Home / राजस्थान / भीलवाड़ा / भीलवाड़ा में कोरोना पर पहले चरण की विजय की घोषणा कोरोना संक्रमण मुक्त 9 लोग डिस्चार्ज

भीलवाड़ा में कोरोना पर पहले चरण की विजय की घोषणा कोरोना संक्रमण मुक्त 9 लोग डिस्चार्ज

भीलवाड़ा में कोरोना पर पहले चरण की विजय की घोषणा

कोरोना संक्रमण मुक्त 9 लोग डिस्चार्ज

भीलवाड़ा – मूलचन्द पेसवानी

भीलवाड़ा ने कोरोना संक्रमण की रोकथाम एवं नियंत्रण की दिशा में पहला चरण पार कर लिया है। जिला कलेक्टर राजेंद्र भट्ट ने शुक्रवार को देर सांय नौ उन रोगियों को जिला अस्पताल से डिस्चार्ज किया जो कोरोना वायरस के संक्रमण से मुक्त हो गए। तीसरे टेस्ट नगेटिव आने के बाद इन लोगों को अस्पताल से छुट्टी दी गई। इनका महात्मा गांधी अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में उपचार चल रहा था।

जिला कलेक्टर ने इन सभी को गुलाब का फूल भेंट कर अपने-अपने घर के लिए रवाना किया। डिस्चार्ज किए गए सभी लोगों को 14 दिन के होम क्वारन्टाइन में रहने की हिदायत देते हुए उनके हाथों पर मोहर लगाई गई और घर में रहने व सोशल डिस्टेन्सिंग की शपथ भी दिलाई गई। इस अवसर पर संक्रमण मुक्त इन लोगों ने मीडिया से बातचीत की और अपने अनुभव साझा किए। मेडीकल कालेज प्रिंसिपल डाॅ. राजन नंदा, महात्मा गांधी अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाॅ. अरूण गौड़, कोरोना संक्रमण के उपचार से जुड़े डाॅक्टर्स व नर्सिंग कर्मी इस अवसर पर मौजूद रहे।  

डिस्चार्ज के बाद स्वस्थ हुए एक रोगी ने बताया की आइसोलेशन वार्ड में उपचार लेना और वहां से स्वस्थ होकर लौटना किसी वनवास से घर लौटने जैसा है। उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी अस्पताल में अंतर्राष्ट्रीय प्रोटोकाल के अनुसार उन्हें उपचार दिया गया एवं डाक्टरों की अथक मेहनत से वह इस महामारी से उबर कर घर लौट रहे हैं।

जिला कलक्टर ने कोरोना से लड़ने में अनवरत लगे हुए चिकित्सा विभाग के सभी डाक्टर, नर्सिंग स्टाफ एवं अन्य कार्मिकों की भूरि-भूरि प्रशंसा करते हुए कहा कि मानवता को बचाने की इस लड़ाई में दिन-रात लगकर चिकित्सकों ने फिर से सिद्ध कर दिया है की धरती पर उन्हें भगवान यूं ही नहीं कहा जाता। उन्होंने चिकित्सकों की पूरी टीम को बधाई देते हुए कहा कि भीलवाड़ा कोरोनावायरस की चेन ब्रेक करने की दिशा मे देशभर में एक मिसाल बना है। उन्होंने स्वयं तालियां बजाकर पूरी टीम का उत्साहवर्द्धन किया।

जिला कलक्टर ने कहा कि भीलवाड़ा ने पूरे विश्व के सामने उदाहरण प्रस्तुत किया है। यहां के चिकित्सा विभाग की टीम ने भीलवाड़ा में कोरोना के पहले रोगी का पता लगते ही गंभीरता से लेते हुए, सभी आवश्यक चिकित्सकीय प्रबंध करके स्थिति को नियंत्राण में रखा। कभी भी स्थिति को नियंत्राण से बाहर नहीं होने दिया।      

उन्होंने कहा कि प्रारंभिक स्तर से ही गंभीरता से प्रशासनिक व चिकित्सकीय प्रबंध किये गये। रोगियों तथा उनके संपर्क में आने वाले लोगों को चिंहित कर उन्हें क्वारंेटीन में रखा गया और ईलाज प्रारंभ किया गया। साधारण खांसी, जुकाम व बुखार वाले लोगों पर नजर रखी गई। जिले में प्रारंभिक स्तर पर ही निषेधाज्ञा लागू कर लोगों को सावधान भी किया गया। उन्होंने बताया कि पूरे जिले के सभी लोगों का सर्वे व स्क्रिनिंग करवाई गई। विदेश व वाहर से आने वाले लोगों पर निगाह रखी गई। जिले में बाहरी लोगों का आवागमन बंद किया गया। युध्दस्तर पर व्यवस्थाओं का अंजाम दिया गया। जिला कलक्टर ने कहा कि राज्य सरकार ने भी जिले की स्थिति पर निरन्तर निगाह रखी। सरकार से निरंतर सहयोग भी मिला। जिले में अतिरिक्त प्रशासनिक अधिकारियों की नियुक्ति सहित स्थानीय अधिकारियों, कर्मचारियों के सहयोग से चिकित्सकी व अन्य पं्रबंधन की सुनिश्चितता की गई।

Support us

कोई भी मीडिया हो उन्हें कभी फंड की चिंता नहीं करनी पड़ती क्यूंकि लोकतंत्र को बचाने के नाम पर उन्हें विभिन्न स्रोतों से पैसा मिलता है। लेकिन हमें सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके समर्थन की आवश्यकता है। आपसे जितना हो सके हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Donate with

Check Also

भीलवाड़ा जिला कलेक्टर पहुंचे मृतकों के घर परिजनों को दी सांत्वना, सौंपे सीएम सहायता राशि के चेक

चित्तौड़गढ़-कोटा राष्ट्रीय राजमार्ग दुर्घटना भीलवाड़ा जिला कलेक्टर पहुंचे मृतकों के घर परिजनों को दी सांत्वना, …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *