Home / राजस्थान / राज्य के 25 लाख किसानों को मिलेगा 16 हजार करोड़ रुपये का ब्याज मुक्त फसली ऋण राजस्थान सरकार

राज्य के 25 लाख किसानों को मिलेगा 16 हजार करोड़ रुपये का ब्याज मुक्त फसली ऋण राजस्थान सरकार

16 अप्रेल से खरीफ फसली ऋण वितरण होगा प्रारंभ

राज्य के 25 लाख किसानों को मिलेगा 16 हजार करोड़ रुपये का ब्याज मुक्त फसली ऋण

वर्ष 2020-21 में खरीफ एवं रबी में वितरित होगा सहकारी फसली ऋण

सहकारिता मंत्री श्री उदय लाल आंजना ने बताया कि प्रदेश के 25 लाख किसानों को वर्ष 2020-21 में 16 हजार करोड़ रुपये का ब्याज मुक्त अल्पकालीन फसली ऋण का वितरण किया जायेगा। उन्होंने बताया खरीफ सीजन में ऋण वितरण की शुरूआत 16 अप्रेल से शुरू की जाएगी।

श्री आंजना ने बताया कि 10 हजार करोड़ रुपये खरीफ सीजन में तथा 6 हजार करोड़ रुपये रबी सीजन में वितरित किया जायेगा। 

इस वर्ष किसानों को खरीफ फसली ऋण के तहत 25 प्रतिशत तक फसली ऋण बढ़ाकर दिया जायेगा। उन्होंने बताया कि इस वर्ष भी 3 लाख नए किसानों को फसली ऋण से जोड़ा जाएगा। 

मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत कोरोना महामारी के दौरान लाकडाउन के चलते किसानों को उनके कृषि कार्यो मे कम से कम परेशानी हो इसके लिए उनके हित में निरन्तर फैसले ले रहे है।

सहकारिता मंत्री ने बताया कि केन्द्रीय सहकारी बैंकों द्वारा वितरित होने वाला अल्पकालीन फसली ऋण 

खरीफ सीजन में 1 अप्रेल से 31 अगस्त तक तथा 

रबी सीजन में 1 सितम्बर से 31 मार्च तक किसानों को वितरित किया जाता है। लेकिन इस बार कोरोना महामारी के चलते देश भर में 14 अप्रेल तक लाकडाउन होने के कारण ऋण वितरण 16 अप्रेल से प्रारंभ किया जायेगा।

16 अप्रेल से वितरित हो रहे फसली ऋण के लिए 15 अप्रेल से ही सीबीएस एवं आईएफएस सिस्टम शुरू हो जाएगा।

Support us

कोई भी मीडिया हो उन्हें कभी फंड की चिंता नहीं करनी पड़ती क्यूंकि लोकतंत्र को बचाने के नाम पर उन्हें विभिन्न स्रोतों से पैसा मिलता है। लेकिन हमें सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके समर्थन की आवश्यकता है। आपसे जितना हो सके हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Donate with

Check Also

मनरेगा में 15 लाख से अधिक परिवारों को 100 दिन का रोजगार अवश्य दिलवायें – मुख्य सचिव

मनरेगा में 15 लाख से अधिक परिवारों को 100 दिन का रोजगार अवश्य दिलवायें …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *