति निकलवा कर नियुक्ति देने की मांग को लेकर आक्रोशित बेरोजगार आयुर्वेद नर्सेज सोमवार को अखिल राजस्थान राज्य आयुष नर्सेज महासंघ के प्रदेश व्यापी आह्वान पर महासंघ के लेटरपैड पर सरकार द्वारा जारी एडवाइजरी का पालन करते हुये भीलवाड़ा सहित प्रदेश के सभी 33 जिला कलेक्टर्स को मुख्यमंत्री व चिकित्सा मंत्री के नाम ज्ञापन देकर प्रकरण में सरकार का ध्यानाकर्षण करवाया*

महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष छीतर मल सैनी ने इस अवसर पर बताया कि आयुर्वेद विभागन्तर्गत नर्सेज की शीघ्र भर्ती कर रिक्त पदों को भरने की आयुष नर्सेज महासंघ द्वारा उठाई गई मांग के उपरान्त विभाग द्वारा एक माह पूर्व 550 आयुर्वेद नर्सेज के पदों पर भर्ती की अर्थना बनाकर पदों पर वित्तीय स्वीकृति हेतु राज्य सरकार को भिजवाई गई थी किन्तु एक माह के करीब समय व्यतीत हो जाने के बाद भी उक्त भर्ती की अभी तक वित्तीय स्वीकृति जारी नहीं होने से प्रदेश के हजारों बेरोजगार आयुर्वेद नर्सेज में सरकार के प्रति काफी गहरा आक्रोश झलक रहा है !

सैनी ने सरकार को चेतावनी देते हुये कहा कि अगर प्रशासनिक विभाग जुलाई माह में वित्त स्वीकृति जारी करवाने में विफल रहता है तो आगामी विधानसभा सत्र में प्रदेश के हजारों बेरोजगार नर्सेज महासंघ के साथ मिलकर विधानसभा पर महारैली कर प्रदर्शन करेंगे !
ज्ञापन देने वालो में बनवारी लाल वैष्णव, कृष्णा शर्मा , सुनीता धाकड़ ,सुमन राठौड़, सांवर मल शर्मा ,विनोद धाकड़ , आज़ाद पाराशर ,सद्दाम पठान ,कुशल सिंह यादव आदि उपस्थित थे !

छीतर मल सैनी
प्रदेश अध्यक्ष

Check Also

पेसवानी की स्मृति में भगवानपुरा में किया पौधरोपण

पेसवानी की स्मृति में भगवानपुरा में किया पौधरोपण पर्यावरण के बिना जीवन अधूरा है शाहपुरा …