Home / उत्तराखंड / चमोली / हेमकुंड साहब यात्रा रुट पर अप्रैल माह के शुरुआती सप्ताह में सेना की मद्दत से बर्फ हटाने का काम किया जता था, जो कि महामारी के कारण अभी तक तक नही किया गया।

हेमकुंड साहब यात्रा रुट पर अप्रैल माह के शुरुआती सप्ताह में सेना की मद्दत से बर्फ हटाने का काम किया जता था, जो कि महामारी के कारण अभी तक तक नही किया गया।

नवीन भंडारी की खास रिपोर्ट

हेमकुंड साहब यात्रा रुट पर अप्रैल माह के शुरुआती सप्ताह में सेना की मद्दत से बर्फ हटाने का काम किया जता था, जो कि महामारी के कारण अभी तक तक नही किया गया।

सिखों के पवित्र स्थान जो कि 15200 फ़ीट की ऊंचाई पर स्थित है यहां भी देश मे तेजी से अपने पैर पसार रही महामारी कोरोना का असर दिखाई देने लगा है। हेमकुंड साहिब के कपाट खुलने से पहले ही भारतीय सेना द्वारा बर्फ हटाने का काम शुरू किया जाता था लेकिन लॉक डाउन के चलते इस बार अभी तक तय ही नही हुआ कि कब तक मार्ग साफ किया जाएगा । बताया जा रहा है कि हेमकुण्ड साहिब में इनदिनों 30 फ़ीट से अधिक बर्फ जमी है, जबकि पहले पड़ाव में लगभग 3 से 4 फ़ीट बर्फ जमी है। बता दें कि उत्तराखंड के चमोली जनपद के जोशीमठ ब्लॉक में हेमकुण्ड साहिब सिक्खो का पवित्र तीर्थ स्थल है, हेमकुंड साहिब की यात्रा कभी 25 मई को तो कभी 1 जून से शुरू होती है । लेकिन यहां भारी बर्फबारी होने के चलते अभी तक कोई तैयारी भी नही हो पाई है ,जबकि मार्ग से बर्फ हटाये जाने में लगभग 45 दिन से अधिक का समय लगता है। कोरोना महामारी के चलते हेमकुण्ड साहिब की यात्रा तैयारियों में अभी देरी हो रही है।इसके साथ अभी तक यात्रा से जुड़ी एडवाइजरी भी जारी नही की गई है। जबकि इस बार पिछले वर्षों के मुकाबले सिख धाम में बहुत ज्यादा बर्फ है।

Support us

कोई भी मीडिया हो उन्हें कभी फंड की चिंता नहीं करनी पड़ती क्यूंकि लोकतंत्र को बचाने के नाम पर उन्हें विभिन्न स्रोतों से पैसा मिलता है। लेकिन हमें सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके समर्थन की आवश्यकता है। आपसे जितना हो सके हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Donate with

Check Also

हंस फाउंडेशन दे रहा है जोशीमठ के सभी गांव में अपनी सेवा

हंस फाउंडेशन हेल्प एज संस्था आज से अपनी पूर्ण सेवा जोशीमठ के सभी गांव में …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *