Home / राजस्थान / राज्य में खुलेगें 8 नये एकलव्य मॉडल आवासीय विद्यालय

राज्य में खुलेगें 8 नये एकलव्य मॉडल आवासीय विद्यालय

राज्य में खुलेगें 8 नये एकलव्य मॉडल आवासीय विद्यालय

5 निर्माणाधीन आवासीय विद्यालय दिसम्बर, 2020 तक बनकर तैयार होंगे

-अतिरिक्त मुख्य सचिव, टीएडी

जयपुर, 25 सितम्बर। अतिरिक्त मुख्य सचिव, जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग श्री राजेश्वर सिंह ने बताया कि जनजातीय कार्य मंत्रालय भारत सरकार ने राज्य में वर्ष 2020-21 में 8 नये एकलव्य मॉडल आवासीय विद्यालय खोलने हेतु स्वीकृति दे दी है जिनके लिये टीएडी विभाग द्वारा 15 एकड़ जमीन आंवटित कराई जा चुकी है। इन 8 नये एकलव्य मॉडल आवासीय विद्यालयों के भवनों के निर्माण के लिये भारत सरकार ने केन्द्रीय लोक निर्माण विभाग को कार्यकारी एजेन्सी (नोडल) नियुक्त किया है।  

अतिरिक्त मुख्य सचिव ने बताया कि ये नये आवासीय विद्यालय उदयपुर जिले के झाड़ोल कस्बे के गांव जोटाणा, लसाड़िया के कुण, सलुम्बर के पे्रम नगर, बांसवाड़ा जिले के गढ़ी कस्बे के गांव परखेला, बागीदौरा, सागवाड़ा के सुरजगांव व प्रतापगढ़ जिले के धरियावाद ब्लॉक के गांव पांचागुडा व अरनोद ब्लॉक के गांव नागडेरा में निर्मित करवाये जायेंगे। 

उन्होंने बताया कि टीएडी विभाग द्वारा लगभग 108 करोड़ रुपये की लागत से जयपुर, उदयपुर, डूंगरपुर व बांसवाड़ा जिले में 4 एकलव्य मॉडल आवासीय विद्यालयों व प्रतापगढ़ जिले में एक एकलव्य मॉडल डे बोर्डिंग स्कूल के भवनों का निर्माण कार्य प्रगति पर है व इनका निर्माण कार्य दिसम्बर 2020 तक पूर्ण होने की संभावना है। 

श्री सिंह ने बताया कि जयपुर जिले के जमवारामढ़ में निर्माणाधीन एकलव्य मॉडल आवासीय विद्यालय में 480 विद्यार्थियों, सराड़ा व अम्बापुरा में 480 विद्यार्थियों की तथा छात्रावास की क्षमता भी 480 विद्यार्थियों की होगी। इसी प्रकार पीपलखूंट में भी 480 विद्यार्थियों की क्षमता वालेे विद्यालय का निर्माण करवाया जा रहा है।  

अतिरिक्त मुख्य सचिव ने बताया कि विभाग के तत्वावधान में पूर्व से ही 21 एकलव्य मॉडल आवासीय विद्यालय, 13 आवासीय विद्यालय, 2 मॉडल पब्लिक आवासीय विद्यालय, 13 खेल छात्रावास, 7 कॉलेज छात्रावास, 6 बालिका बहुउद्देशीय छात्रावास तथा 372 आश्रम छात्रावास संचालित हैं। इन नये 13 आवासीय विद्यालयों के निर्माण व संचालन से जनजाति क्षेत्र के शैक्षणिक, सांस्कृतिक, सामाजिक व आर्थिक परिदृश्य में गुणात्मक सुधार एवं परिवर्तन दृष्टिगोचर होगा तथा इन संस्थाओं में शिक्षित विद्यार्थियों को उच्च शिक्षा एवं उत्कृष्ट रोजगार के सुअवसर प्राप्त होगें। 

  

—-

Support us

कोई भी मीडिया हो उन्हें कभी फंड की चिंता नहीं करनी पड़ती क्यूंकि लोकतंत्र को बचाने के नाम पर उन्हें विभिन्न स्रोतों से पैसा मिलता है। लेकिन हमें सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके समर्थन की आवश्यकता है। आपसे जितना हो सके हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Donate with

Check Also

26 अक्टूबर से ’शुद्ध के लिये युद्ध’ अभियान-राजस्थान

जयपुर, 19 अक्टूबर। मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने कहा है कि खाद्य पदार्थों में मिलावट …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *