Home / राजस्थान / धौलपुर / भाजपाईयों ने सौंपा ग्यापन-धौलपुर

भाजपाईयों ने सौंपा ग्यापन-धौलपुर

भाजपाईयों ने सौंपा ग्यापन

राजस्थान के धौलपुर जिले में भारतीय जनता युवा मोर्चा के जिलाध्यक्ष अजय उर्फ बॉबी परमार के खिलाफ राजनैतिक व सत्ता के रसूख में बाडी़ विधायक द्वारा किये जा रहे अत्याचारों के विरूद्ध कार्यवाहक जिला कलेक्टर शिवचरन मीणा और जिला पुलिस अधीक्षक मृदुल कच्छावा को भाजपा जिला अध्यक्ष के नेतृत्व में भाजपाईयों ने एक ग्यापन सौंपा।

ग्यापन में बाडी़ उपखंड स्तर के प्रशासनिक अधिकारियों पर सत्ता का जोर व स्थानांतरण का भय दिखाकर प्रशासन द्वारा मेरे विरूद्ध मामला दर्ज करा कर अनावश्यक परेशान किया जाना बताया।

इस हेतु प्रशासन के जिला अधिकारियों से मिलकर युवा जिलाध्यक्ष के खिलाफ हो रहे सरकारी तंत्र के दुरूपयोग को उनके संग्यान में लाया गया। 

जिन बिन्दुओं को आधार बना कर मेरे विधायक ने प्रशासन द्वारा मेरे विरूद्ध जो मामला दर्ज कराया हैं उसके कागजातों की प्रतिलिपि भी अधिकारियों को दिखाई गई।

इसके साथ ही ग्यापन देने वालों में भाजपा जिलाध्यक्ष बहादुर सिंह त्यागी, पूर्व नगर परिषद चेयरमैन रघुवीर चौधरी, जिला उपाध्यक्ष शैलेंद्र यादव, अकील अहमद, जिला महामंत्री शरीफ खान, रविंद्र श्रोत्रिय, अविनाश पूर्व नगर अध्यक्ष विजय श्रीवास्तव आदि भाजपाई लोग मौंजूद रहे। खबर के चलते बतादें कि भाजयुमो जिलाध्यक्ष अजय उर्फ बॉबी परमार के समर्थन में ग्यापन देने से पूर्व भाजपा जिला प्रभारी भानू प्रताप राजावत के नेतृत्व में राजनिवास पैलेस रोड़ स्थित भाजपा कार्यालय पर जिला पदाधिकारियों की एक बैठक भी होना बताया जा रहा है। 

बैठक में ग्यापन देने का निर्णय लेकर भाजपा का प्रतिनिधि मंडल जिला प्रशासन से ग्यापन देने के रूप में जाकर मिला।

Support us

कोई भी मीडिया हो उन्हें कभी फंड की चिंता नहीं करनी पड़ती क्यूंकि लोकतंत्र को बचाने के नाम पर उन्हें विभिन्न स्रोतों से पैसा मिलता है। लेकिन हमें सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके समर्थन की आवश्यकता है। आपसे जितना हो सके हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Donate with

Check Also

रेलवे ट्रैक बाधित करने वालों पर रेलवे प्रशासन व आरपीएफ करेगी केस दर्ज

गुर्जर आरक्षण आंदोलन के चलते आज रेलवे प्रशासन व आरपीएफ ने बड़ा फैसला लिया है। …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *