Home / राजस्थान / सवाई माधोपुर / मंदिर माफी की जमीन पर पक्के मकान तोड़ने का मामला गरमाया-गंगापुर सिटी

मंदिर माफी की जमीन पर पक्के मकान तोड़ने का मामला गरमाया-गंगापुर सिटी

मंदिर माफी की जमीन पर पक्के मकान तोड़ने का मामला गरमाया-गंगापुर सिटी

विडियो न्यूज़ देखने के लिए यहाँ Click करें….

?????

गंगापुर सिटी गत दिनों मंदिर माफी की जमीन पर पक्के मकान तोड़ने का मामला गरमाया पार्षदों ने एडीएम को दिया ज्ञापन भेदभाव पूर्ण कार्रवाई का किया विरोध।

सवाई माधोपुर के गंगापुर सिटी में मंदिर माफी की भूमि से अतिक्रमण हटाते हुए मकान को तोड़ने का मामला आज फिर से गरमा गया, गंगापुर सिटी के सभी वार्ड पार्षदों द्वारा आरोप लगाते हुए, आज कई जनप्रतिनिधियों एवं पार्षदों ने एडीएम को ज्ञापन देकर उचित कार्यवाही की मांग की, गौरतलब है कि गत दिनों दिनांक 29-11-2019 को एसडीएम और तहसीलदार द्वारा राजेश जैमिनी, हुकम सिंह गुर्जर और 2 अन्य मकानों को गिरा दिया गया, पूर्व पार्षद रविकांत का आरोप है कि जब एसडीएम खसरा नंबर 405 को मंदिर माफी की जमीन बताते हुए अतिक्रमण हटाना चाह रहे थे तो उस जमीन पर बने हुए करीब डेढ़ सौ मकानों को क्यों नहीं हटाया गया, आखिर इन्ही मकानों को तोड़कर इतिश्री कर क्यों कर ली, जबकि एसडीएम विजेंद्र मीणा द्वारा कहा गया था कि यह कार्रवाई लगातार चलती रहेगी, आखिर अन्दर की बात है क्या, जैसा की सभी को पता है कानून सबके लिए बराबर होता है, इससे साफ जाहिर होता है कि राजनीतिक दबाव के चलते एसडीएम विजेंद्र मीणा ने कार्यवाही की है, सभी वार्ड पार्षदों एवं जनप्रतिनिधियों द्वारा साफ़ और स्पष्ट शब्दों में कहा कि यदि मामले में उचित न्याय नहीं हुआ तो 25 दिसंबर से सभी लोग उग्र आंदोलन करेंगे।

विडियो न्यूज़ देखने के लिए यहाँ Click करें….

?????

Support us

कोई भी मीडिया हो उन्हें कभी फंड की चिंता नहीं करनी पड़ती क्यूंकि लोकतंत्र को बचाने के नाम पर उन्हें विभिन्न स्रोतों से पैसा मिलता है। लेकिन हमें सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके समर्थन की आवश्यकता है। आपसे जितना हो सके हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Donate with

Check Also

महात्मा ज्योति राव फूले की पुण्यतिथि मनाई

महात्मा ज्योति राव फूले की पुण्यतिथि मनाई है  गंगापुर सिटी  सूरसागर गंगापुर सिटी स्थित माली …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *