Breaking News
Home / शिक्षा / राष्ट्रीय शिक्षा दिवस के रूप में मनाया मौलाना आजाद का जन्मदिवस

राष्ट्रीय शिक्षा दिवस के रूप में मनाया मौलाना आजाद का जन्मदिवस

राष्ट्रीय शिक्षा दिवस के रूप में मनाया मौलाना आजाद का जन्मदिवस

सवाई माधोपुर 11 नवम्बर। आचार्य नानेश शिक्षक शिक्षा महाविद्यालय कुस्तला में स्वतंत्रता सेनानी, शिक्षाविद्, लेखक और स्वतन्त्र भारत के प्रथम शिक्षा मंत्री मौलाना अबुल कलाम आजाद की जयन्ती को राष्ट्रीय शिक्षा दिवस के रूप में मनाया गया। कार्यक्रम का प्रारम्भ मुख्य अतिथि निदेशक महाविद्यालय रवीन्द्र कुमार जैन तथा अध्यक्षता प्राचार्य ने की।

कार्यक्रम प्रभारी व्याख्याता छोटुलाल सैनी ने बताया कि मौलाना आजाद का जन्म 11 नवम्बर 1888 को उत्तर प्रदेश में हुआ। इन्होने समाज और धर्म से ऊपर उठकर राष्ट्र की समृद्धि के बारे में शिक्षा आयोगों के गठन कर आवश्यकतानुसार सिफाारिशे की। व्याख्याता रितु जैन ने बताया कि मौलाना आजाद की जयन्ती को राष्ट्रीय शिक्षा के रूप में मनाने के लिए 11 सितम्बर 2008 को मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने स्वीकृति दी तब से प्रतिवर्ष हम यह दिवस मनाते है। व्याख्याता सुनिल जैन ने बताया कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति के निर्धारण में आजाद साहब का अद्वितीय योगदान है अतः 1992 में इन्हे भारत सरकार द्वारा भारत रत्न से पुरस्कृत किया गया। छात्राध्यापिका सोनल मीणा, श्वेता कुमारी, महिमा शर्मा, अर्शी शेख, अक्षिमा अवस्थी, कृतिका मीणा, मीना प्रजापत, अन्तिमा राजावत, शिवानी शर्मा, प्रियंका मीणा आदि ने आजाद की जीवनी से सम्बन्धित प्रसंग सुनाए।

द्वितीय सत्र में वर्तमान शिक्षा में इन्टरनेट के योगदान विषय पर एक संगोष्ठी का आयोजन किया गया। 

आयोजन के अन्त में प्रभारी निधी जैन ने स्वतन्त्र भारत से पूर्व हण्टर कमीशन, वुड आयोग, मैकाले घोषणा पत्र, मार्ले मिण्टों का शिक्षा सुधार आदि के प्राभावों को दूर कर स्वतन्त्र भारत में भारत की नीतियों को लागू करने हेतु आजाद साहब का महत्वपूर्ण योगदान बताया।

मुख्य अतिथि जैन ने सभी प्रतिभागियों को धन्यवाद दिया तथा मौलाना आजाद के वाक्य को दोहराया कि ‘‘दिल से दी गयी शिक्षा समाज में क्रान्ति ला सकती है।’’ कार्यक्रम का मंच संचालन छात्राध्यापिका अन्तिामा राजवत ने किया।

इसी प्रकार शहीद कैप्टन रिपुदममन सिंह राजकीय महाविद्यालय, सवाई माधोपुर की राष्ट्रीय सेवा योजना की चारों इकाईयों के तत्वावधान में राष्ट्रीय शिक्षा दिवस मनाया गया। इस अवसर पर एक विचार संगोष्ठी का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के विशिष्ठ अतिथि राष्ट्रीय सेवा योजना के जिला समन्वयक डाॅ. हरिचरण मीना रहें। इस अवसर पर विशिष्ठ अतिथि तथा राष्ट्रीय सेवा योजना के स्वयं सेवकों ने मौलाना अबुल कलाम आजाद के सामाजिक व राजनैतिक जीवन पर प्रकाश डालते हुए उनके भारतीय स्वतंत्रता आन्दोलन, भारतीय शिक्षा पद्धति व राष्ट्रीय शिक्षा निति के विकास में उनके योगदान पर सारगरभित व प्रेरणादायी व्याख्यान प्रस्तुत किये। इस कार्यक्रम के क्रियान्वयन में कार्यक्रम अधिकारी प्रो. मीठालाल मीना तथा प्रो. शकील अहमद का सक्रिय योगदान रहा।

About Pankaj Sharma

Manager at Gangapur City Portal

Check Also

मुख्यमंत्री के नाम भाजपा पदाधिकारी व कार्यकर्ताओं ने दिया ज्ञापन

सवाई माधोपुर उपखंड बामनवास 29 जून 2020 मुख्यमंत्री के नाम भाजपा पदाधिकारी व कार्यकर्ताओं ने …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *