Breaking News
Home / राजस्थान / लघु उद्योग प्रोत्साहन योजना की ऋृण राशि पर ब्याज अनुदान निर्धारित

लघु उद्योग प्रोत्साहन योजना की ऋृण राशि पर ब्याज अनुदान निर्धारित

मुख्यमंत्री लघु उद्योग प्रोत्साहन योजना की ऋृण राशि पर ब्याज अनुदान निर्धारित

जयपुर, 2 सितम्बर। राज्य सरकार ने एक संशोधित अधिसूचना जारी कर मुख्यमंत्री लघु उद्योग प्रोत्साहन योजनान्तर्गत सरलता एवं बेहतर क्रियान्वयन के लिए योजना के तहत दी जाने वाली ऋृण राशि पर दी जाने वाली ब्याज अनुदान निर्धारित किया है। इस संशोधन के बाद अब योजना के तहत अधिकतम 25 लाख रुपये तक की ऋृण राशि पर 8 प्रतिशत, 25 लाख से अधिक एवं 5 करोड़ रुपये तक 6 प्रतिशत एवं 5 करोड़ रुपये से अधिक एवं 10 करोड़ रुपये तक की ऋृण राशि पर 5 प्रतिशत ब्याज अनुदान देय होगा।

संयुक्त शासन सचिव, उद्योग (ग्रुप-2) श्री चिन्मयी गोपाल से प्राप्त जानकारी के अनुसार इस योजना के अन्तर्गत बैंकों द्वारा विनिर्माण, सेवा एवं व्यापार आधारित उद्यम की स्थापना, विस्तार, विविधीकरण एवं आधुनिकीकरण के उद्देश्य हेतु सयंत्र एवं मशीन, वर्क शेड/भवन, फर्नीचर, उपकरण, कच्चे माल इत्यादी के लिए अधिकतम 10 करोड़ रुपये तक का त्रृण उपलब्ध करवाया जायेगा। ऋृण का स्वरूप कम्पोजिट ऋृण/सावधि एवं कार्यशील पूंजी (सी.सी. लिमिट सहित) होगा‘‘ के स्थान पर ‘‘इस योजनान्तर्गत वित्तीय संस्थानों द्वारा विनिर्माण, सेवा एवं व्यापार आधारित उद्यम की स्थापना, विस्तार, विविधीकरण एवं आधुनिकीकरण के उद्देश्य हेतु भूमि, सयंत्र एवं मशीन, वर्क शेड/भवन, फर्नीचर, उपकरण, कच्चे माल इत्यादि के लिए अधिकतम 10 करोड़ रुपये तक का ऋृण उपलब्ध करवाया जायेगा।

इसी तरह प्रोजेक्ट रिपोर्ट में भूमि प्रोजेक्ट का भाग होने पर भूमि हेतु कुल ऋृण राशि का अधिकतम 25 प्रतिशत ऋृण ब्याज अनुदान हेतु पात्र होगा। ऋृण का स्वरूप प्रोजेक्ट की आवश्यकतानुसार विनिर्माण एवं सेवा क्षेत्र में कम्पोजिट ऋृण अथवा केवल सावधि ऋृण तथा व्यापार क्षेत्र में कम्पोजिट ऋृण अथवा सावधि ऋृण अथवा कार्यशील पूंजी (अधिकतम 25 लाख रुपये तक के ऋृण), (सी.सी. लिमिट सहित) होगा। विस्तार/विविधीकरण/आधुनिकीकरण के मामलों में विस्तारित प्रोजेक्ट हेतु लिए गए अतिरिक्त सावधि ऋृण अथवा कार्यशील पूंजी पर ही ब्याज अनुदान दय होगा। योजना के तहत प्रथम बार स्वीकृत ऋृण राशि में किसी प्रकार की वृद्धि ब्याज अनुदान हेतु नहीं मानी जायेगी।

बिन्दु संख्या 7. (iv) ‘‘सम्पाशिर््वक प्रतिभूति (colleteral security) मुक्त ऋृण को प्रोत्साहन – भारतीय रिर्जव बैंक के दिशा-निर्देशानुसार 10 लाख रुपये तक के ऋृण पर सम्पाशिर््वक प्रतिभूति की मांग नहीं की जायेगी। 10 लाख रुपये से अधिक के ऋृण को Credit Guarantee Trust Fund For Micro and Small Enterprises (CGTMSE) से जोड़ा जा सकेगा। इसमें फीस की राशि का वहन लाभार्थी द्वारा किया जायेगा तथा मुद्रा योजना में होने पर यथास्थिति उस योजना में वहन किया जायेगा।‘‘ के स्थान पर ‘‘सम्पाशिर््वक प्रतिभूमि (colleteral security) मुक्त ऋृण को प्रोत्साहन – भारतीय रिर्जव बैंक के दिशा-निर्देशानुसार 10 लाख रुपये तक के ऋृण पर सम्पाशिर््वक प्रतिभूति की मांग नहीं की जायेगी तथा सभी प्रकार के ऋृण प्रकरणों को आवश्यकतानुसार वित्तीय संस्थान द्वारा Credit Guarantee Trust Fund For Micro and Small Enterprises (CGTMSE) योजना से जोड़ा जा सकेगा। इसमें फीस की राशि का वहन लाभार्थी द्वारा किया जायेगा तथा मुद्रा योजना में होने पर यथास्थिति उस योजना में वहन किया जायेगा।

Check Also

जल संसाधन विभाग की समीक्षा बैठक

जल संसाधन विभाग की समीक्षा बैठक प्रदेश में नहरी परियोजनाओं के नये कमाण्ड क्षेत्रों में  …