Home / देश / हरियाणा में 23 साल में पहली बार ऐसा हुआ, सीएम ने अपने पास नहीं रखा गृह मंत्रालय |

हरियाणा में 23 साल में पहली बार ऐसा हुआ, सीएम ने अपने पास नहीं रखा गृह मंत्रालय |

हरियाणा में 23 साल में पहली बार ऐसा हुआ, सीएम ने अपने पास नहीं रखा गृह मंत्रालय |

हरियाणा में भारतीय जनता पार्टी के सबसे वरिष्ठ विधायक अनिल विज ने शुक्रवार को गृह मंत्रालय का प्रभार संभाल लिया। हरियाणा में 23 साल में ऐसा पहली बार हुआ है जब किसी मुख्यमंत्री ने गृह मंत्रालय का स्वतंत्र प्रभार खुद छोड़कर किसी और कैबिनेट मंत्री या विधायक को दिया हो।

पिछले 23 सालों को देखें तो मुख्यमंत्री चाहे ओम प्रकाश चौटाला रहे हों, भूपेंद्र सिंह हुड्डा हों या फिर पिछली सरकार में मनोहर लाल खट्टर, किसी भी मुख्यमंत्री ने गृह मंत्रालय का चार्ज किसी और मंत्री को नहीं दिया था और हमेशा ही यह मंत्रालय मुख्यमंत्री के पास ही रहा। हालांकि, कुछ मुख्यमंत्रियों ने बीच में गृह मंत्रालय के लिए राज्यमंत्री भी अटैच किए थे लेकिन फिर भी गृह मंत्रालय का मुख्य कामकाज खुद मुख्यमंत्री ने ही संभाला।

दरअसल, गृह मंत्रालय के अंदर राज्य की पुलिस और तमाम जिलों के डीसी व पूरा प्रशासनिक अमला आता है। इसी वजह से कोई भी मुख्यमंत्री गृह मंत्रालय का मोह छोड़ने को राजी नहीं होता।

हरियाणा के गृह मंत्री बनाए जाने पर अनिल विज ने कहा, ‘डिपार्टमेंट देने का विशेषाधिकार मुख्यमंत्री का होता है और वो जो डिपार्टमेंट देना चाहें वो दे सकते हैं। सरकार में कद डिपार्टमेंट से नहीं वरिष्ठता से होता है और मैं वरिष्ठ हूं, इसमें कुछ कहने की जरूरत नहीं है।’ 

Support us

कोई भी मीडिया हो उन्हें कभी फंड की चिंता नहीं करनी पड़ती क्यूंकि लोकतंत्र को बचाने के नाम पर उन्हें विभिन्न स्रोतों से पैसा मिलता है। लेकिन हमें सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके समर्थन की आवश्यकता है। आपसे जितना हो सके हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Donate with

Check Also

25 नवंबर से बिना कोरोना रिपोर्ट के एंट्री नहीं

25 नवंबर से बिना कोरोना रिपोर्ट के एंट्री नहीं  महाराष्ट्र महाराष्ट्र जाने के लिए RT-PCR …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *