Home / राजस्थान / भीलवाड़ा / समय पर सही दवा से हो इलाज, तो जल्द मिलेगा मिर्गी रोग से छुटकारा-डाॅ. भूषण
समय पर सही दवा से हो इलाज, तो जल्द मिलेगा मिर्गी रोग से छुटकारा-डाॅ. भूषण
समय पर सही दवा से हो इलाज, तो जल्द मिलेगा मिर्गी रोग से छुटकारा-डाॅ. भूषण

समय पर सही दवा से हो इलाज, तो जल्द मिलेगा मिर्गी रोग से छुटकारा-डाॅ. भूषण

भीलवाडा- राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम के अन्तर्गत आईएमए हाॅल में मंगलवार को आयोजित इपिलेप्सी (मिर्गी रोग) प्रशिक्षण कार्यशाला में चिकित्सकों को सम्बोधित करते हुए प्रोफेसर न्यूरोलाॅजी एआईआईएमएस, नई दिल्ली डाॅ. ममता भूषण सिंह ने स्लाईड शो के माध्यम से बताया कि मिर्गी रोग एक सामान्य बीमारी है। सही समय पर इलाज होने से इस बीमारी को ठीक किया जा सकता है। अंधविश्वास के कारण लोग इसे लाइलाज बीमारी मानते है, लेकिन समय पर सही दवा से मिर्गी रोग के मरीजों को ठीक किया जा सकता है साथ हीं दौरा पड़ने पर उपचार के माध्यम से दुबारा आने वाले दौरे को रोका जा सकता है इसके लिए चिकित्सक फिल्ड में मरीजों को सही दवा देकर ईलाज में आ रहे गैप को कम करने का कार्य करें।
डाॅ. भूषण ने कार्यशाला में मिर्गी रोग के लक्षण, उपचार की चर्चा कर चिकित्सकों को बताया कि भारत में अधिकतर रोगी ईलाज तो कराना चाहते है, परन्तु सही ईलाज, सही चिकित्सक व प्राईमरी केयर के अभाव में मिर्गी रोगियों की संख्या बढ रही है और दौरे आने पर मरीज मृत्यु को भी प्राप्त हो जाता है। मिर्गी रोग को लेकर अभी भी ग्रामीण क्षेत्रों में भ्रांतिया व अंधविश्वास हैं। इसे कम करने के लिए फिल्ड में जागरूकता के साथ हीं मरीजों को प्राईमरी केयर के लिए चिकित्साकार्मिकों को तैयार कर सही दवा शुरू करके आपसी समझाईश के माध्यम से इन भ्रांतियों को समाप्त किया जा सकता है। चिकित्सकों को चाहिए कि वे मिर्गी रोगियों को जाने, समझे और प्रत्येक मरीज की हिस्ट्री लेकर उसका सही ईलाज शुरू करें। जिससे कि उनके जीवन को सुरक्षित
बनाया जा सके। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. मुस्ताक खान द्वारा स्वागत उद्बोधन के बाद कार्यशाला का शुभारंभ किया गया। इस दौरान राजपरिवार शाहपुरा से शत्रुजीत सिंह, मायासिंह, ओम सेन (सचिव), डिप्टी सीएमएचओ डाॅ. घनश्याम चावला, जिला नोडल अधिकारी एनएमएचपी डाॅ. एसपी आगीवाल, समस्त बीसीएमओ, समस्त सीएचसी/पीएचसी इंचार्ज, एफसीएलसी पीयूष पुरोहित, जिला कार्यक्रम समन्वयक सुमित श्रीमाली, जिला आईईसी समन्वयक अशोक प्रजापत, आॅडियोमेट्रिक असिस्टेन्ट जितेन्द्र शर्मा सहित अन्य पदाधिकारी मौजूद थे।
कार्यशाला में डाॅ. भूषण ने मिर्गी रोग से जुडी चिकित्सकों की जिज्ञासाओं को शांत किया और बताया कि गलत जानकारी की वजह से बहुत से लोग मिर्गी का इलाज करवाने के लिए सही डाॅक्टर की बजाए झाड़-फूंक करने वालों के पास पहुंच जाते हैं, जो गलत है। चिकित्सा के क्षेत्र में दवाओं के माध्यम से इस रोग का उपचार थोड़ा लंबा है, लेकिन इस पर काबू पाया जा सकता है। लोगों को चाहिए कि मिर्गी रोग से जुड़ी गलत जानकारियों व सूचनाओं पर ध्यान न देकर विशेषज्ञ डाॅक्टरों से संपर्क कर अपना ईलाज शुरू करावे। इसी सन्दर्भ में 11 व 12 दिसम्बर को रेतियाबाग, दरबार की कोठी, शाहपुरा में निःशुल्क मिर्गी रोग जांच व परामर्श शिविर का आयोजन किया जायेगा।

Support us

कोई भी मीडिया हो उन्हें कभी फंड की चिंता नहीं करनी पड़ती क्यूंकि लोकतंत्र को बचाने के नाम पर उन्हें विभिन्न स्रोतों से पैसा मिलता है। लेकिन हमें सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके समर्थन की आवश्यकता है। आपसे जितना हो सके हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Donate with

Check Also

भीलवाड़ा जिला कलेक्टर पहुंचे मृतकों के घर परिजनों को दी सांत्वना, सौंपे सीएम सहायता राशि के चेक

चित्तौड़गढ़-कोटा राष्ट्रीय राजमार्ग दुर्घटना भीलवाड़ा जिला कलेक्टर पहुंचे मृतकों के घर परिजनों को दी सांत्वना, …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *