Home / राजस्थान / भीलवाड़ा / भीलवाड़ा सिंधी समाज ने मनाया सिंध के महाराजा दाहिर सेन का बलिदान दिवस

भीलवाड़ा सिंधी समाज ने मनाया सिंध के महाराजा दाहिर सेन का बलिदान दिवस

भीलवाड़ा सिंधी समाज ने मनाया सिंध के महाराजा दाहिर सेन का बलिदान दिवस

भीलवाड़ा – मूलचन्द पेसवानी 

भीलवाड़ा सिंधी समाज की अग्रिणीं संस्थाओं भारतीय सिंधु सभा, सर्व सिंधी समाज महासभा, सिंधी युवा शक्ति एवं सिन्धू सेना के सदस्यों ने मिलकर सिंधु नगर स्थित संत कंवर राम सर्किल पर सिंध के सिरमौर सिंध के महाराजा दाहिर सेन का 1308वा बलिदान दिवस संतकवर राम सर्किल पर 101 दीप प्रज्वलित कर एवं महाराजा दाहिर सेन की तस्वीर पर पुष्प अर्पण कर श्रद्धांजलि देकर मनाया।

इस मौके पर भारतीय सिंधु सभा के जिलाध्यक्ष वीरुमल पुरसानी ने बताया की महाराजा दाहिर सेन का जन्म 25 अगस्त 663 ईसवी में सिंधी में हुआ था और वह 16 जून 712 ईसवी में शहीद हुए, उन्होंने छोटी सी उम्र में ही सिंध का राजपाठ भली-भांति संभाला था एवं कई मुगल राजाओं को युद्ध में परास्त किया था। अंत में मुगल शासक मीरकासम ने राजा दाहिर सेन को धोखे से मार दिया था।

कवि डॉ.एस.के लोहानी ने भारत देश पर कविता सुना कर सभी को मंत्रमुग्ध किया। सिन्धुसेना जिलाध्यक्ष किशोर बताया कि इस श्रद्धांजलि कार्यक्रम में जितेन्द्र रंगलानी,राजेश माखीजा,राजकुमार खुशलानी, ताराचंद रामचंदानी,राजकुमार टहलानी,ओम गुलाबानी,महाराज चंदन शर्मा, महाराज सतीश शर्मा, महाराज बाबू शर्मा,पार्षद कैलाश कृपलानी,घनश्याम शामनानी, राजकुमार दरियानी,ईश्वर कोडवानी,कमल लखवानी,परमानंद तनवानी,नाका रामसिंगानी,दीपक ख़ूबवानी, अशोक चंदानी,लीलावंती पंजवानी, देवी मोतियानी,इंदिरा गांधी,कविता लोहानी, इन्दु बंसल,विद्या गांधी, मोहिनी देवी मनवानी एवमं भीलवाड़ा सिंधी समाज के समाजजन मौजूद थे।

Support us

कोई भी मीडिया हो उन्हें कभी फंड की चिंता नहीं करनी पड़ती क्यूंकि लोकतंत्र को बचाने के नाम पर उन्हें विभिन्न स्रोतों से पैसा मिलता है। लेकिन हमें सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके समर्थन की आवश्यकता है। आपसे जितना हो सके हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Donate with

Check Also

भीलवाड़ा जिला कलेक्टर पहुंचे मृतकों के घर परिजनों को दी सांत्वना, सौंपे सीएम सहायता राशि के चेक

चित्तौड़गढ़-कोटा राष्ट्रीय राजमार्ग दुर्घटना भीलवाड़ा जिला कलेक्टर पहुंचे मृतकों के घर परिजनों को दी सांत्वना, …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *