Home / धर्म / दिगम्बर जैन समाज ने मनाया क्षमावाणी पर्व

दिगम्बर जैन समाज ने मनाया क्षमावाणी पर्व

दिगम्बर जैन समाज ने मनाया क्षमावाणी पर्व

सवाई माधोपुर, दिगम्बर जैन समाज के पर्युषण महापर्व की शुरूआत उत्तम क्षमा धर्म से होती है और समापन भी क्षमावाणी पर्व के रूप में होता है। पर्युषण पर्व के अवसर पर गणिनी आर्यिका विशुद्धमति ससंघ के सानिध्य एवं स्वर्ण विशुद्ध वर्षायोग समिति के तत्वावधान में सकल दिगम्बर जैन समाज द्वारा क्षमावाणी पर्व मनाया गया। इस दौरान नगर परिषद क्षेत्र में स्थित सभी 14 जिनालयों में जिनेन्द्र भगवान के बड़े कलशाभिषेक, श्रीजी की माल सहित विभिन्न धार्मिक कार्यक्रमों की धूम रही। समाज के महिला-पुरूष एवं बच्चे एक-दूसरे से क्षमा मांगने के लिए उमड़ पड़े।

वर्षायोग समिति के प्रवक्ता प्रवीण जैन ने बताया कि जिनालयों में सुबह जिनेन्द्र भगवान का मंत्रोचार से अभिषेक व शांतिधारा की गई।

इस अवसर पर आलनपुर स्थित दिगम्बर जैन अतिशय क्षेत्र चमत्कारजी के विशुद्ध सभागार में गणिनी आर्यिका विशुद्धमति ने कहा कि पर्व का अर्थ है जो हमारी आत्मा को पवित्र कर पापों से बचाये और पुण्य का संचय करा दे। मनुष्य के जीवन में अज्ञान, अहंकार व प्रमादवश भूल हो जाना स्वभाविक है। मन की गाँठ खोल वैर-भाव का त्याग कर, क्षमा-भाव धारण करने से ही परमार्थ की सिद्धि हो सकती है। आत्मशुद्धि के पावन पुनीत पर्व-क्षमावाणी पर जो क्षमा करते है और क्षमा मांगते है वही संसाररूपी समुद्र को पार कर लेते है। “क्षमा मानव जीवन की शोभा है, क्षमा हृदय का आभूषण है।‘‘ क्षमावाणी पर यह संदेश देते हुए आर्यिका माताजी ने सभी मंगल आशीर्वाद प्रदान किया।

इस मौके पर दसलक्षण महापर्व के दौरान तप-आराधना करने वाले तपस्वियों को वर्षायोग समिति के पदाधिकारियों द्वारा उनके तप की अनुमोदना करते हुए पुरस्कृत किया गया।

कलशाभिषेक कार्यक्रम के पश्चात शहर के पाश्र्वनाथ दिगम्बर जैन पंचायती मन्दिर में समाज के कार्यवाहक अध्यक्ष पदम कुमार छाबड़ा के सानिध्य में सभी व्यक्ति मंदिर के सभा भवन में एकत्रित हुए। वक्ताओं ने क्षमावाणी पर अपने-अपने विचार व्यक्त भी किये। सभी ने आपस में जाने-अनजाने में हुई भूलों के लिए हाथ जोड़कर एक-दूसरे से क्षमा मांगी, गले मिले, बुजुर्गों के चरण स्पर्श किये। साथ ही घर-घर जाकर भी क्षमा मांगी।

Support us

कोई भी मीडिया हो उन्हें कभी फंड की चिंता नहीं करनी पड़ती क्यूंकि लोकतंत्र को बचाने के नाम पर उन्हें विभिन्न स्रोतों से पैसा मिलता है। लेकिन हमें सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके समर्थन की आवश्यकता है। आपसे जितना हो सके हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Donate with

Check Also

महात्मा ज्योति राव फूले की पुण्यतिथि मनाई

महात्मा ज्योति राव फूले की पुण्यतिथि मनाई है  गंगापुर सिटी  सूरसागर गंगापुर सिटी स्थित माली …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *