Breaking News
Home / राजस्थान / सवाई माधोपुर / राजस्थान की प्राचीन वास्तुकला का प्रतिनिधित्व करती है सुखवास की क्षेत्रपाल बावड़ी  सवाई माधोपुर

राजस्थान की प्राचीन वास्तुकला का प्रतिनिधित्व करती है सुखवास की क्षेत्रपाल बावड़ी  सवाई माधोपुर

जिला मुख्यालय से करीब तीस किलोमीटर पूर्व दिशा की ओर टोंक चिरगांव राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित ग्राम पंचायत अल्लापुर के सुखवास गांव में क्षेत्रपाल बाबा की प्रसिद्ध बावड़ी है जो अलंकारी चित्रकारी राजपूत स्थापत्व कला का बेजोड़ नमूना है।

इस बावड़ी का निर्माण तकरीबन पाॅच-छः सौ वर्ष पूर्व हुआ होगा। जिसका आकार वर्गाकार है। जिसके चारों ओर से प्रवेश द्वार है और चारों ओर से आवर्त सीढिया है। जो बावड़ी में प्रविष्ट होती है। बड़े-बड़े बलुआ पत्थरों से एवं दीवारों का निर्माण हो रहा है। बावड़ी के चारों कोनों में खूबसूरत चैकोर आकार की चार छतरी हैं। इस तरह से प्राचीन बावरी प्राचीन वास्तु कला का प्रतिनिधित्व करती है।

देखरेख के अभाव में बावड़ी जीर्ण शीर्ण हो रही थी। सोमवार सुबह सामाजिक कार्यकर्ता महेंद्र चैधरी के नेतृत्व में बावड़ी में चारो ओर उगी खरपतवार को कई नवयुवको ने साफ सफाई कर बावड़ी को चमका दिया है। साफ सफाई हो जाने से बावड़ी अब लोगो अपनी ओर आकर्षित कर रही है। ग्रामीण राजेश गुर्जर, लोकेंद्र गुर्जर, तेजवीर गुर्जर, राजवीर गुर्जर(फौजी) ने बताया कि इस वर्ष लगातार हुई अच्छी बरसात की वजह से सूखी पड़ी बावड़ी में जलस्तर बढ़ा है। जिससे बावड़ी पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करती है।

इंटेक ने करवाया बावड़ी का जीर्णोद्धार जीर्ण शीर्ण क्षेत्रपाल बावड़ी का बावड़ी का निर्माण भारतीय सांस्कृतिक निधि इंटेक द्वारा करवाया गया एवं प्राचीन क्षेत्रफल बावड़ी का संरक्षण कर प्राचीन स्वरूप को नवीन रूप दिया गया।

सुखवास गांव में स्थित इस बावड़ी की एक छतरी में क्षेत्रपाल बाबा की मूर्ति, दूसरी छतरी में शिवलिंग की मूर्ति स्थापित है। आसपास के गांवो के साथ सवाई माधोपुर खंडार, श्योपुर, कोटा आदि स्थानों से यात्री ढोक लगाने आते हैं एवं नवविवाहित वर-वधू सुखदाई जीवन व्यतीत करने की कामना करते हैं। ग्रामीण राजेश गुर्जर, लेखराज जाट, मानसिंह गुर्जर आदि ने बताया कि बावड़ी में अब तक कई जानवर एवं बच्चे गिर चुके हैं लेकिन सुरक्षित निकाल लिया गया है जिससे बावड़ी को कलंकित होने से बच रही है।

अल्लापुर सरपंच माया देवी बैरवा ने बताया कि सुखवास गांव की बावड़ी एक ऐतिहासिक धरोहर है और यहां पर देशी-विदेशी पर्यटक आने लगे हैं पर्यटकों की सुविधा के लिए बावड़ी की ओर जाने वाले मुख्य सड़कों पर सीसी सड़क का कार्य ग्राम पंचायत द्वारा करवाया गया है। जिससे आने वाले पर्यटकों को असुविधा नहीं होगी।

Check Also

सवाई माधोपुर -नगर परिषद गंगापुर सिटी में गंदगी और कचरा बना लोगों की मुसीबत

सवाई माधोपुर- उपखंड गंगापुर सिटी में नगर परिषद इन दिनों पूर्णतः निष्क्रिय और लापरवाह नजर …