Home / राजस्थान / करौली / सर्राफा व्यापारी से ल

सर्राफा व्यापारी से ल

लूट के विरोध में तीसरे दिन भी जारी रहा व्यापारियों का धरना, समझाईस के लिए आये विधायक समर्थकों व धरनार्थियों में हुई झडप,

पुलिस उपाधीक्षक ने आपसी समझाईस कर कराया मामला शांत,

टोडाभीम,करौली

कस्बे के एक सर्राफा व्यापारी के साथ तीन दिन पूर्व हुई लूट की वारदात के विरोध में व्यापारियों का धरना तीसरे दिन भी जारी रहा | धरना स्थल पर आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए कस्बे के मुख्य चौराहे पर तीन दिन से धरने पर बैठे व्यापारियों से दूसरी बार समझाईस करने पहुचे क्षेत्रीय विधायक के द्वारा व्यापारियों से धरना समाप्त करने की बात पर विधायक के समर्थक व धरना स्थल पर बैठे धरनार्थीयो की आपस में हुई झड़प से मामला गरमा गया | जिससे लोगो में अफरा तफरी मच गयी वही धरन स्थल पर मौजूद पुलिस उपाधीक्षक झाबरमल यादव सहित उपस्थित पुलिसकर्मियों के द्वारा बड़ी मश्क्क्त के बाद मामला शांत करवाया गया | साथ ही व्यापारी आरोपियों की गिरफ़्तारी की मांग पर अड़े रहे और क्षेत्रीय विधायक को धरना स्थल से बिना समझाईस के ही लौटना पड़ा | 

इस दौरान सेवानिवृत पूर्व मजिष्ट्रेट श्याम लाल मीना ने कहा कि जब तक लूट के आरोपियों की गिरफ्तारी नही हो जाती तब तक हम धरना स्थल से नही हटेंगे | हम पुलिस और नेताओं के झूठे आश्वसन पर भरोसा नही कर सकते |

पूर्व पालिका उपाध्यक्ष रूपसिंह मीना ने कस्बे के व्यापारियों को संबोधित करते हुए कहा कि हम धरना स्थल से तभी हटेंगे जब पुलिस लूट के आरोपियों को गिरफ्तार कर लेगी | हम पुलिस व नेताओ के द्वारा दिये जा रहे झूठे आश्वासनों के झासे में नही आएंगे | धरना प्रदर्शन के दौरान व्यापारियों के समर्थन में आये पूर्व जिला प्रमुख शिवदयाल मीना ने भी उक्त घटना की हम कड़े शब्दों में निंदा करते हुए कहा कि घटना के तीन दिन बाद भी पुलिस लूट के आरोपियों को गिरफ्तार करने में नाकाम रही है । साथ ही कस्बे के बाजार तीन दिन से बन्द रहने व कृषि उपज मंडी के बन्द रहने से क्षेत्र के किसान सहित क्षेत्र के लोगो को भी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है | पूर्व पालिका उपाधीक्षक रूपसिंह मीना ने चेतावनी देते हुए कहा की यदि व्यापारी के साथ हुई लूट के आरोपियों की शिघ्र गिरफ्तारी नही हुई तो मंगलवार से उग्र आन्दोलन किया जावेगा | साथ ही हमारा धरना यथावत जारी रहेगा |

Support us

कोई भी मीडिया हो उन्हें कभी फंड की चिंता नहीं करनी पड़ती क्यूंकि लोकतंत्र को बचाने के नाम पर उन्हें विभिन्न स्रोतों से पैसा मिलता है। लेकिन हमें सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके समर्थन की आवश्यकता है। आपसे जितना हो सके हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Donate with

Check Also

बाजारों में भीड़, कैसे हारेगा कोरोना

देवउठनी एकादशी के कारण इस समय बाजारों में जबरदस्त भीड़ उमड़ रही है। लोग बाजारों …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *