Breaking News
Home / राजस्थान / सवाई माधोपुर / महुकलां अंडरपास पर एकजुट हुए 15 गाँव-गंगापुरसिटी

महुकलां अंडरपास पर एकजुट हुए 15 गाँव-गंगापुरसिटी

अंडरपास पर एकजुट हुए 15 गाँव :

महुकलां-अंडरपास आंदोलन के इतिहास में पहली बार क्षेत्र के 15 गाँव (महूकलां, नयापुरा, चकछावा, छावा, ताजपुर, छावा की बगीची, बंदरपुरा, भगतपुरा, पैमापुरा, चूली, चूली की बगीची, गंगाजी की कोठी, दूध की डेरी और गुर्जर बड़ौदा) अर्थात 4 ग्रामपंचायतों के लोकतांत्रिक प्रक्रिया से चुने हुए मुखिया एक साथ एक मंच पर आए और एक स्वर में शीघ्र अंडरपास निर्माण की मांग की।

कल 11:30 बजे से 1:30 बजे तक महुकलां चौराहे के पास क्षेत्र के सरपंचों की मीटिंग हुई। मीटिंग में महुकलां पूर्व सरपंच हंसराज गुर्जर, महुकलां सरपंच लखनलाल माली, उपसरपंच ऋषिराज गुर्जर, छावा सरपंच महेश सिंह, चूली सरपंच काडूराम गुर्जर, खानपुर बड़ौदा सरपंच छुट्टनलाल बैरवा, वार्ड पार्षद सुरेंद्र, बंटी सैनी, मोहित दुबे, रामकेश सैनी आदि ने भाग लिया।

पूर्व सरपंच हंसराज गुर्जर ने अंडरपास आंदोलन के इतिहास और वर्तमान स्तिथि के बारे में बताया। और अंडरपास आंदोलन की कमान युवा सरपंचों को सौंपने की बात कही। इसी बीच हंसराज जी भावुक भी हो गए।

चूली सरपंच काडूराम गुर्जर ने बताया कि यह केवल एक गाँव का विषय नही है, अपितु चालीसों गाँव अंडरपास के अभाव में कठिनाई का सामना कर रहे हैं। हम सभी को इसकी मांग मजबूती से उठानी है। और सरकार को जल्द लोगों की यह मांग पूरी करनी चाहिए।

महुकलां सरपंच लखनलाल माली ने बताया कि यह क्षेत्र की बहुत पुरानी मांग है। अंडरपास के अभाव में हमारे लोग पटरियां पार करने को मजबूर हैं। और कई बार ट्रेन की चपेट में आने के कारण गम्भीर हादसे हो चुके हैं। किन्तु अब हमें और अधिक इंतजार नही करना है, और सरकार के समक्ष अपनी मांग मजबूती से रखनी है। और जल्द से जल्द अंडरपास का निर्माण करवाना है।

ग्रामपंचायत छावा के सरपंच महेश सिंह ने बताया कि छोटी-2 जगह भी सरकार ने अंडरपास बनवा दिए हैं, तो फिर इतने आवश्यक महुकलां-अंडरपास का निर्माण अभी तक क्यों नही हो पाया है।

खानपुर बड़ौदा सरपंच छुट्टनलाल बैरवा ने भी विषय पर अपने विचार रखें और सरकार से अंडरपास निर्माण की मांग की।

युवा टीम सदस्य मोहित दुबे और बंटी सैनी ने बताया कि इससे पहले 24 नवम्बर 2019 को रेलवे पुलिया के पास आमसभा का आयोजन किया गया था, जिसमें स्थानीय विधायक भी शामिल हुए थे और अंडरपास के जल्द निर्माण का वादा भी किया था। जबकि उस आमसभा को 10 माह बीत जाने के बाद भी आवश्यक बजट जारी न होने के कारण अंडरपास का निर्माण कार्य रुका हुआ है। 

आगामी दिनों में स्थानीय विधायक से मिलकर अंडरपास विषय पर स्पष्टता के साथ बात रखने के लिए कहा जाएगा।

मीटिंग में निम्न विषयों पर बनी सहमति:

– कल 15 सितंबर को पंचायत समिति गंगापुर में सभी 44 सरपंचों की। मीटिंग में यह मुद्दा रखा जाएगा। और सबके समर्थन पत्र लिए जाएंगे।

– स्थानीय विधायक से मुलाकात करने अंडरपास की वर्तमान स्तिथि पर स्पष्टीकरण और जबाब मांगा जाएगा।

– अन्य सम्बंधित लोगों से मिलने के विकल्प भी तलाशे जाएंगे।

गौरतलब है कि महुकलां समेत आसपास के क्षेत्र के लोग कई वर्षों से अंडरपास के लिए संघर्ष कर रहे हैं। इस क्रम में रेल मंत्री और रेलवे अधिकारियों को भी ज्ञापन दिया जा चुका है। 

कई ज्ञापन, रैली, धरना आदि किए जा चुके हैं। 

दरअसल, क्षेत्र की आमजनता की मांग पर गंगापुर शहर की मालगोदाम रोड़ को महुकलां से जोड़ते हुए अंडरपास का निर्माण होना प्रस्तावित है, किन्तु राज्यसरकार द्वारा आवश्यक बजट जारी न करने के कारण मामला अभी तक अटका हुआ है।

बताया जाता है कि 2013 में तत्कालीन सरकार द्वारा आवश्यक बजट जारी किया था, किन्तु किन्हीं राजनीतिक कारणों से बजट रुक गया और महुकलां- अंडरपास का निर्माण नही हो पाया।

परिणामस्वरूप आज भी हज़ारों लोग जान जोखिम में डालकर पटरियां पार करने को मजबूर हैं।

Check Also

सवाई माधोपुर -नगर परिषद गंगापुर सिटी में गंदगी और कचरा बना लोगों की मुसीबत

सवाई माधोपुर- उपखंड गंगापुर सिटी में नगर परिषद इन दिनों पूर्णतः निष्क्रिय और लापरवाह नजर …