Home / राजस्थान / भीलवाड़ा / रामस्नेही संप्रदाय का फूलडोल महोत्सव, शाहपुरा में महाकुंभ प्रांरभ
रामस्नेही संप्रदाय का फूलडोल महोत्सव, शाहपुरा में महाकुंभ प्रांरभ

रामस्नेही संप्रदाय का फूलडोल महोत्सव, शाहपुरा में महाकुंभ प्रांरभ

भगवाधारी संतो की राम राम की गुंजायमान व भक्तजनों की आध्यात्मिकता के बीच लोक लहरियों के साथ अंर्तराष्ट्रीय रामस्नेही संप्रदाय का 254 वां फुलड़ोल महोत्सव का समारोह पूर्वक शुभारंभ हुआ। बुधवार को महोत्सव को दूसरे दिन भी परंपरागत रूप से अणभैवाणीजी की शोभायात्रा निकाली गई। महोत्सव में भाग लेने के लिए राज्य के अलावा गुजरात व महाराष्ट्र के विभिन्न स्थानों से भक्त जन शाहपुरा पंहुच रहे है। महोत्सव में अब तक 20 हजार रामस्नेही अनुरागी पहुंच चुके है। सभी के आवास व भोजन की व्यवस्था रामनिवास धाम परिसर में की गई है।
रामनिवास धाम में संप्रदाय के पीठाधीश्वर आचार्यश्री रामदयालजी महाराज के दर्शन करने के साथ ही स्तंभजी व अन्य संतों से आर्शिवाद प्राप्त करने वालों की कतार लगी रही। संप्रदाय के संस्थापक आचार्य महाप्रभुश्री रामचरणजी महाराज की काली कंबलजी को बारादरी में दर्शनार्थ रखा गया है। महोत्सव में संप्रदाय की परंपरा के मुताबिक नया बाजार स्थित राममेडिया से अणभैवाणी की शोभायात्रा निकाली गई।
इस अवसर पर रामनिवास धाम परिसर में मुख्य द्वार से लेकर सुरजपोल, बारादरी, लाल चैक, आचार्य स्मारक, राम उद्यान आदि को विद्युत साज सज्जा से सजाया गया है। रात्रि में दुधिया व रंगबिरंगे प्रकाश में रामनिवास धाम की बारादरी, चत्र महल, सूरजपोल, रामचरण द्घार, रामचरण पांडाल जगमग हो चमक रहे है।
रामनिवास धाम में महोत्सव के दौरान विशेष आकर्षण का केंद्र बिंदू बारादरी में रखी काली कंबल बनी हुई है। यह काली कंबल महाप्रभु रामचरणजी महाराज के देवलोक गमन पर हुए दाह संस्कार के समय भी सुरक्षित रही थी। इस काली कंबल को तब से आज तक यह कंबल सुरक्षित रखी है। इसे केवल फूलडोल महोत्सव में ही प्रदर्शित किया जाता है।
आद्य संस्थापक महाप्रभु रामचरणजी महाराज के दाहसंस्कार वाले स्थान पर निर्मित स्तंभजी के यहां मन्नत करने पर वो पूरी होती है। महोत्सव के दौरान मन्नत पूरी होने पर हर कोई मथा टेक कर प्रसाद चढ़ाता है। महिलाएं अपनी गोद भरने पर अपने बच्चे को लाकर उसके वजन का मिश्री का प्रसाद चढ़ाते है।
अस्थाई मेला बाजार में रौनक
नगर पालिका की ओर से तैयार कराये गये अस्थायी मेला बाजार में सायं होते ही खरीददारी की रौनक चमक उठी है। इन दुकानों में चाट खोमचे व श्रृंगार से संबधित दुकानों पर भीड़ पहुंची।

Support us

कोई भी मीडिया हो उन्हें कभी फंड की चिंता नहीं करनी पड़ती क्यूंकि लोकतंत्र को बचाने के नाम पर उन्हें विभिन्न स्रोतों से पैसा मिलता है। लेकिन हमें सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके समर्थन की आवश्यकता है। आपसे जितना हो सके हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Donate with

Check Also

भीलवाड़ा जिला कलेक्टर पहुंचे मृतकों के घर परिजनों को दी सांत्वना, सौंपे सीएम सहायता राशि के चेक

चित्तौड़गढ़-कोटा राष्ट्रीय राजमार्ग दुर्घटना भीलवाड़ा जिला कलेक्टर पहुंचे मृतकों के घर परिजनों को दी सांत्वना, …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *