Home / राजस्थान / बीकानेर / समाजसेवी संगठन व जनप्रतिनिधि सोमवार करेंगे तहसील मुख्यालय पर प्रदर्शन, सोमवार को बाजार रखेंगे बंद

समाजसेवी संगठन व जनप्रतिनिधि सोमवार करेंगे तहसील मुख्यालय पर प्रदर्शन, सोमवार को बाजार रखेंगे बंद

छत्तरगढ़ को पंचायत समिति नहीं बनाने पर समाजसेवी संगठनों से जताया रोष

समाजसेवी संगठन व जनप्रतिनिधि सोमवार करेंगे तहसील मुख्यालय पर प्रदर्शन, सोमवार को बाजार रखेंगे बंद

छत्तरगढ़ राज्य सरकार द्वारा छत्तरगढ़ को पंचायत समिति घोषित नहीं करने पर क्षेत्र में सरकार प्रति चारों ओर विरोध शुरू हो गया है।इसको लेकर विभिन्न संगठन व जनप्रतिनिधि एकजुटता से आगे आते हुए सोमवार को छत्तरगढ़ बाजार बंद रखते हुए तहसील मुख्यालय पर धरना- प्रदर्शन कर राज्य सरकार अपनी गहरी नाराजगी जाहिर करते हुए छत्तरगढ़ एसडीएम को सामुहिक ज्ञापन सौंपेगे।गौरतलब है कि राज्य सरकार द्वारा पंचायतीराज विभाग की ओर से पंचायत समितियों के पुनर्गठन तहत छत्तरगढ़ को पंचायत समिति बनाने को लेकर स्थानीय प्रशासन ने आमजन की आम सहमति के बाद जिला प्रशासन को प्रस्ताव भेजा था।जिला प्रशासन ने अपनी सहमति जताते हुए छत्तरगढ़ को पंचायत समिति बनाने के लिए पंचायतीराज विभाग पास उसका प्रस्ताव भेजा था।लेकिन राज्य सरकार द्वारा गत दिन जिले में नई पंचायत समितियों की सूची जारी की गई लेकिन छत्तरगढ़ को पंचायत समिति घोषित नहीं किया गया।इसको लेकर आमजन सहित विभिन्न संगठनों व जनप्रतिनिधि ने रविवार को गहरी नाराजगी क्षेत्रिय विधायक व पंचायत राजमंत्री प्रति जाहिर की।इसको लेकर छत्तरगढ़ परचून एसोसिएशन संघ,भाजपा जिला एससी देहात मोर्चा,छत्तरगढ़ विकास समिति,युवा छात्र संघर्ष समिति सहित अन्य संगठनों ने रविवार को अपनी सक्रियता दिखाते हुए सोमवार को उपखंड मुख्यालय के मुख्य बाजार से एक जुलूस के रूप में एसडीएम कार्यालय समक्ष धरना प्रदर्शन करते हुए छत्तरगढ़ एसडीएम को राज्य सरकार के नाम सयुंक्त ज्ञापन सौंपेगें।परचून एसोसिएशन संघ अध्यक्ष श्यामसुंदर रिणवां,भाजपा एएसी जिला मोर्चा महामंत्री ओमप्रकाश मेघवाल,छत्तरगढ़ विकास समिति अध्यक्ष श्रवण भाम्भू,छात्र संघर्ष समिति संयोजक रामकुमार सिहाग सहित अन्य समाजसेवी संगठनों व जनप्रतिनिधियों ने बताया कि राज्य सरकार ने छत्तरगढ़ को पंचायत समिति घोषित नहीं करके छत्तरगढ़ क्षेत्र की जनता साथ धोखा किया।उन्होंने कहा कि राज्य सरकार की मंशा छत्तरगढ़ की जनता प्रति सही नहीं है।विभिन्न जनप्रतिनिधियों ने कहा कि छत्तरगढ़ क्षेत्र की जनता को पंचायत समिति कार्य के लिए यहां से करीब 90 किलोमीटर की दूरी तय कर लूणकरनसर व खाजूवाला जाना पड़ता है।जो आमजन के लिए संभव नहीं है।किसान नेता अशोक खन्ना व पन्नाराम गोदारा ने कहा कि राज्य सरकार ने छत्तरगढ़ को पंचायत समिति घोषित नहीं करके छत्तरगढ़ क्षेत्र के किसानों साथ अन्याय किया गया है।उन्होंने पंचायतीराज विभाग से छत्तरगढ़ को पंचायत समिति घोषित करने की मांग की है।

About G News Portal

Check Also

बीकानेर में डेंगू का प्रकोप: अब तक 4 लोगों की मौत, प्रभावित मरीजों की संख्या 500 के ऊपर |

बीकानेर में डेंगू का प्रकोप: अब तक 4 लोगों की मौत, प्रभावित मरीजों की संख्या …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *