Home / राजस्थान / राजकीय महाविद्यालय, एबीवीपी द्वारा छात्रसंघ उद्घाटन का विरोध करता है-गंगापुर सिटी
राजकीय महाविद्यालय, एबीवीपी द्वारा छात्रसंघ उद्घाटन का विरोध करता है-गंगापुर सिटी
राजकीय महाविद्यालय, एबीवीपी द्वारा छात्रसंघ उद्घाटन का विरोध करता है-गंगापुर सिटी

राजकीय महाविद्यालय, एबीवीपी द्वारा छात्रसंघ उद्घाटन का विरोध करता है-गंगापुर सिटी

राजकीय महाविद्यालय, एबीवीपी द्वारा छात्रसंघ उद्घाटन का विरोध करता है-गंगापुर सिटी

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद इकाई गंगापुर सिटी द्वारा राजकीय महाविद्यालय गंगापुर सिटी में छात्रसंघ उद्घाटन का विरोध के लिए दिया ज्ञापन, अतिरिक्त जिला कलेक्टर के रीडर को ज्ञापन दिया |

एबीवीपी के नगर मंत्री सीताराम गुर्जर ने बताया कि हमारे एबीवीपी पैनल से छात्रसंघ संयुक्त सचिव आशा गुर्जर रही, छात्रसंघ संयुक्त सचिव आशा गुर्जर ने बताया कि छात्रसंघ उद्घाटन के कार्यक्रम के बारे में किसी प्रकार की चर्चा नहीं की गई, कार्यक्रम में अतिथि तय करने के संबंध समान व्यवहार नहीं किया गया और छात्रसंघ संयुक्त सचिव के साथ दुर्व्यवहार किया गया था और स्वामी विवेकानंद जी के बैनर को  छात्रसंघ कार्यालय के अंदर लगाया था, जिसे अन्य छात्रसंघ पदधिकारियों ने फाड़ दिया था |

संयुक्त सचिव आशा बाई गुर्जर को कुछ कॉलेज लेक्चर ने जबरदस्ती दबाव डालकर साइन कराया गया था, उसी प्रकार की एबीवीपी छात्रसंघ पदाधिकारी एवं एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने अवैध तरीके से ले रहे ₹200 का विकास शुल्क के मुद्दे को लेकर कई बार प्रदर्शन किए थे, तब विकास समिति के पदाधिकारी एवं प्राचार्य महोदय ने हमें विकास कराने का आश्वासन दिया, इसके बाद हमने महाविद्यालय में कमी को देखते हुए 7 सूत्री मांगे पूरी करने के लिए प्राचार्य महोदय को ज्ञापन दिया एबीवीपी के कार्यकर्ता विरोध करती हुई यह कहते हैं कि छात्र संघ पदाधिकारियों का यह कर्तव्य होता है कि कॉलेज में जो समस्या है उनको सही कराने का और कॉलेज में विकास कराने का अपना फर्ज पूरा किया जाए |

लेकिन कॉलेज प्रशासन ने एक भी बात नहीं मानी, एबीवीपी के छात्रसंघ पदाधिकारी एवं एबीवीपी कार्यकर्ता ने राजकीय महाविद्यालय गंगापुर सिटी के छात्रसंघ उद्घाटन का विरोध करता है |

एबीवीपी नगर अध्यक्ष अरविंद पटेल गुर्जर, नगर मंत्री सीताराम गुर्जर, दुर्गेश शर्मा, मनोज सैनी, केके गुर्जर, लोकेश गुर्जर, महेश सैनी आदि ने ज्ञापन दिया |

Support us

कोई भी मीडिया हो उन्हें कभी फंड की चिंता नहीं करनी पड़ती क्यूंकि लोकतंत्र को बचाने के नाम पर उन्हें विभिन्न स्रोतों से पैसा मिलता है। लेकिन हमें सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके समर्थन की आवश्यकता है। आपसे जितना हो सके हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Donate with

Check Also

औषधालय में दवाओं की कमी, मरीजों का औषधालय से मोह भंग

औषधालय में दवाओं की कमी, मरीजों का औषधालय से मोह भंग राजकीय आयुर्वेद औषधालय …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *