Home / राजस्थान / भीलवाड़ा / शाहपुरा में चरागाह में पेड़ काटने वालों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई
शाहपुरा में चरागाह में पेड़ काटने वालों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई
शाहपुरा में चरागाह में पेड़ काटने वालों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई

शाहपुरा में चरागाह में पेड़ काटने वालों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई

शाहपुरा माताजी का खेड़ा सरहद पर स्थित शाहपुरा के ऐतिहासिक चरागाह से पेड़ काटने की शिकायत पर एसडीएम आईएएस श्वेता चैहान ने बड़ी कार्रवाई करते हुए वहां से जेसीबी व ट्रेक्टर को जब्त किया है। करीब 400 बीघा क्षेत्रफल में फैले चरागाह में एसडीएम चोहान ने मौके पर काटे हुए पेड़ों को निलामी के जरिये विक्रय कर राशि राजकोष में जमा कराने के निर्देश नायब तहसीलदार को दिये है।
शाहपुरा एसडीएम श्वेता चोहान को जीव दया सेवा समिति के संयोजक अत्तू खां कायमखानी ने शिकायत देते हुए बताया कि पिछले एक पखवाड़े से शाहपुरा के ट्रेचिंग ग्रांउड के पास व शाहपुरा माताजी का खेड़ा सरहद पर स्थित चरागाह की भूमि से कतिपय लोग पेड़ों को काट कर रहे है। ये लोग पेड़ों को काटने के बजाय जेसीबी की मदद से उखाड़ रहे है। ऐसा न होने से चरागाह खाली हो जायेगा तथा वहां विचरण करने वाले वन्य जीव परेशानी में आ जायेगें। शिकायत में यह भी कहा गया कि वो अपनी शिकायत तहसील कार्यालय शाहपुरा व नगर पालिका कार्यालय शाहपुरा में दर्ज करा चुके है पर कार्रवाई के बजाय पेड़ उखाड़ कर ले जाने वालों को प्रोत्साहित किया जा रहा है।
इस पर आईएएस श्वेता चोहान ट्रेचिंग ग्रांउड के पास मौके पर पहुंची तो वहां पर काफी तादाद में पेड़ काटे हुए पाये गये तथा एक ट्रेक्टर भी मौके पर था। कुछ लोगों की टपरियां भी बनी हुई थी। प्रशासन की गाड़ियों को देखकर वहां काम करने वाले तो भाग छुटे थे। एसडीएम चोहान ने नायब तहसीलदार शाहपुरा व हलका पटवारी को मौके पर बुलाया और पुलिस जाब्ते को भी मंगवा लिया। बाद में नायब तहसीलदार ने कार्रवाई करते हुए वहां से टेªक्टर को जब्त कर लिया। बाद में माताजी का खेड़ा सरहद पर नंदीशाला के पास भी काफी तादाद में पेड़ काटे हुए पाये गये तथा मौके पर जेसीबी खड़ी मिली। नायब तहसीलदार ने जेसीबी को जब्त कर ली है।
इस दौरान एसडीएम चोहान ने राजस्व विभाग के कार्मिको को फटकार लगाते हुए कहा कि चरागाह में कोई कैसे बिना किसी की परमिशन या सहमति के पेड़ काट व उखाड़ सकता हैं। आखिर पटवारी व गिरदारवर फिल्ड में नहीं जाते है क्या। विगत एक पखवाड़े से भी ज्यादा समय से चल रही है पेड़ उखाड़ने की कार्रवाई की विभाग को सूचना क्यों नहीं मिली। चरागाह को संरक्षित रखने का काम सरकार का है। एसडीएम ने कहा कि चरागाह से एक भी पेड़ किसी को काट कर ले जाने नहीं दिया जायेगा। उन्होंने नायब तहसीलदार को हलके के चरागाह में निगरानी को मजबूत करने के निर्देश देते हुए कहा कि यहां मौजूद पेड़ों को जरिये निलामी के विक्रय किया जाए तथा उससे प्राप्त राशि को राजकोष में जमा कराया जाए।
एसडीएम चोहान द्वारा शाहपुरा के चरागाह में की गई इस बड़ी कार्रवाई से अवैध रूप से पेड़ काटने वालों में हड़कंप मच गया है। एसडीएम चोहान के मुताबिक चरागाह में अतिक्रमण करने वालों के खिलाफ भी कार्रवाई अमल में लायी जायेगी। एसडीएम चोहान ने चरागाह की भूमि के संबंध में तहसीलदार व नगर पालिका के ईओ से तथ्यात्मक रिपोर्ट भी मांगी है।
ईंट भट्टों में काम आती है लकड़ियों का चूरा
चरागाह से जो पेड़ काटे या उखाड़े जाते है उनका ट्रेक्टर की सहायता से चूरा किया जाता है तथा बड़ी बड़ी लकड़ियों से कोयला तैयार किया जाता है। लकड़ी का चूरा ईंट भट्टों वालों के ईंट की पकाई करने के काम में आता है। कतिपय ठेकेदार इस प्रकार से पेड़ काट कर लकड़ी का चूरा सप्लाई करने का कार्य करते है।
चरागाह में अतिक्रमण की भी है समस्या
शाहपुरा सहित तहसील के अन्य क्षेत्रों में चरागाह की भूमि पर अवैध रूप् से अतिक्रमण करने की भी काफी समस्या है। हर गांव में प्रभावशाली लोग चरागाह भूमि को अपनी बता कर अतिक्रमण कर उस भूमि का उपयोग पैदावार के लिए करते है। इस कारण गांव गांव में आये दिन लड़ाई झगड़े भी होते है। अब तक प्रभावी कार्रवाई के अभाव में अतिक्रमण की समस्या भी नासूर बनती जा रही है।

Support us

कोई भी मीडिया हो उन्हें कभी फंड की चिंता नहीं करनी पड़ती क्यूंकि लोकतंत्र को बचाने के नाम पर उन्हें विभिन्न स्रोतों से पैसा मिलता है। लेकिन हमें सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके समर्थन की आवश्यकता है। आपसे जितना हो सके हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Donate with

Check Also

भीलवाड़ा जिला कलेक्टर पहुंचे मृतकों के घर परिजनों को दी सांत्वना, सौंपे सीएम सहायता राशि के चेक

चित्तौड़गढ़-कोटा राष्ट्रीय राजमार्ग दुर्घटना भीलवाड़ा जिला कलेक्टर पहुंचे मृतकों के घर परिजनों को दी सांत्वना, …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *